Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजपंजाबी रैपर हार्ड कौर ने मोदी-शाह को कहे अपशब्द, खालिस्तानियों के साथ बनाया वीडियो

पंजाबी रैपर हार्ड कौर ने मोदी-शाह को कहे अपशब्द, खालिस्तानियों के साथ बनाया वीडियो

ब्रिटिश-पंजाबी गायिका ने भारत-विरोधी कंटेंट डालने की हदें पार करते हुए कथित खालिस्तानी-कश्मीरी एकता के लिए अभियान चलाया हुआ है। फेसबुक कवर पिक में खालिस्तानी और कश्मीरी झंडा लगा कर दोनों की कथित एकता की बात की है।

सोशल मीडिया पर गालीबाजी और गंदगी फैलाने के लिए कुख्यात पंजाबी रैपर हार्ड कौर ने अब खालिस्तानी चोला ओढ़ लिया है। ट्विटर पर जारी वीडियो में वो न सिर्फ़ कट्टर खालिस्तानियों के साथ दिखाई दे रही हैं, बल्कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह को लेकर अपशब्द भी कहे गए हैं। कौर ने पीएम और शाह को डरपोक बताया है। फेसबुक कमेंट्स में खुले तौर पर माँ-बहन की गालियाँ देने वाली हिप-हॉप गायिका इससे पहले पुलवामा और 26/11 मुंबई हमलों के लिए सरसंघचालक मोहन भागवत को ज़िम्मेदार ठहरा चुकी है।

ब्रिटिश-पंजाबी गायिका हार्ड कौर ने भारत-विरोधी कंटेंट डालने की सारी हदें पार करते हुए कथित खालिस्तानी-कश्मीरी एकता के लिए अभियान चलाया हुआ है। फेसबुक कवर पिक में खालिस्तानी और कश्मीरी झंडा लगा कर दोनों की कथित एकता की बात की है। ताज़ा वीडियो में कट्टर खालिस्तानियों के साथ मिल कर उन्होंने अलगाववाद को हवा देते हुए एक अलग देश खालिस्तान की माँग की है। खालिस्तानी समर्थकों ने जानबूझ कर हार्ड कौर का चेहरा आगे कर ये वीडियो बनाया है।

बता दें कि पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई द्वारा अक्सर खालिस्तानियों को फंडिंग करने और खालिस्तानी अलगाववाद को बढ़ावा देने के मामले सामने आते रहे हैं। पाकिस्तान न सिर्फ कश्मीरी अलगाववादियों व आतंकियों बल्कि खालिस्तानियों की भी मदद करता रहा है। अलग खालिस्तान की बात करते हुए हार्ड कौर ने कहा कि यह उनलोगों का हक़ है और वे इसे लेकर रहेंगे। स्वतंत्रता दिवस पर अपमानजनक टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि 15 अगस्त सिखों के लिए आजादी का दिन नहीं है।

कथित कश्मीरी-खालिस्तानी एकता का प्रचार करतीं हार्ड कौर

एक क़दम और आगे बढ़ते हुए रैपर हार्ड कौर ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर खालिस्तानी झंडा फहराने की माँग कर दी। इससे पहले वह यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को ‘बलात्कारी’ बता चुकी है। हार्ड कौर के विवादित पोस्ट्स के कारण उन पर देशद्रोह का मुक़दमा दर्ज हुआ, जिसके बाद से भारत के विरोध में वह और ज्यादा सक्रिय हो गई है। पंजाबी रैपर तरन कौर ढिल्लन उर्फ़ हार्ड कौर ने 2013 में एक स्टेज परफॉरमेंस के दौरान सिख समुदाय के ख़िलाफ़ आपत्तिजनक टिप्पणी की थीं।

यह भी जानने लायक बात है कि कौर बॉलीवुड फिल्मों में भी आवाज दे चुकी हैं। ‘ओके जानू’, ‘जॉनी गद्दार’ और ‘सराइनोडू, जैसी फ़िल्मों में गाने गए चुकी कौर की सोशल मीडिया पोस्ट्स को लेकर लोगों ने आपत्ति जताई है। कई लोगों ने प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को टैग कर कौर पर कार्रवाई माँग की है। लेकिन, उनके ताज़ा पोस्ट्स, वीडियो और बयानों को देख कर ऐसा लगता है कि हार्ड कौर ने भारत के ख़िलाफ़ जहर उगलते रहने की क़सम खा रखी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योनि, मूत्रमार्ग, गुदा, मुँह में लिंग प्रवेश से ही रेप नहीं… जाँघों के बीच रगड़ भी बलात्कार ही: केरल हाई कोर्ट

केरल हाई कोर्ट ने कहा कि महिला के शरीर का कोई भी हिस्सा, चाहे वह जाँघों के बीच की गई यौन क्रिया हो, बलात्कार की तरह है।

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसे बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,048FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe