Monday, April 19, 2021
Home देश-समाज JNU की जिस प्रेसिडेंट का रात में फूटा माथा, दिन में वो खुद नक़ाबपोश...

JNU की जिस प्रेसिडेंट का रात में फूटा माथा, दिन में वो खुद नक़ाबपोश हमलावरों के साथ थीं – Video Viral

JNUSU की प्रेसिडेंट एक तरफ़ तो पूरे प्रकरण के लिए ABVP को दोषी ठहराने में जुटी रहीं, वहीं दूसरी तरफ़ उनकी पोल इस बात पर खुल जाती है कि अगर ऐसा है तो फिर वो ख़ुद मास्क लगाए गुंडों के साथ दिन के उजाले में क्या कर रही थीं?

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) अभी चर्चा में है। वहाँ कैंपस में नकाबपोशों के द्वारा हिंसा की गई है। आरोप-प्रत्यारोप वामपंथी और दक्षिणपंथी दोनों एक-दूसरे पर लगा रहे हैं। हिंसा छोटी-मोटी नहीं बल्कि भयानक स्तर की – यह आप वहाँ से आए वीडियो और फोटो देखकर समझ सकते हैं। इसी हिंसा का शिकार JNUSU (जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन) की अध्यक्ष आइशी घोष भी हुईं। उनका सर फटा, खून से लथपथ उनका चेहरा वायरल हुआ। चूँकि आइशी घोष वामपंथ से हैं, तो जाहिर सी बात है कि आरोप दक्षिणपंथी ABVP पर लगाया गया। खबरें भी बनीं, वायरल भी हुई।

यह पूरा प्रकरण कल यानी 5 जनवरी को देर रात हुआ। लेकिन सुबह होते-होते यानी 6 जनवरी को JNU में हिंसा किसने की, हिंसा को कौन प्रभावित कर रहा था – इसका दूसरा पहलू भी सामने आ गया। जो आरोप ABVP पर लगा कर उसे गुंडा तत्व बताया जा रहा था, दो वीडियो ने इस आरोप की हवा निकाल दी। लेकिन वीडियो में दिख रहे उजाले और मास्क पहने लड़के-लड़कियों को समझने के लिए आपको 5 जनवरी को हुई हिंसा से दो दिन पहले हुए घटनाक्रम को समझना होगा।

JNU में हिंसा की शुरुआत होती है 3 जनवरी से। लेकिन यह मेनस्ट्रीम मीडिया में खबर बनकर आती नहीं है। आती भी है तो छिटपुट घटना के तौर पर। दरअसल उस दिन छात्रों के एक नक़ाबपोश ग्रुप ने दोपहर के क़रीब 1 बजे सूचना प्रणाली केंद्र में जबरन घुसकर लाइट बंद कर दी थी, पूरे टेक्निकल स्टाफ़ को बाहर खदेड़ दिया था और सर्वर बंद कर दिया। ये सब इसलिए किया गया था ताकि जो छात्र (पढ़ने वाले, आंदोलन से जिनका दूर-दूर तक कोई वास्ता नहीं) अपने सेमेस्टर एग्जाम के लिए रजिस्ट्रेशन करवा रहे थे, उनको रोका जाए, उन्हें जबरन अपने आंदोलन से जोड़ा जाए। विश्वविद्यालय प्रशासन को यह दिखाया जाए कि सभी छात्र आंदोलन में एकसाथ हैं। वामपंथी छात्रसंघ का यह हंगामा सफल भी हुआ और छात्रों का रजिस्ट्रेशन प्रोसेस उस दिन बुरी तरह से प्रभावित हो गया, उसे बंद करना पड़ा।

इस खबर को आप डिटल में यहाँ पढ़ सकते हैं : JNU में नक़ाबपोश छात्रों ने लाइट बंद कर किया हंगामा: टेक्निकल स्टाफ को किया बाहर, रजिस्ट्रेशन में डाला व्यवधान

4 जनवरी को माहौल गर्म था लेकिन कुछ हुआ नहीं। फिर 5 जनवरी को क्यों भड़क गई बात? इसके पीछे वजह टेक्निकल है। 5 जनवरी यानी रविवार को रजिस्ट्रेशन का आखिरी दिन था। एबीवीपी से जुड़े छात्रों के अलावा भी जो पढ़ाई-लिखाई का प्रक्रिया से जुड़े रहना चाहते थे, वो रजिस्ट्रेशन के लिए गए थे। मगर लेफ्ट विंग के छात्रों ने सर्वर रूम को लॉक कर दिया और वाई-फाई काट दिया। जिसकी वजह से उनका रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाया। बात इतने पर भी खत्म नहीं हुई। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में आ रही समस्या को देखते हुए कुछ छात्र-छात्राएँ मैनुअल रजिस्ट्रेशन करवा रहे थे। अब वामपंथियों को लगने लगा कि आंदोलन उनके हाथ से फिसलता जा रहा है। अगर छात्र ही उनके साथ नहीं होंगे तो फिर काहे की छात्र राजनीति! बस उन्होंने मैनुअल रजिस्ट्रेशन करवा रहे छात्र-छात्राओं के साथ मारपीट शुरू कर दी। और यह सब हुआ दिन के उजाले में। जबकि नेशनल मीडिया में JNU बवाल की खबर आती है शाम से। वीडियो, फोटो शेयर किए जाते हैं रात वाले।

आइशी घोष (बाएँ लाल घेरे में, दाएँ घायल)

रात में जितना भी बवाल होता है, जितनों को चोट लगती है – सबका आरोप ABVP के ऊपर मढ़ दिया जाता है। PM मोदी से लेकर अमित शाह तक को आतंकवादी बता दिया जाता है। और खुद JNUSU प्रेसिडेंट के सर फटी तस्वीर से नैरेटिव फिट भी बैठ रहा था वामपंथियों का… लेकिन ट्विस्ट आता है सोशल मीडिया के जरिए 6 जनवरी को – 2 वीडियो के जरिए। दोनों दिन के उजाले वाले वीडियो। एक में भीड़ द्वारा छात्र-छात्राओं को पीटा जाना, दूसरे में मास्क पहने या मुँह ढँकी भीड़ के साथ खुद JNUSU प्रेसिडेंट का होना। JNU प्रशासन ने भी जो बयान जारी किया, उसमें भी कहा गया कि विरोध-प्रदर्शन कर रहे छात्रों द्वारा नए सेमेस्टर के लिए पंजीकरण कराने गए छात्रों को रोकने की कोशिश की गई, उनके साथ मारपीट की गई।

लेकिन, सोशल मीडिया के युग में सच्चाई अधिक दिनों तक छिप नहीं पाती। ऐसा ही कुछ इस मामले में भी हुआ। दरअसल, ट्विटर पर अभिजीत अय्यर मित्रा ने एक वीडियो क्लिप शेयर की, जो सूर्यास्त के पहले शाम 5:37 बजे की है। इस क्लिप में आइशी को ख़ुद उन्हीं नक़ाबपोश छात्रों के समूह के साथ देखा गया। इस वीडियो में देखा जा सकता है कि वो न सिर्फ़ उन नक़ाबपोशों के साथ थीं बल्कि वो उन छात्रों को डायरेक्शन भी दे रही थीं।

वामपंथियों की करतूत का पर्दाफ़ाश करते इस इसी वीडियो को फ़िल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने भी शेयर किया और लिखा कि ख़ुद वामपंथी गिरोह रजिस्ट्रेशन करने देना नहीं चाहते थे, इसलिए उन्होंने छात्रों के साथ मारपीट की, वाई-फाई कनेक्शन काट दिया और फिर वापस अपने हॉस्टल में आ गए।

ग़ौर करने वाली बात यह है कि JNUSU की प्रेसिडेंट एक तरफ़ तो पूरे प्रकरण के लिए ABVP को दोषी ठहराने में जुटी रहीं, वहीं दूसरी तरफ़ उनकी पोल इस बात पर खुल जाती है कि अगर ऐसा है तो फिर वो ख़ुद मास्क लगाए गुंडों के साथ क्या कर रही थीं?

सच तो यह है कि JNU में यह सब एक ऐसी साज़िश के तहत किया गया जिसका मक़सद ABVP को बदनाम कर उसे हिंसात्मक दिखाना है और लोगों के बीच भाजपा के छात्र संगठन के लिए ज़हर घोलना है। छात्रों को रजिस्ट्रेशन न करने देने की धमकी और विश्वविद्यालय में उत्पात मचाने के पीछे एक सोची-समझी चाल थी, जिसके पासे ख़ुद वामपंथियों ने ही फेंके थे।

JNU हिंसा में वामपंथी हुए बेनकाब! एक मोबाइल नंबर, एक व्हॉट्सअप ग्रुप और कई स्क्रीनशॉट से पर्दाफाश

‘रजिस्ट्रेशन कराने गईं छात्राओं के प्राइवेट पार्ट पर हमला, बाथरूम ले जाकर दुर्व्यवहार’ – JNU मामले में गंभीर आरोप

‘जामिया में पुलिस क्यों घुसी’ से लेकर ‘JNU में पुलिस क्यों नहीं गई’ तक: गिरोह विशेष का दोहरा रवैया

JNU में हमला कर रही नकाबपोश गुंडी ABVP कार्यकर्ता नहीं है, फैलाया जा रहा झूठ: Fact Check

500 नक्सली JNU में घुस आए थे, जान बचा कर जंगलों से भागा: BPSC अफसर की आपबीती

JNU में आतंक के 8 घंटे: मास्क लगाए गुंडों ने मचाई तबाही, छात्र-छात्राओं से लेकर टीचर-गार्ड तक घायल

JNU में नक़ाबपोश छात्रों ने लाइट बंद कर किया हंगामा: टेक्निकल स्टाफ को किया बाहर, रजिस्ट्रेशन में डाला व्यवधान

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कॉन्ग्रेसी’ साकेत गोखले ने पूर्व CM के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत, शिवसेना नेता कहा- ‘फडणवीस के मुँह में डाल देता कोरोना’

शिवसेना के विधायक संजय गायकवाड़ ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्‍होंने कहा है कि अगर उन्हें कहीं कोरोना वायरस मिल जाता, तो वह उसे भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस के मुँह में डाल देते।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 26 अप्रैल तक 5 शहरों में लगाए कड़े प्रतिबन्ध, योगी सरकार ने पूर्ण लॉकडाउन से किया इनकार

योगी आदित्यनाथ सरकार ने शहरों में लॉकडाउन लगाने से इंकार कर दिया है। यूपी सरकार ने कहा कि प्रदेश में कई कदम उठाए गए हैं और आगे भी सख्त कदम उठाए जाएँगे। गरीबों की आजीविका को भी बचाने के लिए काम किया जा रहा है।

वामपंथियों के गढ़ जेएनयू में फैला कोरोना, 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित: 4 की हालत गंभीर

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली में भी कोविड ने एंट्री मार ली है। विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित पाए गए हैं।

‘मई में दिखेगा कोरोना का सबसे भयंकर रूप’: IIT कानपुर की स्टडी में दावा- दूसरी लहर कुम्भ और रैलियों से नहीं

प्रोफेसर मणिन्द्र और उनकी टीम ने पूरे देश के डेटा का अध्ययन किया। अलग-अलग राज्यों में मिलने वाले कोरोना के साप्ताहिक आँकड़ों को भी परखा।

‘कुम्भ में जाकर कोरोना+ हो गए CM योगी, CMO की अनुमति के बिना कोविड मरीजों को बेड नहीं’: प्रियंका व अलका के दावों का...

कॉन्ग्रेस नेता प्रियंका गाँधी ने CMO की अनुमति के बिना मरीजों को अस्पताल में बेड्स नहीं मिल रहे हैं, अलका लाम्बा ने सीएम योगी आदित्यनाथ के कोरोना पॉजिटिव होने और कुम्भ को साथ में जोड़ा।

जमातों के निजी हितों से पैदा हुई कोरोना की दूसरी लहर, हम फिर उसी जगह हैं जहाँ से एक साल पहले चले थे

ये स्वीकारना होगा कि इसकी शुरुआत तभी हो गई थी जब बिहार में चुनाव हो रहे थे। लेकिन तब 'स्पीकिंग ट्रुथ टू पावर' वालों ने जैसे नियमों से आँखें मूँद ली थी।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

ईसाई युवक ने मम्मी-डैडी को कब्रिस्तान में दफनाने से किया इनकार, करवाया हिंदू रिवाज से दाह संस्कार: जानें क्या है वजह

दंपत्ति के बेटे ने सुरक्षा की दृष्टि से हिंदू रीति से अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था। उनके पार्थिव देह ताबूत में रखकर दफनाने के बजाए अग्नि में जला देना उसे कोरोना सुरक्षा की दृष्टि से ज्यादा ठीक लगा।

रोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़, पेंडिग है 67 हजार+ केस

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने याचिककर्ता के वकील को राहत देते हुए एसएलपी पर हो रही सुनवाई को स्थगित कर दिया।

Remdesivir का जो है सप्लायर, उसी को महाराष्ट्र पुलिस ने कर लिया अरेस्ट: देवेंद्र फडणवीस ने बताई पूरी बात

डीसीपी मंजूनाथ सिंगे ने कहा कि पुलिस ने किसी भी रेमडेसिविर सप्लायर को गिरफ्तार नहीं किया है बल्कि उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया था, क्योंकि...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,232FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe