Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाज'हम मदरसों की संख्या कम करना चाहते हैं': असम CM का स्पष्ट बयान, बोले-...

‘हम मदरसों की संख्या कम करना चाहते हैं’: असम CM का स्पष्ट बयान, बोले- सामान्य शिक्षा देना है उद्देश्य

AIUDF के चीफ बदरुद्दीन अजमल और AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने इसको लेकर असम की सरमा सरकार पर निशाना साधा था। उस वक्त सीएम सरमा ने कहा था कि अगर मदरसों में देश विरोधी गतिविधियाँ हुईं तो उनको ढहा दिया जाएगा।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (Assam CM Himanta Biswa Sarma) एक्शन में हैं। उन्होंने ऐलान किया है कि राज्य में मदरसों की संख्या को कम किया जाएगा। सीएम सरमा ने कहा कि वे मदरसों (Madarsa) सामान्य शिक्षा देना चाहते हैं। इसलिए इनका पंजीकरण कराया जाएगा।

सीएम सरमा ने कहा, “हम पहले फेज में राज्य में मदरसों की संख्या कम करना चाहते हैं। हम चाहते हैं कि मदरसों में सामान्य शिक्षा दी जाए। इसके लिए हम समुदाय के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और वे (मुस्लिम) भी सरकार की मदद कर रहे हैं।”

राज्य के डीजीपी भास्कर ज्योति महंत ने कहा 17 जनवरी 2023 को कहा था कि राज्य में मदरसों में सुधार लाने के लिए चर्चा जारी है। उन्होंने कहा, “मदरसों में और सुधार लाने, नियम तय करने और बोर्ड बनाने पर भी चर्चा हुई। हमने छोटे मदरसों को बड़े मदरसों में मिलाने पर भी बात की।” उन्होंने कहा कि करीब 100 छोटे मदरसों को बड़े मदरसों में मिला दिया गया है।

इससे पहले मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कुछ दिन पहले कहा था कि राज्य के मदरसों में पढ़ाने के लिए राज्य के बाहर से आए मौलानाओं को समय-समय पर नजदीकी पुलिस स्टेशन में हाजिर होने के लिए कहा जा सकता है। उन्होंने कहा था कि असम में लगभग 3000 पंजीकृत और अपंजीकृत मदरसे हैं।

बता दें कि असम सरकार राज्य में अवैध मदरसों और मौलानाओं को लेकर सख्त है और उन पर लगातार कार्रवाई कर रही है। सीएम सरमा के कई फैसलों पर मुस्लिम नेताओं ने आपत्ति जताई थी। पिछले दिनों कई मदरसों को गिरा दिया गया।

AIUDF के चीफ बदरुद्दीन अजमल और AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने इसको लेकर असम की सरमा सरकार पर निशाना साधा था। उस वक्त सीएम सरमा ने कहा था कि अगर मदरसों में देश विरोधी गतिविधियाँ हुईं तो उनको ढहा दिया जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -