Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजअसम की सड़क पर खुलेआम उड़ाया शिव-पार्वती का मजाक, पैसे लेकर मोदी सरकार को...

असम की सड़क पर खुलेआम उड़ाया शिव-पार्वती का मजाक, पैसे लेकर मोदी सरकार को कोसा: शिकायत के बाद एक्टर गिरफ्तार

बिरिंची बोरा नाम के एक्टर के विरुद्ध शिकायत दर्ज इसलिए नहीं हुई कि उसने शिव के भेष में मोदी विरोधी बातें कहीं बल्कि उसकी व्हॉट्सएप चैट के कारण लोग उससे अधिक नाराज हैं। इसमें उसने माना हुआ है कि उसने ये हरकत पैसों के लिए की और हिंदू भगवान का मजाक भी उड़ाया।

असम के नौगाँव में बीच सड़क पर हिंदुओं की भावनाएँ आहत करने पर बिरिंची बोरा नाम के व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। आरोप है कि बोरा ने भगवान शिव की वेषभूषा धारण कर राजनीतिक उद्देश्य से एक स्ट्रीट प्ले किया और मोदी विरोधी भाषण दिया। नाटक में शिव के भेष में बोरा बाइक से आते हुए (पार्वती का किरदार निभाने वाली) एक महिला के साथ दिखे थे। इसके बाद दोनों को बढ़ती महंगाई पर मोदी सरकार को कोसते देखा गया।

हिंदू संगठनों ने इस तरह प्रदर्शन में हिंदुओं के देव महादेव का मजाक उड़ता देख अपनी शिकायत नौगाँव थाने में दी। विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल, भाजपा युवा मोर्च और अन्य संगठनों के प्रदर्शन के बाद बोरा को गिरफ्तार कर लिया गया और नौगाँव थाने ले जाया गया।

सामने आई तस्वीरों में देख सकते हैं कि स्ट्रीट प्ले के दौरान बिरिंची बोरा और उसकी को-एक्टर परिश्मिता शिव-पार्वती जैसे वस्त्र पहन दुपहिया पर जा होते हैं कि तभी फ्यूल न होने के कारण उनकी गाड़ी रुक जाती है। इसके बाद उनके बीच बहस होती है और शिव के भेष में बोरा मोदी सरकार को भला-बुरा बोलना शुरू करता है।

शिव का किरदार निभाते हुए बोरा कहता है कि मोदी ने वादा किया था कि पेट्रोल-डीजल सस्ता होगा, लेकिन अब तो इनकी कीमत 100 रुपए तक पहुँच गई है। इसके बाद वह ये भी कहता है कि पहले तो खाने से लेकर तेल, सबके दाम सस्ते थे, लेकिन मोदी सरकार के आने के बाद सब महंगा हो गया है।

गौर देने वाली बात यह थी कि बोरा ने यह सब केवल स्ट्रीट प्ले के दौरान नहीं कहा बल्कि स्ट्रीट प्ले जब खत्म हो गया उसके बाद भी शिव के भेष में वह मीडिया से मोदी सरकार पर अपना गुस्सा दिखाता हुआ दिखा।

उसने कहा, “हमने मोदी सरकार को यहाँ भेजा लेकिन वो असफल हो गए। अब हमें इस जगह कोई और चाहिए।” बोरा ने दावा किया कि मोदी सरकार ने देश को लूटने का काम किया है जिसके कारण भारत में महंगाई आई है। बोरा जनता से अपील करता है कि मोदी सरकार के खिलाफ सड़कों पर प्रदर्शन करें।

वहीं पार्वती का भेष में आनी वाली एक्ट्रेस बताती है कि उन्होंने लोगों में बढ़ती महंगाई पर जागरूकता फैलाने के लिए यह नाटक किया। लोग उनकी बातें सुनते नहीं इसलिए उन्होंने ज्यादा प्रभावशाली दिखने के लिए शिव और पार्वती के कपड़े पहने।

बता दें कि बोरा के विरुद्ध शिकायत दर्ज किए जाने का केवल एक अकेला कारण यह नहीं है कि उसने शिव के भेष में मोदी विरोधी बातें कहीं बल्कि उसकी व्हॉट्सएप चैट के कारण लोग उससे अधिक नाराज हैं। इसमें उसने माना हुआ है कि उसने ये हरकत पैसों के लिए की और हिंदू भगवान का मजाक भी उड़ाया। उसने चैट में प्ले से जुड़े वीडियो को लेकर किसी को बताया हुआ था, “खबरें देखों तुम्हारे शिव-पार्वती का खूब मजाक उड़ाया है।”

इसके अलावा उसने अपने नाटक की वीडियो भी भेजी थी जिसके बाद वह व्यक्ति भगवान का अपमान देख बौखला गया और बोरा को सुनाने लगा। इस पर बोरा ने कहा कि ऐसा करने में कुछ भी गलत नहीं है। पैसे के लिए कुछ भी किया जा सकता है।

जब व्यक्ति ने बोरा से पूछा कि पैसों के लिए कोई इतना कैसे गिर सकता है तो उसने कहा कि उसने एक नाटक किया जिसके उसे पैसे मिले। इसके बाद व्यक्ति ने बोरा को केस की धमकी दी और फिर बोरा गाली-गलौच पर उतर आया। ये चैट सोशल मीडिया पर वायरल हो रखी है। संगठनों की शिकायत के बाद बोरा गिरफ्तार है। उससे अभी ये नहीं पता चल सका है कि शिव के भेष में मोदी सरकार को भला-बुरा बोलने के लिए उसे किसने पैसे दिए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -