Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजटिकरी बॉर्डर पर 'किसानों' ने दिल्ली पुलिस के कॉन्स्टेबल पर किया हमला, सिर में...

टिकरी बॉर्डर पर ‘किसानों’ ने दिल्ली पुलिस के कॉन्स्टेबल पर किया हमला, सिर में गंभीर चोटें

26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली के नाम पर 'किसानों' ने जमकर हिंसा की थी। लाल किले पर धार्मिक झंडा फहरा दिया था। इस हिंसा में 300 से अधिक पुलिसवाले घायल हो गए थे।

टिकरी बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस के एक कॉन्स्टेबल पर ‘किसानों’ द्वारा हमला किए जाने की खबर सामने आई है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार कॉन्स्टेबल जितेंद्र राणा पर शुक्रवार (12 फरवरी 2021) को हमला किया गया। उनके पैर और सिर में गंभीर चोंटे आई हैं।

एक निजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है। उन पर हमला उस वक्त किया गया जब वे लापता किसानों के पोस्टर चिपका रहे थे। राणा नागलोई थाने में तैनात हैं। उनकी ड्यूटी टिकरी बॉर्डर पर लगी थी।

रिपोर्टों के मुताबिक राणा कुछ समझ पाते उससे पहले ही तथाकथित आंदोलनकारी ‘किसानों’ ने उन पर हमला कर दिया। हमले की वजह से उन्हें कई टाँके भी लगे हैं। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में एफ़आईआर दर्ज करके जाँच शुरू कर दी है।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली पुलिस के कॉन्स्टेबल को उपद्रवी समझ लिया था, क्योंकि वह वर्दी में नहीं थे। हमले के बाद मौके पर मौजूद अन्य पुलिसकर्मियों ने राणा को बचाया।       

बता दें कि 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली के नाम पर ‘किसानों’ ने जमकर हिंसा की थी। लाल किले पर धार्मिक झंडा फहरा दिया था। इस हिंसा में 300 से अधिक पुलिसवाले घायल हो गए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तानी मंत्री फवाद चौधरी चीन को भूले, Covid के लिए भारत को ठहराया जिम्मेदार, कहा- विश्व ‘इंडियन कोरोना’ से परेशान

पाकिस्तान के मंत्री फवाद चौधरी ने कहा कि दुनिया कोरोना महामारी पर जीत हासिल करने की कगार पर थी, लेकिन भारत ने दुनिया को संकट में डाल दिया।

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,314FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe