Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजदिल्ली-NCR में इस साल आग का कहर, नोएडा-गाजियाबाद में भी तबाही: अकेले राजधानी में...

दिल्ली-NCR में इस साल आग का कहर, नोएडा-गाजियाबाद में भी तबाही: अकेले राजधानी में हर दिन 200 कॉल, कैसे बदलेंगे हालात?

साल 2021 में मौतों का आँकड़ा 591 और घायलों की संख्‍या 1421 दर्ज की गई, तो साल 2020-21 में ये आँकड़ा 346 लोगों की मौत और 1135 लोगों के घायल होने की थी।

दिल्ली-एनसीआर में आग लगने की घटनाओं में तेजी से वृद्धि हो रही है। शनिवार (15 जून 2024) को दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा में आग लगने की भीषण घटनाएँ सामने आई। पहली घटना दिल्ली के वसंत विहार इलाके की है, जहाँ एक दुकान में लगी आग ने कई दुकानों को अपनी चपेट में ले लिया। दूसरी आग की घटना गाजियाबाद जिले के लोनी की ट्रॉनिका सिटी के सेक्टर A3 से सामने आई। यहाँ पर संपत पैकेजिंग फैक्ट्री में भीषण आग ने पड़ोस की दो फैट्रियों को भी चपेट में ले लिया, तो तीसरी घटना नोएडा की है, जहाँ कोतवाली फेज तीन क्षेत्र में एक फैक्ट्री में आग लग गई। नोएडा में दमकल विभाग की एक दर्जन गाड़ियों ने घंटों की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया।

दिल्ली में हर रोज 200 से ज्यादा घटनाएँ

ईटीवी भारत की रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली के दमकल विभाग द्वारा जारी आँकड़ों की मानें तो दिल्ली में साल दर साल आग लगने की घटनाएँ तेजी से बढ़ रही हैं। इनमें सैकड़ों लोगों को अपनी जान गँवानी पड़ रही है। अकेले साल 2022-23 में 1029 लोगों की मौत हो गई थी, तो 2193 लोग घायल हो गए थे। साल 2021 में मौतों का आँकड़ा 591 और घायलों की संख्‍या 1421 दर्ज की गई, तो साल 2020-21 में ये आँकड़ा 346 लोगों की मौत और 1135 लोगों के घायल होने की थी।

देश की राजधानी दिल्ली में आग लगने की घटनाओं को देखें, तो साल 2022 में 31,958 आग लगने की घटनाएँ दर्ज हुई। साल 2021-22 में ये आँकड़ा 27,343 और 2020-21 में आँकड़ा 25,709 का था। दिल्ली दमकल विभाग की मानें तो हर साल 200 से ज्यादा घटनाएँ आग लगने की मिली हैं, जो बेहद चिंता जनक है।

दिल्ली में आगजनी की बड़ी घटनाओं की सूची

1- इस साल की बड़ी घटनाओं में गणतंत्र दिवस के दिन 26 जनवरी को शाहदरा जिलेके के मानसरोवर पार्क इलाके में लगी आग शामिल है। एक 4 मंजिला इमारत में आग लगने से 7 महीने की बच्ची समेत 4 लोगों की मौत हो गई थी।

2- इसी साल 15 फरवरी को अलीपुर स्थित केमिकल फैक्ट्री में भीषण आग लग गई थी, जिसमें 7 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई थी।

3- दिल्ली के ज्योति नगर थाना इलाके के दुर्गापुरी एक्सटेंशन इलाके में 4 मंजिला इमारत में आग लग गई थी, जिसमें 1 व्यक्ति की मौत हो गई, तो लाखों का माल स्वाहा हो गया।

4-दिल्ली के विवेक विहार स्थित बेबी केयर सेंटर में रात 11 बजे भीषण आग लग गई थी, जिसमें 9 नवजात बच्चों की मौत हो गई थी, तो 5 बच्चे घायल हो गए।

5-कुछ दिन पहले 25 मई 2024 को कृष्णा नगर इलाके में स्थित इमारत में आग लगने से बुजुर्ग महिला समेत 3 लोगों की मौत हो गई। इस हादसे में 10 लोग घायल हो गए, तो एक दर्जन दो पहिया गाड़ियाँ भी जल गई।

6- करीब 10 दिन पहले 5 जून 2024 को लाजपत नगर इलाके में बच्चों के अस्पताल में आग गई। बड़ी मशक्कत से आग पर काबू पाया गया था।

7- नरेला इंडस्ट्रियल इलाके में 8 जून को एक फैक्ट्री में आग लगने से 3 लोगों की मौत हो गई, तो 6 लोग घायल हो गए। ये हादसा बॉयलर फटने की वजह से हुई थी।

गाजियाबाद में हुए ये बड़े हादसे

गाजियाबाद में पिछले 2 माह में कई बड़ी घटनाएँ आग लगने से हुई। टीला मोड़ इलाके में स्थित एक फ्लैट में 14 अप्रैल को आग लग गई थी, जिसमें बुजुर्ग महिला की मौत हो गई थी. 22 अपैल को इलाके में आग लगे ने पति-पत्नी की मौत हो गई थी। तो 10 जून 2024 को लोनी के बेटा हाजीपुर इलाके में फैक्ट्री में आग लगने से लाखों का नुकसान हुआ। इसके अलावा भी कई घटनाएँ सामने आ चुकी हैं।

नोएडा में हुई बड़ी घटनाएँ

नोएडा में इस साल हर महीने आग लगने की कई बड़ी घटनाएँ सामने आ चुकी हैं। जनवरी माह में 121, फरवरी माह में 136, मार्च में 182, अप्रैल में 366 और मई में आग लगने की 405 घटनाएँ हुई थी। सेक्टर 104 के एक होटल में आग लगने से एक युवती की मौत हो गई थी, तो सेक्टर 8 के एक कार वर्कशॉप में 33 गाड़ियाँ आग में जल गई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -