Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजइश्तियाक ने किशोरी को सिर से पाँव तक अगरबत्ती से दागा: मीडिया ने बताया...

इश्तियाक ने किशोरी को सिर से पाँव तक अगरबत्ती से दागा: मीडिया ने बताया ‘तांत्रिक’, मजार को बना दिया ‘देवस्थल’

मीडिया अक्सर मौलवियों को और फकीरों को ‘बाबा’ या ‘तांत्रिक’ लिख कर चलाता है, जिससे ऐसा लगता है जैसे आरोपित कोई हिन्दू साधु-संत ही हो। साथ ही फकीरों के झाड़-फूँक को भी ‘तंत्र-मंत्र’ लिख कर चलाता है।

उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में एक किशोरी को सिर से लेकर पाँव तक अगरबत्ती से दाग दिया गया। कई दिनों तक उसकी बेल्ट से पिटाई की गई। बाद में गंभीर हालत में उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया।

इस पूरे कृत्य को झाड़ फूँक के नाम पर इश्तियाक ने अंजाम दिया। उसे पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। लेकिन मुख्यधारा की मीडिया ने अपनी रिपोर्टों में उसे ‘तांत्रिक’ बताकर पाठकों को गुमराह करने की कोशिश की। इतना ही नहीं इन रिपोर्टों में मजार को ‘देवस्थल’ भी बताया।

ये पूरा मामला रामकोट थाना क्षेत्र के साहबगंज स्थित मजार का है। इस मामले में पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर एफआईआर दर्ज कर आरोपित इश्तियाक को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक महोली कोतवाली क्षेत्र के एक गाँव की रहने वाली किशोरी अपनी मौसी के घर मिश्रिख कोतवाली क्षेत्र में घूमने गई थी। इस दौरान किशोरी बीमार हो गई और उसके पेट में दर्द होने लगा। इसके बाद परिवार वाले उसे रामकोट थाना क्षेत्र के साहब गंज में स्थित एक मजार पर ले गए।

हिंदुस्तान ने रिपोर्ट में मजार को देवस्थल बताया
साभार: दैनिक भास्कर
साभार: दैनिक जागरण

मजार पर बैठे इश्तियाक के द्वारा बताया गया कि किशोरी के ऊपर 11 भूतों ने कब्जा कर रखा है, जिसके बाद उसने किशोरी को 6 दिन रोकेने की परिजनों से बात कही। परिजन इस बात को मान गए और किशोरी को मजार पर ही छोड़ दिया। फिर इश्तियाक ने अपना घिनौना खेल शुरू किया और उसके शरीर को अगरबत्ती जलाकर जगह-जगह पर दाग दिया।

साभार: Zeenews

जब इश्तियाक का इससे भी मन नहीं भरा तो उसने बेल्ट से किशोरी की जमकर पिटाई की। गाँव के लोग बताते हैं कि किशोरी के साथ हो रही इस क्रूरता को देख वे भी सहम गए। फिलहाल पुलिस ने आरोपित इश्तियाक पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है।

गौरतलब है कि मीडिया अक्सर मौलवियों को और फकीरों को ‘बाबा’ या ‘तांत्रिक’ लिख कर चलाता है, जिससे ऐसा लगता है जैसे आरोपित कोई हिन्दू साधु-संत ही हो। साथ ही फकीरों के झाड़-फूँक को भी ‘तंत्र-मंत्र’ लिख कर चलाता है। तांत्रिक शब्द से ऐसा प्रतीत होता है जैसे रेप का प्रयास करने वाला हिंदू हो, इसलिए मीडिया भी फकीरों और मौलवियों के पकड़े जाने पर भी ‘धर्मगुरु’ और ‘तांत्रिक’ शब्द का धड़ल्ले से इस्तेमाल तो करता ही है, उसकी असली पहचान छिपाने के लिए खबर की हेडिंग से भी खेलता है।

इससे पहले भी NDTV से लेकर कई मीडिया संस्थान भ्रामक हेडिंग्स के जरिए हिन्दुओं को बदनाम करते रहे हैं। मीडिया इससे पहले भी इस तरह का खेल कर चुका है। इसी तरह निकाह-हलाला के नाम पर एक युवती का बलात्कार करने वाले आरोपित अनवर खान का नाम NDTV ने उसे ‘बाबा’ कह कर छिपाया था, जैसे वो कोई हिन्दू साधु हो। इसी तरह एक अन्य बलात्कारी के मामले में नई दुनिया समेत कई मीडिया पोर्ट्ल्स ने इस खबर को प्रकाशित किया था और हेडलाइन में मुस्लिम इश्तियाक की जगह ‘तांत्रिक’ शब्द का प्रयोग किया था।

इसी तरह उत्तर-पूर्वी दिल्ली के हर्ष विहार में एक मस्जिद में बलात्कार की घटना सामने आई थी। मस्जिद में पानी लेने गई 12 साल की लड़की का मौलवी इलियास ने रेप किया था। ‘दैनिक भास्कर’ ने लिखा था– ‘धार्मिक स्थल पर हुई वारदात। जब किसी छोटे से छोटे मामले में भी मंदिर की पहचान नहीं छिपाई जाती, तो फिर मस्जिद की पहचान छिपाने का क्या उद्देश्य था? कई अन्य मीडिया संस्थान ने भी ऐसा किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,352FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe