Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाज'हनीमून होटल' को जुबैर ने बताया था 'हनुमान होटल': पूछताछ में पुलिस को नहीं...

‘हनीमून होटल’ को जुबैर ने बताया था ‘हनुमान होटल’: पूछताछ में पुलिस को नहीं कर रहा सहयोग, राहुल गाँधी ने कहा- ऐसी हजारों आवाज उठेंगी

प्रोपेगेेंडा फैलाने में माहिर मोहम्मद जुबैर की गिरफ्तारी के बाद लिबरल और वामपंथी गिरोह उसके बचाव में उतर आया और अपनी छाती पीट रहा है। इनमें शबनम हाशमी, राना अय्यूब, राजदीप सरदेसाई, शशि थरूर, कविता कृष्णन जैसे लोग शामिल हैं।

धार्मिक भावनाओं को भड़काने के आरोप में दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार AltNews के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर के लिए स्पेशल सेल ने मजिस्ट्रेट से 4 दिनों का रिमांड माँगा है। दिल्ली पुलिस का कहना है कि जाँच के दौरान जुबैर का आचरण संदिग्ध पाया गया था। इसलिए साजिश को उजागर करने के लिए उसे गिरफ्तार किया गया।

दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ का कहना है कि मोहम्मद जुबैर पुलिस के सवालों से बचता रहा। उसने जाँच के लिए ना ही जरूरी तकनीकी उपकरण मुहैया कराए और न ही जाँच में सहयोग किया। पुलिस का कहना है कि वह पहले भी आपत्तिजनक ट्वीट करके नफरत फैलाने की कोशिश की थी।

पुलिस का कहना है कि पर्याप्त सबूत के आधार पर ही उसे गिरफ्तार किया गया है। दरअसल, मोहम्मद जुबैर पर मामला ट्विटर पर हनुमान भक्त @balajikijaiin हैंडल के एक पोस्ट के आधार पर दर्ज किया गया है। इस हैंडल ने मोहम्मद जुबैर के एक ट्वीट “2014 से पहले: हनीमून होटल और 2014 के बाद: हनुमान होटल” पोस्ट के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर किया था।

पुलिस के अनुसार, ट्वीट की एक तस्वीर में होटल का साइनबोर्ड दिख रहा है। इस पर लिखे ‘हनीमून होटल’ को बदलकर ‘हनुमान होटल’ कर दिया गया है। हनुमान भक्त @balajikijaiin ने ट्वीट किया, “हमारे भगवान हनुमान जी को हनीमून से जोड़ना हिंदुओं का सीधा अपमान है, क्योंकि वे ब्रह्मचारी हैं। कृपया इस आदमी के खिलाफ कार्रवाई करें।”

दिल्ली पुलिस ने कहा कि मोहम्मद जुबैर के उस पोस्ट में एक विशेष धार्मिक समुदाय के खिलाफ प्रयोग तस्वीर और शब्द अत्यधिक उत्तेजक है और लोगों के बीच नफरत को भड़काने के लिए पर्याप्त है। यह सार्वजनिक शांति के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है।

जुबैर के समर्थन में आए विपक्षी दल

भाजपा विरोध से विपक्षी दल इतने ग्रस्त हो चुके हैं कि उन्हें मोहम्मद जुबैर की गैर-कानूनी गतिविधियाँ दिखाई नहीं दे रही हैं। कॉन्ग्रेस, TMC, वामपंथी दल सहित लगभग सभी दलों ने इस गिरफ्तारी को लेकर जुबैर के समर्थन में खड़े हो गए। कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने भी इस गिरफ्तारी का विरोध किया है।

राहुल गाँधी ने ट्वीट कर कहा, “सच्चाई की एक आवाज को बंद करोगे तो ऐसी हजारों आवाजें और उठेंगी। भाजपा की नफरत, कट्टरता और झूठ को बेनकाब करने वाला हर व्यक्ति उसके लिए खतरा है। सच्चाई की निरंकुशता पर हमेशा विजय होती है।”

तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) की सांसद मोईना मित्रा ने जुबैर के कारनामे को भाजपा की पूर्व नेता नूपुर शर्मा से जोड़ने की कोशिश की। उन्होंने ट्वीट किया, “जुबैर को एक मनगढ़ंत केस में गिरफ्तार किया गया है, जबकि मिसेज फ्रिंज शर्मा सुरक्षा के साये में जिंदगी का आनंद उठा रही हैं।”

बता दें कि प्रोपेगेेंडा फैलाने में माहिर मोहम्मद जुबैर की गिरफ्तारी के बाद लिबरल और वामपंथी गिरोह उसके बचाव में उतर आया और अपनी छाती पीट रहा है। इनमें शबनम हाशमी, राना अय्यूब, राजदीप सरदेसाई, शशि थरूर, कविता कृष्णन जैसे लोग शामिल हैं।

 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -