Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाज'सनातन धर्म फर्जी, शिव काल्पनिक': हिंदू देवी-देवताओं और ग्रंथों को भला-बुरा कहने वाला झारखंड...

‘सनातन धर्म फर्जी, शिव काल्पनिक’: हिंदू देवी-देवताओं और ग्रंथों को भला-बुरा कहने वाला झारखंड का मौलाना, FIR के बावजूद खुला घूमता है

शिकायत में कालीचरण मंडल ने बताया कि 19 अगस्त 2022 को 8:40 पर उन्हें नवाब के नंबर से यह संदेश मिला था। इसमें जन्माष्टमी पर अल्लाह की इबादत और नमाज पढ़ने की बात कही गई थी। इसके अलावा श्रीकृष्ण को नकली भगवान और हिंदू धर्म को गलत बताया गया था।

झारखंड के राजमहल के साहिबगंज में एक कट्टरपंथी मौलाना पर खुलेआम हिंदू देवी-देवताओं का अपमान करने का आरोप लगा है। मौलाना का नाम नवाब शेख है। उसने कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर हिंदुओं से अल्लाह की इबादत करने को कहा था। साथ ही अपील की थी कि योगी आदित्यनाथ, अमित शाह, मोहन भागवत और आरएसएस के सभी लोग इस्लाम कबूल कर लें क्योंकि हिंदू धर्म फर्जी है और इसमें रहना अधर्म है।

संदेश में यह भी लिखा था कि कालीदास, तुलसीदास, वाल्मिकी आदि रामायण, महाभारत जैसे ग्रंथ लिख लोगों को अधर्म के रास्ते पर ले गए, ये सारी किताबें और इसमें कहीं बातें तो इस्लाम से ली गई हैं।

विहिप नेता को भेजा संदेश, पुलिस में शिकायत

नवाब शेख पर गंभीर इल्जाम होने के बावजूद वह अभी पकड़ा नहीं गया है। राजमहल थाना की पुलिस को विहिप नेता कालीचरण मंडल इस संबंध में शिकायत दे चुके हैं। शिकायत में आरोप है कि उसने ये संदेश विहिप नेता कालीचरण मंडल को जानबूझकर भेजा, ताकि वह गुस्से में उस संदेश पर कोई टिप्पणी करें, शहर का माहौल बिगड़े, और उन पर हमले हों।

हालाँकि कालीचरण ने नवाब की मंशा को समझते हुए इस संदेश पर कोई टिप्पणी नहीं की। उन्होंने मैसेज का प्रिंट और अपनी शिकायत पुलिस में देकर माँग की कि हिंदू आस्था को ठेस पहुँचाने के मामले में नवाब को गिरफ्तार किया जाए। 

शिकायत में कालीचरण मंडल ने बताया कि 19 अगस्त 2022 को 8:40 पर उन्हें नवाब के नंबर से यह संदेश मिला था। इसमें जन्माष्टमी पर अल्लाह की इबादत और नमाज पढ़ने की बात कही गई थी। इसके अलावा श्रीकृष्ण को नकली भगवान और हिंदू धर्म को गलत बताया गया था। उनके मुताबिक ये संदेश हिंदुओं की भावना आहत करने वाला था जिसमें हिंदू देवताओं को काल्पनिक या फिर इस्लाम से लिया कोई कैरेक्टर कहा गया था।

अपनी शिकायत में कालीचरण ने ध्यान दिलवाया कि मजहबी टिप्पणी करने पर लोग दूसरे धर्म के लोगों का सर तन से जुदा कर रहे हैं, चाकू से जानलेवा हमले कर रहे हैं, खुले में जान से मारने की धमकी दे रहे हैं… ऐसे में कालीचरण को भी यह संदेश इसीलिए भेजा गया ताकि वो प्रतिक्रिया दें और उनके हमला हो। उन्होंने माँग की है कि नवाब शेख के ऊपर माहौल बिगाड़ने के आरोप में कार्रवाई की जाए।

गिरफ्तारी से पुलिस की टाल-मटोल

उल्लेखनीय है कि नवाब शेख ने हिंदू धर्म के प्रति इतनी घृणा का प्रसार किया, लेकिन पुलिस प्रशासन उसे पकड़ने में असमर्थ कही जा रही है। ईवोक टीवी के दावे के मुताबिक, पुलिस अधिकारी ने तो यहाँ तक कहा कि अगर उन्होंने नवाब को पकड़ा तो नौकरी चली जाएगी।

ईवोक के पत्रकार ने जब नवाब की गिरफ्तारी के बारे में डीएसपी से पूछा तो उन्होंने कहा कि उन्होंने थाना प्रभारी को गिरफ्तारी के आदेश दे दिए हैं। वहीं जाँच अधिकारी से जब इस संबंध में पूछताछ हुई तो वो गिरफ्तारी पर स्पष्ट बयान देने की बजाय ये कहते सुनाई पड़े कि उन्हें अपने आला अधिकारियों से राय लेनी है। इसके बाद गिरफ्तारी होगी।

नवाब शेख का पुराना वीडियो- हिंदू देवताओं को बताया काल्पनिक

बता दें कि जिस नवाब शेख के ऊपर कालीचरण मंडल ने हिंदू धर्म के अपमान का आरोप लगाया है, उस पर पहले भी अक्सर हिंदू धर्म के खिलाफ घृणा फैलाने के आरोप लगते रहे हैं।

साल 2019 से पहले उसने एक वीडियो बनाया था, जिसमें वह कहता नजर आया था कि 2019 तक पूरी दुनिया इस्लामिक हो जाएगी। उसने वीडियो में कहा था, 

“दुनिया में एक अल्लाह, एक ईश्वर, एक गॉड है। लेकिन ये अनेक कैसे बने ये रहस्य हमारी वीडियो से खुलेगा। वीडियो को देखने के बाद 2019 तक दुनिया में हर कोई मुस्लिम बनने की कोशिश करेगा और लगभग लोग इसमें आ रहे हैं। चाहे ट्रंप हों, मोदी हों, योगी हों, मोहन भागवत हों, उद्धव ठाकरे हों या जितने भी कट्टरपंथी हों, ये सारे लोग ठग के शिकार हैं। ये लोग नहीं जानते कि ये जितने भी धर्म बने हैं। इनकी किताबें बनी हैं, ये सब इस्लाम से बने हैं।”

शेख आगे कहता है,

“हमारी कुरान से ये बात साफ होती है कि हर एक इंसान जो पैदा हो रहा है, जो पैदा होगा, वो इस्लाम में होगा और मुसलमान होगा। तो फिर ये लोग अलग कैसे बने, ये खुलासा हमारी वीडियो में होता है। सारे लोग ठग का शिकार है। सनातन धर्म जैसे धर्म काल्पनिक हैं। शंकर भगवान का भी सारा वर्णन काल्पनिक है। यहूदी कौम में भी जितने अवतारों का जिक्र है वो काल्पनिक है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -