Friday, July 30, 2021
Homeदेश-समाजश्रीनगर: कृष्णा ढाबा फिर खुला, 2 माह पहले आतंकियों ने हमला कर ढाबा मालिक...

श्रीनगर: कृष्णा ढाबा फिर खुला, 2 माह पहले आतंकियों ने हमला कर ढाबा मालिक के बेटे की कर दी थी हत्या

17 फरवरी को आकाश मेहरा को इस्लामी आतंकियों ने कृष्णा ढाबा पर गोली मारी थी। आकाश को घटना के फौरन बाद SMHC अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहाँ उसकी मौत हो गई।

श्रीनगर का मशहूर शाकाहारी ‘कृष्णा ढाबा’ मंगलवार (अप्रैल 13, 2021) से दोबारा चालू हो गया। 2 माह पहले इसी ढाबे पर इस्लामी आतंकियों ने गोलीबारी कर ढाबा मालिक के बेटे आकाश मेहरा की हत्या कर दी थी।

हमले में मारे गए 22 वर्षीय आकाश के पिता रमेश कुमार ने बताया कि वह अपने ढाबे को खोलने में अब सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। कश्मीर को अपना घर बताते हुए वह बोले, “हम यहाँ पैदा हुए और पूरी जिंदगी यही रहे। अब हम कहाँ चले जाएँ?” रमेश कहते हैं, “जिंदगी, निरंतर चलते रहना है, इसलिए मैं अपने काम पर लौट आया हूँ।”

कृष्णा ढाबे पर फरवरी में हुआ था आतंकी हमला

17 फरवरी को आकाश मेहरा को इस्लामी आतंकियों ने कृष्णा ढाबा पर गोली मारी थी। आकाश को घटना के फौरन बाद SMHC अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहाँ उसकी मौत हो गई। कश्मीर पुलिस ने जाँच के बाद बताया कि इस आतंकी हमले की ज़िम्मेदारी प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन मुस्लिम जाँबाज फ़ोर्स ने ली। वहीं कुछ चश्मदीदों ने कहा कि आतंकवादी आकाश मेहरा पर गोलीबारी करके तुरंत वहाँ से फ़रार हो गए। 

घटना के बाद मुस्लिम जाँबाज फोर्स ने अपनी ओर से एक बयान भी जारी किया था। इसमें उसने बताया कि हिन्दू युवक पर इसलिए हमला किया क्योंकि वह उन्हें ‘बाहरी’ मानता है।

उल्लेखनीय है कि रमेश कुमार का मशहूर शाकाहारी ढाबा शहर के दुर्गानगर इलाके में मौजूद है। इस ढाबे के नज़दीक यूएन मिलिट्री ऑब्ज़र्वरर्स ग्रुप फॉर इंडिया एंड पाकिस्तान (UNMOGIP), जम्मू और कश्मीर के मुख्य न्यायाधीशों के आवास जैसे अहम कार्यालय मौजूद हैं। आकाश पर हमला उस समय हुआ था जब यूरोपियन यूनियन और आर्गेनाईजेशन ऑफ़ इस्लामिक नेशन के कई देश केंद्र शासित राज्यों का मुआयना करने आए थे।

बता दें कि गैर कश्मीरियों पर इस्लामी आतंकी समूह अक्सर निशाना साधे बैठे रहते हैं। साल 2019 के अक्टूबर माह में 5 प्रवासी मजदूर मारे गए थे और इसी साल की शुरुआत में एक सतपाल नाम के सोनार को निशाना बनाया गया था।

इसके अलावा राजनीति पार्टी के कई नेता भी इन आतंकियों के निशाने पर रहते हैं। इसी महीने भाजपा नेता अनवर खान के गार्ड पर ओपन फायर हुई थी। वहीं मार्च में बीडीसी चेरयमैन व भाजपा की राज्य सचिव फरीदा खान पर सोपोर में हमला हुआ था। घटना में एक पुलिसकर्मी समेत दो लोग मारे गए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वतंत्र है भारतीय मीडिया, सूत्रों से बनी खबरें मानहानि नहीं: शिल्पा शेट्टी की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा कि उनका निर्देश मीडिया रिपोर्ट्स को ढकोसला नहीं बताता। भारतीय मीडिया स्वतंत्र है और सूत्रों पर बनी खबरें मानहानि नहीं है।

रामायण की नेगेटिव कैरेक्टर से ममता बनर्जी की तुलना कंगना रनौत ने क्यों की? जावेद-शबाना-खान को भी लिया लपेटे में

“...बंगाल मॉडल एक उदाहरण है… इसमें कोई शक नहीं कि देश में खेला होबे।” - जावेद अख्तर और ममता बनर्जी की इसी मीटिंग के बाद कंगना रनौत ने...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,994FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe