Friday, July 30, 2021
Homeदेश-समाजगाँव के ही 11 लोगों ने 6 घंटे तक किया गैंगरेप, 2 दिन तक...

गाँव के ही 11 लोगों ने 6 घंटे तक किया गैंगरेप, 2 दिन तक बेहाश रही पीड़िता: झारखंड के पाकुड़ से सब गिरफ्तार

11 आरोपितों ने बारी-बारी से 6 घंटे तक (रात 10 बजे से सुबह 4 बजे तक) अनुसुचित जनजाति की महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। इसके बाद पीड़िता को बेहोशी की हालत में उसके घर के पास छोड़ दिया।

झारखंड के पाकुड़ से मानवता को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुफ्फसिल थाना इलाके के एक गाँव में शौच के लिए गई 35 वर्षीय विवाहित महिला के साथ 11 युवकों ने गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया।

यह घटना मंगलवार (13 अप्रैल 2021) की बताई जा रही है। 11 आरोपितों ने बारी-बारी से 6 घंटे तक (रात 10 बजे से सुबह 4 बजे तक) अनुसुचित जनजाति की महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। इसके बाद पीड़िता को बेहोशी की हालत में उसके घर के पास छोड़ दिया।

दो दिन बाद जब महिला को होश आया, तो उसने आरोपितों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने इस मामले में सभी 11 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है।

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि सभी आरोपित खेत में बैठकर शराब पी रहे थे। वह उन्हें देख नहीं पाई और शौच के लिए चली गई। वहाँ दो-तीन युवकों ने आकर उसे पकड़ लिया और गमछे से उसका मुँह बंद कर दिया। इसके बाद सभी 11 आरोपितों ने खदान के पीछे खलिहान में ले जाकर उसके साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया।

पीड़िता ने आगे बताया कि आरोपितों ने उसे धमकी दी थी कि अगर वह इस घटना की शिकायत पुलिस से करेगी, तो वे उसे जान से मार देंगे। महिला के लिखित आवेदन पर मुफ्फसिल थाना में धारा 376 के तहत सभी 11 आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है।

पीड़ित महिला इस मामले में गाँव के ही विप्लव पहाड़िया, सुजीत पहाड़िया, तपन पहाड़िया, कालू पहाड़िया, झाड़ू पहाड़िया, मंडल पहाड़िया, चिचींग पहाड़िया, ओरमूल पहाड़िया, मोटू पहाड़िया, रघू पहाड़िया एवं शिशू पहाड़िया को आरोपित बनाया है। मुफ्फसिल पुलिस ने इस मामले में सभी नामजद 11 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है।

वहीं, एसडीपीओ (SDPO) अजीत कुमार विमल ने शुक्रवार को बताया कि 35 वर्षीय महिला के साथ गैंगरेप करने का मामला सामने आया है। पीड़िता की लिखित शिकायत के आधार पर मामला दर्ज करते हुए सभी 11 आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। पुलिस आगे की छानबीन में जुट गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वतंत्र है भारतीय मीडिया, सूत्रों से बनी खबरें मानहानि नहीं: शिल्पा शेट्टी की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा कि उनका निर्देश मीडिया रिपोर्ट्स को ढकोसला नहीं बताता। भारतीय मीडिया स्वतंत्र है और सूत्रों पर बनी खबरें मानहानि नहीं है।

रामायण की नेगेटिव कैरेक्टर से ममता बनर्जी की तुलना कंगना रनौत ने क्यों की? जावेद-शबाना-खान को भी लिया लपेटे में

“...बंगाल मॉडल एक उदाहरण है… इसमें कोई शक नहीं कि देश में खेला होबे।” - जावेद अख्तर और ममता बनर्जी की इसी मीटिंग के बाद कंगना रनौत ने...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,994FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe