Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजमहाराष्ट्र के पालघर के पास चलती ट्रेन में फायरिंग, रेलवे पुलिस के ASI सहित...

महाराष्ट्र के पालघर के पास चलती ट्रेन में फायरिंग, रेलवे पुलिस के ASI सहित चार की मौत: आरोपित कॉन्स्टेबल गिरफ्तार, जाँच जारी

चेतन मानसिक रूप से परेशान बताया जा रहा है। वह पारिवारिक तनाव में भी था। यह भी कहा जा रहा है कि इन सब परिस्थितियों के बीच वह अपने ट्रांसफर के चलते भी गुस्से में था। मृतकों के शवों को बोरिवली में उताकर ट्रेन को आगे के लिए रवाना कर दिया गया है। 

महाराष्ट्र के पालघर (Palghar, Maharashtra) में जयपुर-मुम्बई एक्सप्रेस ट्रेन में रेलवे पुलिस फोर्स (RPF) के एक कॉन्स्टेबल ने अपने वरिष्ठ एएसआई पर अंधाधुन फायरिंग कर दी। इसमें ASI क अलावा 3 यात्रियों की भी मौत हो गई। पुलिस ने चेतन नाम के कॉन्स्टेबल को गिरफ्तार कर लिया है।

घटना सोमवार (31 जुलाई 2023) की सुबह करीब 5 बजे की है। जयपुर से मुंबई जा रही ट्रेन के B-5 कोच में यह फायरिंग हुई। फायरिंग के पीछे की असली वजह अभी सामने नहीं आई है। हालाँकि, कहा जा रहा है कि RPF कॉन्स्टेबल और उसके अधिकारी के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई। इसके बाद चेतन ने गुस्से में ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी।

जिस वक्त फायरिंग की घटना हुई, उस वक्त ट्रेन पालघर और मुंबई के बीच दहिसर इलाके में थी। गोली में ASI की मौत हो गई। वहीं, ASI के बगल में बैठे तीन अन्य लोग भी अपने आपको बचा नहीं पाए। चेतन द्वारा की गई फायरिंग के दौरान कुछ गोलियाँ एसी बोगी के शीशे को छेदकर बाहर निकल गईं।

जिस एस्कॉर्ट टीम के कॉन्स्टेबल ने फायरिंग की है, उसके प्रभारी टीका राम थे। बताया जा रहा है कि फायरिंग करने के बाद चेतन चलती ट्रेन से कूद गया और भागने की कोशिश की। हालाँकि, पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया और उसके हथियार को भी जब्त कर लिया है।

घटना के बाद रेलवे ने जाँच का ऐलान किया है। मुंबई में डीआरएम नीरज कुमार ने कहा, “सुबह 6 बजे के करीब हमें सूचना मिली कि आरपीएफ जवान ने फायरिंग की है, जिसमें चार लोगों की मौत हुई। आरोपित कॉन्स्टेबल एस्कॉर्ट ड्यूटी पर तैनात था।”

DRM नीरज कुमार ने आगे बताया कि घटना के बाद रेलवे अधिकारी मौके पर मौजूद हैं और इसकी आगे की जाँच की जा रही है। उन्होंने कहा कि मृतकों के परिजनों को सूचित कर दिया गया है। जल्दी ही मृतकों के परिजनों को मुआवजे का एलान किया जाएगा। चारों शवों को शताब्दी अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया है।

चेतन मानसिक रूप से परेशान बताया जा रहा है। वह पारिवारिक तनाव में भी था। यह भी कहा जा रहा है कि इन सब परिस्थितियों के बीच वह अपने ट्रांसफर के चलते भी गुस्से में था। मृतकों के शवों को बोरिवली में उताकर ट्रेन को आगे के लिए रवाना कर दिया गया है। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -