Friday, July 19, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'कार में मेरी जाँघों को सहलाने लगा, फिर होटल में मेरी वर्जिनिटी भंग की':...

‘कार में मेरी जाँघों को सहलाने लगा, फिर होटल में मेरी वर्जिनिटी भंग की’: सेक्रेड गेम्स की अभिनेत्री ने बताई अपने ‘अंकल’ की कहानी

कुब्रा जब भी मना करतीं, वह व्यक्ति कुब्रा की माँ का कॉल उठाना बंद कर देता और बात नहीं करता। जब माँ उससे पूछती कि ऐसा क्यों कर रहे हो तो वह व्यक्ति कहता, "अपनी बेटी से पूछो।" फिर कुब्रा की माँ उनसे कहती, "फिर लड़ दिए दोनों। ऐसा मत करो बेटा। देखो वह हमारे परिवार के लिए कितना कुछ करता है।"

सेक्रेड गेम्स (Sacred Games) की अभिनेत्री कुब्रा सैत (Kubbra Sait) ने अपने टीनएज लाइफ को लेकर सनसनीखेज खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि जब वह किशोरावस्था में थी तो ‘अंकल’ ने दो साल तक उनका यौन शोषण किया था और वह चुप रहने को विवश थीं, क्योंकि परिस्थितियाँ ऐसी थीं।

कुब्रा ने बताया कि जब वह 17 साल की थीं तो वह अपने माता-पिता और भाई के साथ बैंगलोर के एक प्रसिद्ध रेस्टोरेंट में गई थीं। वहाँ उन्हें एक आदमी मिला था जो उस रेस्टोरेंट का मालिक था। उनका परिवार उसके व्यवहार से काफी खुश हुआ और सप्ताह में कम से कम एक बार उस रेस्टोरेंट में जाने लगा। इस तरह वह धीरे-धीरे परिवार का करीबी बन गया।

धीरे-धीरे वह व्यक्ति इस परिवार के सुख-दुख का साथी बन गया और उनकी आर्थिक रूप से मदद भी करने लगा। इस तरह उस ‘अंकल’ ने परिवार के सदस्यों के बीच अपनी एक अलग छवि बना ली थी। एक दिन उसने पेपर में लपेट कर कुब्रा की माँ को नोटों की गड्डी दी और बोला- ‘मैं हूँ ना, चिंता मत कीजिए’।

कुब्रा सैत अपनी वृतांत ‘ओपेन बुक’ में लिखती हैं, “एक दिन गाड़ी उसकी मर्सिडीज गाड़ी में हम सभी बैठे थे। इसी दौरान मैंने महसूस किया कि एक हाथ मेरे कपड़ों को हटाकर मेरी जाँघें सहला रहा है। यह हाथ उसी ‘अंकल’ का था, जिसने माँ को पैसे देकर हमारी वित्तीय संकट को दूर किया था।” कुब्रा कहती हैं कि इस घटना से वह अचंभित रह गईं। अब वह व्यक्ति उनके लिए अंकल नहीं रह गया था। वह ‘मिस्टर X’ हो गया था।

कुब्रा बताती हैं कि वह अक्सर घर आता था और परिवार वालों के साथ खूब हँसी-मजाक करता था। इस दौरान वह उनके गाल को चूमते हुए कहता, “मेरी प्यारी कुबरती, तुम मेरी सबसे पसंदीदा हो।” कुब्रा कहती हैं कि वह विरोध नहीं कर पाती थीं, क्योंकि घर में सब उससे घुलमिल गए थे।

कुब्रा अपनी किताब में लिखती हैं कि एक रात मम्मी-पापा को आपस में लड़ते देखा और उनके हाथ में चेकबुक और पेन था। पापा घोर छोड़ने की बात कर रहे थे। अगले दिन कुब्रा ने उसी ‘अंकल’ को PCO से कॉल किया और घर के बारे में बताया और कहा कि आप माँ से बात कर लीजिए बोलिए कि वह मनी क्राइसिस को देख लेंगे।

अपनी किताब में कुब्रा लिखती हैं, “इसके बाद मिस्टर एक्स बोला, ठीक है। लेकिन मैं तुम्हारे लिए चिंतित हूँ। आज तुम कॉलेज मत जाओ और रिचमंड होटल में मुझसे मिलो। मैं वहाँ रहूँगा और सब ठीक कर दूँगा।”

वह आगे बताती हैं, “वह कार से मुझे होटल ले गया और चेहरे को देखकर बोला कितनी थक गई हो। इसके बाद वह मेरे होठों को चूमने लगा। मैं शॉक्ड थी, लेकिन कुछ नहीं बोल पा रही थी। उसका किस और गहरा होता गया और फिर उसने अपना ट्राउजर खोला। मुझे पता चल गया कि मैं अपनी वर्जिनिटी खो रही हूँ। यह एक शर्मनाक गोपनीय सच्चाई थी।”

इसके बाद से उस व्यक्ति का परिवार में दखल और बढ़ गया। जब भी कुब्रा मना करतीं, वह व्यक्ति कुब्रा की माँ का कॉल उठाना बंद कर देता और बात नहीं करता। जब माँ उससे पूछती कि ऐसा क्यों कर रहे हो तो वह व्यक्ति कहता, “अपनी बेटी से पूछो।” फिर कुब्रा की माँ उनसे कहती, “फिर लड़ दिए दोनों। ऐसा मत करो बेटा। देखो वह हमारे परिवार के लिए कितना कुछ करता है।”

कुब्रा के अनुसार, मिस्टर एक्स शादीशुदा था और उसका एक बच्चा भी थी। कुब्रा बताती हैं कि जब वह ग्रेजुएट हो गईं तो वह मुंबई जाना चाहती थीं, लेकिन उनकी माँ ने उन्हें दुबई भेजा। वर्षों बाद जब एक्स की हरकतों के बारे में बताया तो माँ अपने आपको लज्जित महसूस कर रही थीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -