Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजजम्मू कश्मीर में 7 न्यूज़ पोर्टलों पर लगा प्रतिबंध, फैला रहे थे फर्जी खबर:...

जम्मू कश्मीर में 7 न्यूज़ पोर्टलों पर लगा प्रतिबंध, फैला रहे थे फर्जी खबर: कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए फैसला

रामबन के उपायुक्त मस्सारतुल इस्लाम ने बताया कि यह पहले चरण की कार्रवाई है। अगले चरण में जो न्यूज पोर्टल वास्तविक सर्टिफिकेट दिखाने में नाकाम रहेंगे उन्हें भी प्रतिबंधित कर दिया जाएगा।

जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) के रामबन जिला प्रशासन (District Administration Ramban) ने मंगलवार (16 अगस्त 2022) को फर्जी खबरें फैलाने वाले न्यूज पोर्टल के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की। प्रशासन ने फर्जी खबरें फैलाकर सरकार की छवि खराब करने के लिए 7 न्यूज पोर्टल के संचालन पर प्रतिबंध लगा दिया है। जिला प्रशासन ने अपने आदेश में कहा है कि फर्जी खबरों को फैलाने और सरकार की छवि खराब करने वाले अवैध न्यूज पोर्टलों के संचालन को रोककर रामबन में शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखना सर्वोपरि है।

उन्होंने एक पत्र जारी किया है, जिसमें कहा गया, “आगे भी इस बात की पूरी आशंका है कि यदि इन फर्जी न्यूज पोर्टलों पर शिकंजा नहीं कसा गया, तो जिले में शांतिपूर्ण माहौल भंग होता रहेगा।”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रामबन जिला प्रशासन द्वारा प्रतिबंधित की गई पोर्टल की लिस्ट में लतीफ रेजा, संगलदान (यूनाइटेड उर्दू न्यूज), चरणजीत बाली उखेरल (वीडी न्यूज), मुबाशीर नजीर उखेरल (न्यूज वर्स इंडिया), जुल्फिकार भट, संगलधन (करंट न्यूज ऑफ इंडिया, ‘सीएनआई’), सज्जाद रुनियाल, मालिगम शामिल हैं। पोगल (न्यूज ब्यूरो ऑफ इंडिया एनबीआई), राजगढ़ के परवेज भट (टुडे न्यूज लाइन) और जीएचआरटी न्यूज चलाने वाले एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई की गई है। इन सभी पर सरकार के खिलाफ फर्जी खबरें फैलाने और उनकी छवि खराब करने का आरोप है।

रामबन के उपायुक्त मस्सारतुल इस्लाम ने बताया कि यह पहले चरण की कार्रवाई है। अगले चरण में जो न्यूज पोर्टल वास्तविक सर्टिफिकेट दिखाने में नाकाम रहेंगे उन्हें भी प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। रामबन के उपायुक्त ने एसएसपी को जारी किए गए आदेशों को लागू करने का निर्देश दिया है।

उपायुक्त ने आगे बताया कि विभिन्न न्यूज पोर्टलों से जुड़े रामबन के पत्रकारों को जिला सूचना अधिकारी के सामने अपना आईडी कार्ड पेश करने के लिए कहा गया था। लेकिन 7 न्यूज पोर्टल रजिस्ट्रेशन सहित अपने अन्य डॉक्यूमेंट्स जमा करने में विफल रहे। इसलिए इन ‘फर्जी’ समाचार पोर्टलों के संचालन पर प्रतिबंधित लगा दिया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

10 साल का इस्कॉन, 30 साल का युवक और न्यूयॉर्क में पहली रथयात्रा… जब महाप्रभु जगन्नाथ का प्रसाद ग्रहण कर डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा...

कंपनी ने तब कहा कि ये जमीन बिकने वाली है और करार के तहत अब इसके नए मालिकों के ऊपर है कि वो ये जमीन देते हैं या नहीं। नए मालिक डोनाल्ड ट्रम्प ही थे।

ट्रेनी IAS पूजा खेडकर की ऑडी सीज, ऊटपटांग माँगों के बचाव में रिटायर्ड IAS बाप: रिवॉल्वर लहराने पर FIR के बाद लाइसेंस रद्द करने...

ट्रेनिंग के दौरान ही VIP सुविधाओं के लिए नखरा करने वाली IAS पूजा खेडकर की करस्तानियों का उनके पिता दिलीप खेडकर ने बचाव किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -