Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'फाँसी चढ़ा दो, माफ़ी नहीं माँगूँगा': बोला सैनिटरी पैड पर श्रीकृष्ण को दिखाने वाला...

‘फाँसी चढ़ा दो, माफ़ी नहीं माँगूँगा’: बोला सैनिटरी पैड पर श्रीकृष्ण को दिखाने वाला डायरेक्टर, यूपी में केस दर्ज

हालाँकि, निर्देशक संतोष उपाध्याय कह रहे हैं कि वो किसी भी कीमत पर माफ़ी नहीं माँगेंगे, भले ही उन्हें फाँसी पर क्यों न लटका दिया जाए।

फिल्म ‘मासूम सवाल’ में सैनिटरी पैड पर भगवान श्रीकृष्ण को दिखाए जाने पर उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में निर्माता-निर्देशकों पर FIR दर्ज की गई है। ये मामला ‘हिंदू राष्ट्र नवनिर्माण सेना’ के संस्थापक अमित राठौड़ ने दर्ज कराया है। निर्देशक संतोष उपाध्याय के अलावा ‘NAKSHATRA 24 मीडिया प्राइवेट लिमिटेड’ के निदेशक और फिल्म से जुड़े अन्य लोगों को भी इसमें नामजद किया गया है। साहिबाबाद थाने में ये मामला दर्ज हुआ है।

साहिबाबाद थाने के पुलिस इंस्पेक्टर प्रदीप कुमार त्रिपाठी ने इस मामले की जाँच सब इंस्पेक्टर सुरेश चंद्रा को सौंप भी दी है। बयान दर्ज करने के लिए फिल्म के निर्देशक को नोटिस जल्द ही जाने वाला है। IPC (भारतीय दंड संहिता) की धारा-295 (किसी वर्ग की धार्मिक मान्यताओं या विश्वास का अपमान करना) के तहत ये केस दर्ज हुआ है। अमित राठौड़ ने इस दौरान कहा कि आमिर खान जैसों की फिल्मों का आजकल बहिष्कार इसीलिए हो रहा है, क्योंकि उन्होंने बार-बार हिन्दुओं की भावनाओं को आहत किया है।

हालाँकि, निर्देशक संतोष उपाध्याय कह रहे हैं कि वो किसी भी कीमत पर माफ़ी नहीं माँगेंगे, भले ही उन्हें फाँसी पर क्यों न लटका दिया जाए। ‘TV9 भारतवर्ष’ से बात करते हुए उन्होंने कहा कि पोस्टर को लेकर हंगामे की उन्हें उम्मीद नहीं थी, क्योंकि उनका ऐसा कुछ उद्देश्य ही नहीं था। उन्होंने इसे एक क कमर्शियल फिल्म न बताते हुए मैसेज देने के लिए बनी फिल्म बताया और कहा कि फिल्म में मासिक धर्म के दौरान प्रतिमा के स्पर्श को दिखाया गया है।

उन्होंने फिल्म का विरोध करने वालों को ‘धर्म का ठेकेदार’ बताते हुए कहा कि भगवान श्रीकृष्ण की तस्वीर अभिनेत्री के हाथों में है, ये ज़ूम करने पर पोस्टर में दिख सकता है। उन्होंने इसे बेवजह की कंट्रोवर्सी बताते हुए ये भी कहा कि किसी भी उम्र के लोग इस फिल्म को देख सकते हैं, सेंसर बोर्ड से इसे सर्टिफिकेट मिला है। 2 घंटे 25 मिनट की इस फिल्म का आधार उन्होंने बताया कि मासिक धर्म अशुभ नहीं होता – यही दिखाया गया है।

बता दें कि इस फिल्म को लेकर सोशल मीडिया पर लोग कह रहे हैं कि बॉलीवुड अपनी दुर्गति के बावजूद हिन्दू विरोध में डूबा हुआ है।  दावा किया जा रहा है कि इस फिल्म को महिलाओं को आने वाले पीरियड्स और इसकी समस्याओं पर बनाया गया है। मेंस्टुरेशन पर बनी इस फिल्म में सैनिटरी पैड पर भगवान श्रीकृष्ण को दिखाए जाने का विरोध हो रहा है। अभिनेत्री एकावली खन्ना ने कहा कि उन्हें किसी प्रकार के विरोध के अभियान की जानकारी नहीं है, लेकिन अगर ऐसा हुआ है तो निर्माताओं का किसी की भावनाओं को ठेस पहुँचाने का कोई आशय नहीं था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -