कर्नाटक के पूर्व उपमुख्यमंत्री के घर पड़ा IT का छापा, कॉन्ग्रेस ने कहा ‘दुर्भावपूर्ण कदम’

"आयकर विभाग के कई छापे जी परमेश्वर आर एल जलप्पा और अन्य के यहाँ पर राजनीति से प्रेरित और दुर्भावनापूर्ण सोच के लिए किए गए हैं।"

कर्नाटक के पूर्व उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर के निवास स्थान और उनके स्वामित्व वाले मेडिकल कॉलेज में आयकर विभाग ने गुरुवार (10 अक्टूबर 2019) को छापेमारी की। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार रेड के लिए पूर्व डिप्टी सीएम के लगभग 30 ठिकानों को चिह्नित किया गया है। कहा जा रहा है उनसे संबंधित ट्रस्ट द्वारा संचालित मेडिकल कॉलेज में कुछ अनियमतताएँ पाई गई हैं। इसके अलावा आयकर विभाग ने कोलार में कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री आरएल जलाप्पा के स्वामित्व वाले मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल पर भी छापेमारी की।

प्रदेश के पूर्व उप मुख्यमंत्री का इस छापेमारी पर मीडिया से कहना है, “मुझे इन छापेमारी के बारे में कोई जानकारी नहीं है। मुझे नहीं मालूम आयकर विभाग के लोग कहाँ छापेमारी को अंजाम दे रहे हैं। उन्हें कर लेने दीजिए। मुझे इससे कोई आपत्ति नहीं है, अगर हमारी तरफ से कोई गलती है तो हम इसे सुधारेंगे।”

इसके बाद अपने एक बयान में पूर्व उपमुख्यमंत्री कहते नजर आए कि अगर ये रेड केवल शैक्षणिक संस्थानों पर की जा रही हैं, तो उन्हें इससे कोई आपत्ति नहीं, आयकर विभाग सभी कागजातों की जाँच कर ले।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से ज्ञात हुआ है कि पूर्व उपमुख्यमंत्री से संबंधित परिसरों में आज करीब आधे घंटे तक छापेमारी की गई। वहीं, एएनआई द्वारा दी जानकारी में कहा गया कि जी परमेश्वर स्वामित्व वाले मेडिकल कॉलेज (जिसका संचालन ट्रस्ट की तरफ से किया जा रहा है) में आयकर विभाग को अनियमितताएँ मिली हैं।

इस रेड पर पूर्व मुख्यमंत्री और प्रतिपक्ष नेता सिद्धारमैया ने आयकर छापे को राजनीति से प्रेरित और दुर्भावपूर्ण बताया। उन्होंने ट्वीट करके कहा, “आयकर विभाग के कई छापे जी परमेश्वर आर एल जलप्पा और अन्य के यहाँ पर राजनीति से प्रेरित और दुर्भावनापूर्ण सोच के लिए किए गए हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सुब्रमण्यम स्वामी
सुब्रमण्यम स्वामी ने ईसाइयत, इस्लाम और हिन्दू धर्म के बीच का फर्क बताते हुए कहा, "हिन्दू धर्म जहाँ प्रत्येक मार्ग से ईश्वर की प्राप्ति सम्भव बताता है, वहीं ईसाइयत और इस्लाम दूसरे धर्मों को कमतर और शैतान का रास्ता करार देते हैं।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,510फैंसलाइक करें
42,773फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: