Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाजघर लौटे बिहार के श्रमिक बता रहे माहौल खराब, तमिलनाडु के डीजीपी ने हमले...

घर लौटे बिहार के श्रमिक बता रहे माहौल खराब, तमिलनाडु के डीजीपी ने हमले की खबरों को बताया गलत

तमिलनाडु के डीजीपी ने कहा है कि ​झूठे दावे के साथ दो वीडियो शेयर किए जा रहे हैं। ये वीडियो त्रिपुर और कोयंबटूर में हुई पुरानी घटनाओं के हैं। दोनों मामलों में ये बिहारी मजदूरों और तमिलनाडु के लोगों के बीच हुई झड़प नहीं थी।

तमिलनाडु में बिहारी मजदूरों के साथ कथित हिंसा पिछले कई दिनों से राष्ट्रीय स्तर पर विवादों में है। मीडिया रिपोर्टों में तमिलनाडु से बिहार लौटे श्रमिकों के हवाले से कई गंभीर दावे किए गए थे। हालाँकि तमिलनाडु पुलिस बिहारी श्रमिकों के साथ हिंसा की घटनाओं से इनकार कर रही है।

लेकिन दैनिक भास्कर ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी जिसमें तमिलनाडु में 15 बिहारी श्रमिकों की मौत का दावा किया गया था। 25 साल के अरमान के हवाले से दैनिक भास्कर ने यह बताया था। भास्कर ने अरमान से तब बात की थी, जब वह अपने 20 साथियों के साथ बिहार के जमुई लौट रहा था। उसने कहा था कि तमिलनाडु में बिहारी मजदूरों की हत्याएँ हुई हैं और शवों को नवादा, लखीसराय, जमुई भेजा गया है। लोग जैसे-तैसे तमिलनाडु से बिहार आ रहे हैं। मगर टिकट मिलने में बहुत दिक्कत है।

भास्कर को अरमान ने यह भी कहा था कि तमिलनाडु में उसके एक दोस्त से यह पूछकर कि क्या वो हिंदी है, उसकी 4 अंगुलियाँ काट दी गईं। इसी तरह 12 मजदूरों को कमरे में बंद करके फाँसी दे दी गई। कुल 15 मजदूरों की हत्या कर दी गई। लेकिन अब भास्कर ने इस रिपोर्ट को अपडेट किया है। इसमें अरमान के हवाले से किए गए हत्या सहित तमाम सनसनीखेज दावे हटा दिए गए हैं।

हालाँकि अपडेट रिपोर्ट में भी अरमान, श्रवण कुमार, राहुल, प्रमोद कुमार, रोहित कुमार जैसे बिहार लौटे श्रमिकों के हवाले से तमिलनाडु में माहौल खराब होने की बात कही गई है।

डीजीपी ने आरोपों को नकारा

बता दें कि सोशल मीडिया में कुछ वीडियो तमिलनाडु में बिहार के लोगों के साथ मारपीट के दावे के साथ वायरल हुए थे। भाजपा ने इस बाबत विधानसभा में प्रदर्शन भी किया। वहीं तमिलनाडु के डीजीपी ने इस वीडियो को लेकर दावा किया कि ये वीडियो झूठी है, जिसमें कहा जा रहा है कि तमिलनाडु में बिहारी मजदूरों को मारा जा रहा है। झूठे दावे के साथ दो वीडियो शेयर हो रही हैं। दोनों झूठी हैं।

डीजीपी शैलेंद्र के अनुसार, “ये दोनों घटनाएँ पहले की हैं जो त्रिपुर और कोयंबटूर में हुईं थीं। दोनों मामलों में ये बिहारी मजदूरों और तमिलनाडु के लोगों के बीच हुई झड़प नहीं थी। इनमें से एक में बिहारी मजदूरों का दो गुट एक दूसरे से भिड़ा हुआ है। दूसरी वीडियो में कोयंबटूर के स्थानीय लोग हैं। अब ये वीडियो इसलिए डाली जा रही है ताकि दिखा सकें कि कैसे बिहारियों पर यहाँ अत्याचार हो रहा है।”

अपडेट: दैनिक भास्कर की रिपोर्ट में तमिलनाडु में हिंदी भाषिक श्रमिकों की हत्या, अंगुलियाँ काटने, फाँसी पर लटकाने जैसे दावे किए गए थे। हमने स्पष्ट रूप से दैनिक भास्कर को क्रेडिट देते हुए ये दावे प्रकाशित किए थे। लेकिन राष्ट्रव्यापी विवाद के बाद दैनिक भास्कर ने अपनी रिपोर्ट अपडेट करते हुए वे दावे हटा लिए हैं। चूँकि भास्कर अपनी पूर्व की रिपोर्ट में किए गए दावों से पीछे हट गया है, इसलिए हमने भी अपनी रिपोर्ट में आवश्यक बदलाव किए हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

IAS बेटी ऑडी पर बत्ती लगाकर बनाती थी भौकाल, माँ-बाप FIR के बाद फरार: पूजा खेडकर को जाँच के बाद डॉक्टरों ने नहीं माना...

पूजा खेडकर का मामला मीडिया में उठने के बाद उनके माता-पिता से जुड़ी कई वीडियो सामने आई है। ऐसे में पुलिस ने उनकी माँ के खिलाफ एफआईआर की है।

शूटिंग क्लब का सदस्य था डोनाल्ड ट्रम्प पर गोली चलाने वाला, शिकारी वाली वेशभूषा थी पसंद: रिपब्लिकन पार्टी ने बुलाया राष्ट्रीय सम्मेलन, पूर्व राष्ट्रपति...

वो लगभग 1 साल से पास में ही स्थित 'क्लेयरटन स्पोर्ट्समेन क्लब' का सदस्य भी था। इसमें कई शूटिंग रेंज हैं। पहले से कोई भी आपराधिक या ट्रैफिक चालान का मामला दर्ज नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -