Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाज'योगी बाबा मेरी रक्षा करें, अब कभी नहीं करूँगा गोकशी': नाम-पते के साथ गले...

‘योगी बाबा मेरी रक्षा करें, अब कभी नहीं करूँगा गोकशी’: नाम-पते के साथ गले में तख्ती लटका कर सरेंडर करने पहुँचा मोहम्मद आलम, यूपी पुलिस ने लगाया था गैंगस्टर एक्ट

जब आलम पर गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज हो गया तो वह फरार हो गया। उसकी तलाश में पुलिस लगातार दबिश दे रही थी। कड़ी कानूनी कार्रवाई के डर से वह 18 दिसम्बर, 2023 को बदायूँ के हाजा थाने पर पहुँचा और आत्मसमर्पण कर दिया।

बदायूँ में एक गोतस्कर ने गले में तख्ती डाल कर थाने में आत्मसमर्पण कर दिया। गोतस्करी मोहम्मद आलम अपनी रक्षा की गुहार लगाते हुए थाने में पहुँचा था। वह गोकशी के मामले में आरोपित था। अपने नाम-पते के साथ थाने में आत्मसमर्पण करने पहुँचे इस गोतस्कर की फोटो अब वायरल हो रही है।

जानकारी के अनुसार, बदायूँ के थाना सहसवान के गाँव खैरपुर खैराती का रहने वाला मोहम्मद आलम गोकशी के कई मामलों में आरोपित है। गोकशी की घटनाओं को लेकर उस पर कई मामले दर्ज किए गए थे। आलम पर हाल ही में पुलिस ने गैंगस्टर की कार्रवाई की थी।

जब आलम पर गैंगस्टर का मुकदमा दर्ज हो गया तो वह फरार हो गया। उसकी तलाश में पुलिस लगातार दबिश दे रही थी। कड़ी कानूनी कार्रवाई के डर से वह 18 दिसम्बर, 2023 को बदायूँ के हाजा थाने पर पहुँचा और आत्मसमर्पण कर दिया।

आलम अपने गले में एक तख्ती डाल कर पहुँचा था। इस तख्ती पर लिखा था, “मैं, मोहम्मद आलम पुत्र नूर मोहम्मद निवासी खैरपुर खैराती थाना सहसवान बदायूँ गैंगस्टर के मामले में पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर रहा हूँ। अब कभी गोकशी नहीं करूँगा, योगी बाबा मेरी रक्षा करें।”

आलम पर आधे दर्जन से अधिक मुकदमे पहले से दर्ज हैं। उसके गैंग में 5 लोग थे जो गोतस्करी और गोकशी करते थे, इनमें से पुलिस पहले ही 4 को गिरफ्तार करके जेल भेज चुकी है। आलम के फरार होने के बाद जब उसके घर सहित अन्य ठिकानों पर दबिश पड़ी तो उसने पुलिस के सामने ही आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस अब आलम को कोर्ट में पेश करेगी और आगे की कार्रवाई करेगी।

गौरतलब है कि बीते कुछ समय में उत्तर प्रदेश में गोतस्करों पर कड़ी कार्रवाई हुई है। कुछ गोतस्कर पुलिस के साथ एनकाउंटर में घायल हुए हैं जबकि कई की संपत्तियाँ जब्त कर करवाई गई हैं। इसी कार्रवाई के डर से आलम ने आत्मसमर्पण कर दिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -