Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'मुझे अपने मित्र नरेंद्र मोदी पर भरोसा है...': भारत को G-20 की अध्यक्षता मिलने...

‘मुझे अपने मित्र नरेंद्र मोदी पर भरोसा है…’: भारत को G-20 की अध्यक्षता मिलने पर फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों ने दी बधाई, कहा- वे सुरक्षित दुनिया बनाने में सफल होंगे

G-20 यानी ग्रुप ऑफ ट्वेंटी, विश्व की 20 सबसे विकसित और विकासशील देशों की एक प्रमुख संस्था है। इसके सदस्य देशों में जी-20 में अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, कोरिया गणराज्य, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, ब्रिटेन, अमेरिका और यूरोपीय संघ (ईयू) शामिल हैं।

भारत को प्रभावशाली G-20 की अध्यक्षता मिलने के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की तारीफ की है। पीएम मोदी के साथ अपनी एक तस्वीर शेयर करते हुए ट्वीट किया, “मुझे अपने मित्र नरेंद्र मोदी पर भरोसा है कि वे हमें शांति और अधिक टिकाऊ दुनिया बनाने के लिए सबको साथ लाएँगे।”

राष्ट्रपति मैक्रों ने शनिवार (3 दिसंबर 2022) को ट्वीट करते हुए लिखा, “एक धरती, एक परिवार, एक भविष्य। भारत ने जी-20 की अध्यक्षता सँभाली है। मैं अपने मित्र नरेंद्र मोदी पर भरोसा करता हूँ कि वे हमें शांति और अधिक टिकाऊ दुनिया बनाने के लिए हम सबको साथ लाएँगे।”

बता दें कि 1 दिसंबर 2022 को भारत को एक साल के लिए G-20 की अध्यक्षता मिलने पर बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने भारत के सांस्कृतिक परंपरा ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ को निरूपित एक ट्वीट किया था। इसमें लिखा था, “G-20 के अध्यक्ष के रूप में भारत एकता की सार्वभौमिक भावना को प्रोत्साहित करने के लिए काम करेगा। अत: हमारा थीम है- एक धरती, एक परिवार, एक भविष्य। वसुधैव कुटुम्बकम्।”

इससे पहले, अमेरिकी राष्ट्रपति के कार्यालय व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव कैरिन ज्यां-पियरे ने अपने भारत को G-20 की अध्यक्षता मिलने पर खुशी जताई थी। उन्होंने कहा था, “हम एक मजबूत वैश्विक अर्थव्यवस्था का निर्माण करने के अपने प्रयास जारी रखते हुए मौजूदा खाद्य और ऊर्जा सुरक्षा चुनौतियों से निपटने समेत विभिन्न मुद्दों पर अगले साल भारत की जी-20 की अध्यक्षता का समर्थन करने के लिए उत्साहित हैं।”

मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने 2 दिसंबर 2022 को पीएम मोदी को बधाई दी थी। उन्होंने कहा था, “G-20 की अध्यक्षता सँभालने पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सरकार और भारत के लोगों को बधाई। मुझे कूटनीति एवं संवाद को बढ़ावा देने, आम सहमति बनाने और वैश्विक मामलों के अहम मुद्दों का स्थायी समाधान खोजने में भारतीय नेतृत्व पर पूरा भरोसा है।”

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी थी। उन्होंने ट्वीट कर कहा था, “भारत द्वारा G-20 की अध्यक्षता सँभालने पर नरेंद्र मोदी को हर सफलता के लिए शुभकामनाएँ।” भारत में ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त बैरी ओ’फैरेल ने कहा था, “हम ‘एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य’ विषय पर अपने साझा उद्देश्यों और प्रगति को प्राप्त करने के लिए इसके साथ मिलकर काम करने की आशा करते हैं।”

जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी थी। प्रधानमंत्री किशिदा ने कहा था, “G-20 की अध्यक्षता सँभालने पर बधाई पीएम मोदी। भारत-जापान वैश्विक मुद्दों पर मिलकर काम करेंगे।”

बता दें कि G-20 यानी ग्रुप ऑफ ट्वेंटी, विश्व की 20 सबसे विकसित और विकासशील देशों की एक प्रमुख संस्था है। इसके सदस्य देशों में जी-20 में अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, कोरिया गणराज्य, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, ब्रिटेन, अमेरिका और यूरोपीय संघ (ईयू) शामिल हैं।

भारत इसकी एक साल तक अध्यक्ष के रूप में देश में 55 अलग-अलग जगहों पर 32 अलग-अलग कार्यक्षेत्रों को लेकर 200 से अधिक बैठकों की अध्यक्षता करेगा। भारत जिस बड़े पैमाने पर सम्मेलन के आयोजन की तैयारी कर रहा है, वैसी G-20 की बैठक अब तक नहीं हुई है। चीन के 14 और इंडोनेशिया के 25 शहरों में G-20 की बैठक आयोजित हुई थीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राक्षस के नाम पर शहर, जिसे आज भी हर दिन चाहिए एक लाश! इंदौर की महारानी ने बनवाया, जयपुर के कारीगरों ने बनाया: बिहार...

गयासुर ने भगवान विष्णु से प्रतिदिन एक मुंड और एक पिंड का वरदान माँगा है। कोरोना महामारी के दौरान भी ये सुनिश्चित किया गया कि ये प्रथा टूटने न पाए। पितरों के पिंडदान के लिए लोकप्रिय गया के इस मंदिर का पुनर्निर्माण महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था, जयपुर के गौड़ शिल्पकारों की मेहनत का नतीजा है ये।

मार्तंड सूर्य मंदिर = शैतान की गुफा: विद्यार्थियों को पढ़ाने वाला Unacademy का जहरीला वामपंथी पाठ, जानिए क्या है इतिहास

मार्तंड सूर्य मंदिर को 8वीं शताब्दी ईस्वी में बनाया गया था और यह हिंदू धर्म के प्रमुख सूर्य देवता सूर्य को समर्पित है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -