Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजआपके फोन में तेज आवाज के साथ आया अलर्ट मैसेज? इमरजेंसी के लिए टेस्टिंग...

आपके फोन में तेज आवाज के साथ आया अलर्ट मैसेज? इमरजेंसी के लिए टेस्टिंग कर रही है सरकार, जानिए क्यों आया मैसेज

भूकंप, सुनामी, तूफान, बाढ़, आग जैसी विभिन्न आपदाओं में लोग घरों या अन्य जगहों में फँसे रह जाते हैं। कई बार लोगों की मौत भी हो जाती है। अब इन आपदाओं को लेकर सरकार लोगों को पहले ही अलर्ट करेगी। इससे समय रहते लोगों को अपनी और अपने लोगों की जान-माल की हिफाजत करने में आसानी होगी।

शुक्रवार (15 सितंबर 2023) को दोपहर लाखों लोगों को उनके मोबाइल पर तेज बीप की आवाज के साथ एक मैसेज मिला। मैसेज देखकर लोग चौंक गए। लोग समझ नहीं पा रहे थे कि उनके फोन को क्या हो गया है। यदि आपके साथ भी ऐसा हुआ है तो परेशान होने वाली बात नहीं है। दरअसल, सरकार आपातकालीन स्थिति में अलर्ट भेजने के लिए इस मैसेज का टेस्टिंग कर रही है।

दूरसंचार विभाग द्वारा भेजे गए इस अलर्ट मैसेज में लिखा था, “यह भारत सरकार के दूरसंचार विभाग द्वारा सेल ब्रॉडकास्टिंग सिस्टम के माध्यम से भेजा गया एक नमूना परीक्षण संदेश है। कृपया इस संदेश पर ध्यान न दें, क्योंकि इस पर आपकी ओर से किसी कार्रवाई की आवश्यकता नहीं है। यह संदेश राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा कार्यान्वित किए जा रहे अखिल भारतीय आपात अलर्ट सिस्टम को जाँचने हेतु भेजा गया है। इस सिस्टम का उद्देश्य सार्वजनिक सुरक्षा बढ़ाना और आपात स्थिति के दौरान समय पर अलर्ट प्रदान करना है।”

इस मैसेज में साफ तौर पर लिखा है कि यह मैसेज आपातकालीन स्थिति में अलर्ट भेजने के उद्देश्य से परीक्षण यानि कि टेस्टिंग के तौर पर भेजा गया है। दरअसल, सरकार किसी भी आपात स्थिति में लोगों को एक अलर्ट भेजकर सजग करने का प्लान बना रही है। इसके लिए इस तरह की टेस्टिंग कर यह जाँचने का प्रयास किया जा रहा है कि अलर्ट सिस्टम सही तरीके से काम कर रहा है या नहीं।

वहीं, भेजे गए एक अन्य फ्लैश मैसेज में लोगों से कहा गया है कि उन्हें इमरजेंसी अलर्ट मैसेज मिल रहे हैं। क्या वे इस सर्विस को चालू रखना चाहते हैं? इसमें नीचे No और Yes चुनने का विकल्प था। जिन लोगों ने Yes क्लिक किया होगा, हो सकता है कि उन्हें और भी इस तरह के अलर्ट आएँ।

बताते चलें कि भूकंप, सुनामी, तूफान, बाढ़, आग जैसी विभिन्न आपदाओं में लोग घरों या अन्य जगहों में फँसे रह जाते हैं। कई बार लोगों की मौत भी हो जाती है। अब इन आपदाओं को लेकर सरकार लोगों को पहले ही अलर्ट करेगी। इससे समय रहते लोगों को अपनी और अपने लोगों की जान-माल की हिफाजत करने में आसानी होगी।

ये मैसेज एक साथ 1-2 नहीं, बल्कि करोड़ों लोगों को भेजे जा सकते हैं। इमरजेंसी अलर्ट सिस्टम के जरिए किसी एक क्षेत्र विशेष, शहर या राज्य या फिर पूरे देश के लोगों को एक साथ मैसेज भेजा जा सकता है। यह अखिल भारतीय आपात अलर्ट सिस्टम (AIEAS) से जुड़ा है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेशी महिला के 5 छोटे बच्चे, 3 लड़कियाँ… इसलिए इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दे दी जमानत: सपा विधायक की मदद से भारत में रहने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने जेल में बंद एक बांग्लादेशी महिला हिना रिजवान को जमानत दे दी। महिला अपने बच्चों के साथ अवैध रूप से भारत में रही थी।

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -