Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजअतीक अहमद के ऑफिस में मिला जो खून, वह शाहरुख का: रेस्टोरेंट की रसीद...

अतीक अहमद के ऑफिस में मिला जो खून, वह शाहरुख का: रेस्टोरेंट की रसीद से उठा सवाल- क्या माफिया ब्रदर्स की हत्या से पहले मिले थे गुड्डू मुस्लिम और शूटर

STF को उम्मीद है कि लवलेश तिवारी के घर से मिला बिल और रेस्टोरेंट का सीसीटीवी फुटेज अतीक की हत्या की गुत्थी सुलझाने में मदद करेगा। जिस वक्त अतीक और उसके भाई अशरफ की हत्या की गई थी, उस वक्त अशरफ मीडिया वालों से गुड्डू मुस्लिम का नाम लिया था। तभी गोली मारकर दोनों की हत्या कर दी गई थी।  

मारे गए गैंगस्टर अतीक अहमद के प्रयागराज स्थित कार्यालय में जाँच के दौरान मानवीय खून के धब्बे मिले थे। पुलिस ने इसको लेकर बड़ा खुलासा किया है। पुलिस ने एक शाहरूख नाम के एक शख्स को गिरफ्तार किया है। वह अतीक के ऑफिस में लोहा चोरी करने के इरादे से घुसा था। यह खून उसी का है।

इससे पहले पुलिस को आशंका थी कि इस दफ्तर में किसी व्यक्ति का खून किया गया है। हालाँकि, शाहरूख की गिरफ्तारी के बाद स्थिति साफ हो गई है। उसने पुलिस को बताया कि जब वह चोरी के इरादे से अतीक के दफ्तर में घुसा तो उसे चोट लग गई और उसका खून फर्श पर गिर गया।

डीएसपी दीपक भूकर ने बताया कि वह अपने एक साथी के संग उस घर में घुसा था। उसका साथी बाहर खड़ा हो कर चौकीदारी कर रहा था। जब उसे चोट लगी और खून बहने लगा तो वहाँ उसे जो भी कपड़ा मिला, उसी से वह खून को साफ करने लगा। यही कारण है कि वहाँ खून बिखर गया।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, डीएसपी ने बताया कि खून को साफ करने के लिए शाहरूख ने बाहर जाकर एक दुकान से पानी की बोतल भी खरीदने की कोशिश की थी, लेकिन उसके पास पैसे नहीं थे। पुलिस ने बताया कि वह नशेड़ी है। वहीं, उसके दूसरे साथी की तलाश की जा रही है।

इसके साथ ही अतीक की हत्या करने वाले शूटर लवलेश तिवारी को लेकर भी खुलासा हुआ है। दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक, गुड्डू मुस्लिम और एनकाउंटर में मारा गया असद अहमद प्रतापगढ़ में छिपने के दौरान लवलेश तिवारी से मिले थे। वहाँ तीनों ने एक रेस्टोरेंट में खाना भी खाया था।

कहा जा रहा है कि STF को लवलेश के ठिकाने से पट्टी क्षेत्र के उस रेस्टोरेंट का बिल भी मिला है। उस पर पूरा पता, बिल का समय भी दर्ज था। इसके बाद पुलिस ने रेस्टोरेंट के सीसीटीवी फुटेज को अपने कब्जे में ले लिया है। इस खुलासे के बाद STF सक्रिय हो गई है।

STF को उम्मीद है कि यह बिल और रेस्टोरेंट का सीसीटीवी फुटेज अतीक की हत्या की गुत्थी सुलझाने में मदद करेगा। बताते चलें कि जिस वक्त अतीक और उसके भाई अशरफ की हत्या की गई थी, उस वक्त अशरफ मीडिया वालों से कुछ कहना चाह रहा था। उसने गुड्डू मुस्लिम का जैसे ही नाम लिया, उसी दौरान लवलेश तिवारी और उसके साथियों ने दोनों पर गोलियाँ बरसाकर दोनों को मौत के घाट उतार दिया था।  

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -