Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजJNU: पहले पूछा 'बिहारी हो?' हाँ कहते ही मारे थप्पड़, उठक-बैठक लगवाई

JNU: पहले पूछा ‘बिहारी हो?’ हाँ कहते ही मारे थप्पड़, उठक-बैठक लगवाई

पीड़ित ने जेएनयू की एंटी रैगिंग कमिटी और वसंत कुंज नाॅर्थ थाना पुलिस में शिकायत दर्ज की है। पुलिस ने अभी तक आरोपित के खिलाफ कोई करवाई नहीं की है।

अक्सर विवादों में रहने वाली जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में सेंटर ऑफ जर्मन स्टडीज के बीए फर्स्ट ईयर के छात्र से रैगिंग का मामला सामने आया है। JNU में BA फर्स्ट इयर कोर्स में पढ़ने वाले छात्र ने पुलिस से रैगिंग की शिकायत दर्ज कराई है। छात्र का आरोप है कि एक पीएचडी स्काॅलर ने कैंपस में उसके साथ मारपीट की और कान पकड़कर उठक-बैठक भी लगवाई। यह घटना 18 जुलाई की है।

पीड़ित ने जेएनयू की एंटी रैगिंग कमिटी और वसंत कुंज नाॅर्थ थाना पुलिस में शिकायत दर्ज की है। पुलिस ने अभी तक आरोपित के खिलाफ कोई करवाई नहीं की है। रिपोर्ट्स के अनुसार, मामले की जाँच एंटी रैगिंग कमिटी कर रही है। पीड़ित स्टूडेंट ने ट्व‍िटर के जरिए MHRD और जेएनयू के वीसी से भी इसकी शिकायत की है।

‘यह दिल्ली है, यहाँ सलीके से रहा करो’

बिहार के रहने वाले 19 वर्षीय छात्र रवि राज ने बताया कि उसने 10 जुलाई को सेंटर ऑफ जर्मन स्टडीज में दाखिला लिया था। 18 जुलाई की शाम इंग्लिश स्टडीज का एक पीएचडी स्काॅलर विजय दहिया और दो अन्य युवक मिले। विजय ने पूछा- “तुम बिहारी हो?” हाँ में जवाब देते ही वह गाली देने लगा। आरोपित विजय ने रवि राज से कहा- “यह दिल्ली है, सलीके से रहा करो।” इसके बाद विजय ने रवि राज को फिर दाे थप्पड़ मारे, कान पकड़ उठक-बैठक लगवाने के बाद यह हिदायत भी दी कि आगे कभी भी मिलो तो नाक रगड़कर प्रणाम करना।

रवि राज ने 20 जुलाई को इस बारे में ट्वीट भी किया था, जिसमें उसने मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल और नित्यानंद राय समेत जेएनयू के वीसी को भी टैग किया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -