Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजराम मंदिर निर्माण के लिए भिखारियों ने इकट्ठा कर दिए ₹2425, कहा- खुद को...

राम मंदिर निर्माण के लिए भिखारियों ने इकट्ठा कर दिए ₹2425, कहा- खुद को रोक न सके

इससे पहले ऐसी ही खबर मध्यप्रदेश के बैतूल जिले से सामने आई थी। वहाँ एक आदिवासी महिला देवकू बाई जो भीख माँगती थीं, उन्होंने सौ रुपए की चिल्लर मंदिर निर्माण में दान दी थी।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की खबर के बाद से देश के कोने-कोने से हर वर्ग के लोग चंदा दे रहे हैं। ऐसे में झारखंड से कुछ ऐसे रामभक्त सामने आए हैं जिनकी श्रद्धा आपके भी दिल में घर कर जाएगी। ये कोई साधारण राम भक्त नहीं है। इनका गुजर बसर स्वयं भीख माँग माँगकर चलता है, लेकिन बावजूद इसके इन्होंने श्रीराम के नाम 2425 रुपए समर्पित किए हैं।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, ये भिखारी झारखंड के रामगढ़ जिला मुख्यालय स्थित लेप्रोसी कॉलोनी में रहते हैं। यहाँ की एक निवासी सरस्वती देवी ने बताया कि वे लोग रोज भीख माँग और कचरा बीन पर जीवन-यापन करते हैं। मगर बात जब राम मंदिर की आई तो वे लोग खुद को रोक नहीं पाए। कॉलोनी के रहने वाले जीतू महतो ने भी भगवान राम के प्रति आस्था और श्रद्धा दिखाते हुए राम मंदिर के लिए 1 हजार रुपए दान दिए।

लेप्रोसी कॉलोनी में चंदा लेने गए राम मंदिर निर्माण समिति के सदस्यों और पदाधिकारियों ने ऐसी श्रद्धा देख कहा कि समाज का हर वर्ग राम मंदिर निर्माण के वास्ते बढ़-चढ़कर चंदा दे रहा है। सभी भव्य राम मंदिर के सपने को साकार होते देखना चाहते हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले ऐसी ही खबर मध्यप्रदेश के बैतूल जिले से सामने आई थी। वहाँ एक आदिवासी महिला देवकू बाई जो भीख माँगती थीं, उन्होंने सौ रुपए की चिल्लर मंदिर निर्माण में दान दी थी। विकास नगर के कार्यकर्ताओं को एक-एक रुपए की चिल्लर सौंपते हुए उन्होंने कहा कि चाहे जितना भी समय लग जाए पर भगवान आते जरूर हैं।

इसी प्रकार अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए ऋषिकेश नीलकंठ पैदल मार्ग पर गुफा में रहने वाले 83 वर्षीय संत स्वामी शंकर दास ने बीते दिनों एक करोड़ रुपये का दान दिया था। स्‍वामी शंकर दास ने अपने गुरु टाट वाले बाबा की गुफा में मिलने वाले श्रद्धालुओं के अनुदान से यह रकम जुटाई थी। वह वहाँ पिछले 60 वर्षों से गुफा में रह रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी रचने जा रहे एक और इतिहास: 75 साल में सुरक्षा परिषद बैठक की अध्यक्षता करने वाले बनेंगे पहले भारतीय प्रधानमंत्री

75 साल में ये पहला मौका है, जब एक भारतीय प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र के 15 सदस्यीय निकाय के एक कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे।

रसगुल्ला के कारण राजदीप ने बंगाल हिंसा पर नहीं पूछा सवाल: TheLallantop के शो में कबूली बात, देखें वीडियो-समझें पत्रकारिता

राजदीप सरदेसाई ने कहा कि उन्होंने CM ममता बनर्जी से बंगाल हिंसा पर इसीलिए सवाल नहीं पूछे, क्योंकि ऐसा करने पर उन्हें रसगुल्ला नहीं मिलता।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,434FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe