Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजअमृतसर के स्वर्ण मंदिर में योग करने वाली इंस्टाग्राम इंफ्ल्यूएंसर ने SGPC को ललकारा,...

अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में योग करने वाली इंस्टाग्राम इंफ्ल्यूएंसर ने SGPC को ललकारा, FIR वापस नहीं लेने पर कानूनी कार्रवाई की दी चेतावनी: कहा- मेरा काम प्रभावित हो रहा

योग दिवस (21 जून) के मौके पर श्री हरमिंदर साहिब गुरुद्वारे (स्वर्ण मंदिर) के भीतर जाकर ‘शीर्षासन’ करने वाली इंस्टाग्राम इन्फ्लुएंसर अर्चना मकवाना के विरुद्ध अमृतसर में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने शिकायत दर्ज कराई थी।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के दिन अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में योग करने वाली जिस लड़की अर्चना मकवाना को रेप और हत्या की धमकी दी जा रही है और एफआईआर दर्ज करा दी गई है, वो अब खुलकर लड़ाई का ऐलान कर चुकी है। अर्चना मकवाना ने डरने की जगह कहा है कि शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी उनके खिलाफ दर्ज कराई शिकायत वापस ले, वर्ना वो कानूनी कार्रवाई करेगी। बता दें कि अर्चना मकवाना ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के दिन स्वर्ण मंदिर में योग किया था, जिसका वीडियो उन्होंने शेयर किया था। इसके बाद शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी।

अर्चना मकवाना ने इंटाग्राम पर वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा, “जब मैं 21 जून 2024 को स्वर्ण मंदिर अमृतसर में शीर्षासन कर रही थी, तो 1000 सिख लोग मुझे देख रहे थे। किसी ने भी मुझे नहीं रोका या इस पर आपत्ति नहीं जताई। वास्तव में जिन सज्जन ने मेरी तस्वीर ली, वे स्वयं एक सरदारजी थे, उन्हें यह अपमानजनक नहीं लगा, उन्होंने मुझे ऐसा करने से नहीं रोका, जो लोग इसे लाइव देख रहे थे, वे भी नाराज नहीं हुए, फिर मैं सोच रही हूँ कि यह गलत कैसे हो सकता है और इससे किसी की धार्मिक भावनाओं को कैसे ठेस पहुँची है?”

उन्होंने आगे लिखा, “स्थानीय लोग जो हर रोज मंदिर आते हैं, वे नियमों को नहीं जानते हैं, फिर वे कैसे उम्मीद कर सकते हैं कि पहली बार पंजाब की यात्रा करने वाली एक हिंदू लड़की नियमों को जानती होगी, खासकर जब किसी ने मुझे नहीं रोका। मुझे नहीं पता कि इसके पीछे एसजीपीसी का क्या प्रोपेगेंडा है, लेकिन मैं परेशान हो रही हूँ। मेरे खिलाफ दर्ज की गई एफआईआर को रद्द की जानी चाहिए, क्योंकि इस एफआईआर का कोई आधार नहीं है, ये सिर्फ इसलिए है क्योंकि एसजीपीसी कमेटी ने पुलिस को सही तथ्य नहीं बताए इसलिए उन्होंने (पुलिस ने) इसे स्वीकार कर लिया।”

मकवाना ने आगे लिखा, “मैंने इस मुद्दे को शांतिपूर्वक सुलझाने की कोशिश की, लेकिन वे इसे समझते नहीं दिख रहे हैं। इससे मेरा व्यवसाय प्रभावित हो रहा है और मैं इसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करूँगी। जो भी मुझसे सहमत हैं और मेरा समर्थन करना चाहते हैं, कृपया उनके खिलाफ आवाज उठाएँ और पंजाब पुलिस को लिखकर एफआईआर को रद्द करने की माँग करें। आपका समर्थन बहुत सराहनीय होगा। हर हर महादेव।”

बता दें कि योग दिवस (21 जून) के मौके पर श्री हरमिंदर साहिब गुरुद्वारे (स्वर्ण मंदिर) के भीतर जाकर ‘शीर्षासन’ करने वाली इंस्टाग्राम इन्फ्लुएंसर अर्चना मकवाना के विरुद्ध अमृतसर में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने शिकायत दर्ज कराई थी। संगठन ने अर्चना पर धार्मिक भावनाएँ आहत करने का आरोप लगाकर उनके खिलाफ कार्रवाई की माँग की है। इसके अलावा उनकी तस्वीरें वायरल होने के बाद उन्हें रेप और जान से मारने की धमकियाँ भी मिल रही हैं। इस सबंध में इन्फ्लुंसर ने खुद अपने सोशल मीडिया पर आकर बताया। साथ ही जानकारी दी कि इन धमकियों के मद्देनजर उन्हें गुजरात की वडोदरा पुलिस ने बिन माँगे सुरक्षा मुहैया कराई है जिसके लिए वह उनकी आभारी हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -