Saturday, September 25, 2021
Homeदेश-समाजNH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार,...

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

केरल हाईकोर्ट ने कहा, "सर्वशक्तिमान ईश्वर सर्वव्यापी है। वह पृथ्वी पर, आकाश में, खम्भों में और युद्ध के मैदान में - हर जगह है। वह दयालुता का ही एक रूप है और दया के प्रकाश के रूप में सभी के दिलों में निवास करता है।"

केरल हाईकोर्ट ने शुक्रवार (23 जुलाई, 2021) को उस याचिका को रद्द कर दिया, जिसमें राष्ट्रीय राजमार्ग के लिए जमीन अधिग्रहण में गड़बड़ियों की बात की गई थी और उच्च-न्यायालय से इसमें हस्तक्षेप की माँग की गई थी। कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

केरल हाईकोर्ट ने कहा कि इस मामले में न्यायालय को समीक्षा की अनुमति नहीं है, इसीलिए राष्ट्रीय राजमार्ग के चौड़ीकरण के कार्य में हस्तक्षेप नहीं किया जाएगा। न्यायमूर्ति पीवी कुन्हीकृष्णन ने अपने फैसले में कहा कि अगर राजमार्ग के निर्माण कार्य से धार्मिक स्थल प्रभावित होते हैं तो भगवान हमें माफ़ कर देंगे। याचिकाकर्ता की मुख्य शिकायत ये थी कि इस मामले में राज्य सरकार के निर्देशों का पालन नहीं हो रहा है।

बताया गया है कि सड़क के बाईं ओर दो मंदिर और एक मस्जिद है, लेकिन सड़क के दाईं ओर दिखाई गई मस्जिद एक निजी मस्जिद है। केरल की सरकार ने इस निजी मस्जिद को बचाने के लिए अपने अधिकारों का प्रयोग करते हुए चौड़ीकरण की प्रक्रिया में बदलाव का सलाह दिया। इससे सड़क के बाईं ओर जहाँ दो मंदिर और एक मस्जिद स्थित है, अब राजमार्ग का निर्माण करू फ़ैल कर वहाँ आ गया है।

हालाँकि, केरल की सरकार और राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) के अधिकारियों का कहना था कि याचिकाकर्ता ने जैसा बताया वैसा कुछ भी नहीं हुआ है और स्थान में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। साथ ही दावा किया कि सड़क निर्माण के लिए माप, डिजाइन और आसपास के धार्मिक स्थलों को बचाने के लिए नियम का पालन किया गया है। याचिकाकर्ता का पूछना था कि क्या मौजूदा बदलाव ठीक है?

केरल हाईकोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट को उद्धृत करते हुए कहा कि ‘राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण’ एक वैध और प्रोफेशनल संस्था है, जो राजमार्गों के निर्माण से लेकर उनके प्रबंधन तक के कार्यों में विशेषज्ञता रखता है। NHAI ने कहा कि वो याचिकाकर्ता के सुझावों को मानने की स्थिति में नहीं है। केरल हाईकोर्ट ने भी पाया कि कुछ भी दुर्भावनापूर्ण तरीके से नहीं किया गया है। केरल हाईकोर्ट ने कहा कि अधिग्रहण के लिए कुछ भी छोड़ने की ज़रूरत नहीं है।

केरल हाईकोर्ट ने कहा, “सर्वशक्तिमान ईश्वर सर्वव्यापी है। वह पृथ्वी पर, आकाश में, खम्भों में और युद्ध के मैदान में – हर जगह है। वह दयालुता का ही एक रूप है और दया के प्रकाश के रूप में सभी के दिलों में निवास करता है। राष्ट्रीय राजमार्ग के विकास के लिए यदि धार्मिक संस्थान प्रभावित होते हैं, तो ईश्वर हमें क्षमा करेंगे। परमेश्वर याचिकाकर्ताओं, अधिकारियों और इस निर्णय के लेखक की भी रक्षा करेंगे। भगवान हमारे साथ रहेंगे।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कहीं स्तनपान करते शिशु को छीन कर 2 टुकड़े किए, कहीं बार-बार रेप के बाद मरी माँ की लाश पर खेल रहा था बच्चा’:...

एक शिशु अपनी माता का स्तनपान कर रहा था। मोपला मुस्लिमों ने उस बच्चे को उसकी माता की छाती से छीन कर उसके दो टुकड़े कर दिए।

‘तुम चोटी-तिलक-जनेऊ रखते हो, मंदिर जाते हो, शरीयत में ये नहीं चलेगा’: कुएँ में उतर मोपला ने किया अधमरे हिन्दुओं का नरसंहार

केरल में जिन हिन्दुओं का नरसंहार हुआ, उनमें अधिकतर पिछड़े वर्ग के लोग थे। ये जमींदारों के खिलाफ था, तो कितने मुस्लिम जमींदारों की हत्या हुई?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,198FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe