Friday, April 12, 2024
Homeदेश-समाजकश्मीरी छात्राओं को चाहिए 'निजाम-ए-मुस्तफा', बुर्काधारी औरतें देखना चाहती हैं नुपूर शर्मा का 'सिर...

कश्मीरी छात्राओं को चाहिए ‘निजाम-ए-मुस्तफा’, बुर्काधारी औरतें देखना चाहती हैं नुपूर शर्मा का ‘सिर तन से जुदा’ : वीडियोज

एक वीडियो कश्मीर की कुछ स्कूली छात्राओं की है। इन लड़कियों को हिजाब बाँधे सड़कों पर खुलेआम 'कश्मीर में चलेगा निजाम-ए-मुस्तफा। गुस्ताख-ए-रसूल की एक ही सजा सिर तन से जुदा, सिर तन से जुदा' कहते सुना जा सकता है।

पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी मामले में नुपूर शर्मा की हत्या की माँग अब भी कट्टरपंथी लगातार कर रहे हैं। उनके इस अभियान में पहले छोटे लड़के जोड़े गए और अब कौम की महिलाओं व लड़कियों ने भी नुपूर शर्मा का सिर तन से जुदा देखने की इच्छा जाहिर कर दी है। सोशल मीडिया पर ऐसी कई वीडियोज वायरल हो रही हैं जिसमें कश्मीर की औरतें व स्कूली छात्राएँ खुलेआम सड़कों पर निजाम-ए-मुस्तफा माँग रही हैं।

एक वीडियो कश्मीर के सोपोर क्षेत्र से आई है। इसमें बुर्काधारी महिला एक लय में गा रही है, “गुस्ताख-ए-नबी का सिर चाहिए।” इसके बाद पीछे खड़ी सारी महिलाएँ भी इसी शब्द को दोहराती हैं। आगे उन्हें कहते सुना जा सकता है, “गुस्ताख-ए-नबी की एक सजा, सिर तन से जुदा-सिर तन से जुदा।” ये महिलाएँ धमकी देती हैं- “गुस्ताख-ए-नबी तेरी खैर नहीं, खैर नहीं, तेरी खैर नहीं।”

अगली वीडियो कश्मीर की कुछ स्कूली छात्राओं की है। इन लड़कियों को हिजाब बाँधे सड़कों पर खुलेआम ‘कश्मीर में चलेगा निजाम-ए-मुस्तफा। गुस्ताख-ए-रसूल की एक ही सजा सिर तन से जुदा, सिर तन से जुदा’ कहते सुना जा सकता है।

एक वीडियो कुछ अन्य कश्मीरी छात्र लड़कों की है। इस वीडियो में छात्र नुपूर शर्मा का सिर काटने की माँग रहे हैं। वीडियो में सुना जा सकता है कि पहले एक छात्र पूछता है ‘बोलो-बोलो क्या चाहिए।’ इस पर पीछे चल रहे छात्र कहते हैं- ‘नुपूर शर्मा का सिर चाहिए।’ फिर ये छात्र नुपूर शर्मा मुर्दाबाद के नारे भी लगाते हैं।

सामने आई युवा लड़कों की वीडियो कथिततौर पर कश्मीर की सेंट्रल यूनिवर्सिटी की है। जहाँ कश्मीर के गांदरबेल के लॉ विभाग के छात्रों ने सड़कों पर हाथ में पोस्टर लेकर नुपूर शर्मा के खिलाफ नारेबाजी की। 13 जून को एक यूजर ने इस वीडियो को शेयर करके राज्य के उपराज्यपाल से कार्रवाई की माँग की थी और दावा किया था कि ये वीडियो 13 जून की ही है।

गौरतलब है कि नुपूर शर्मा केस में कट्टरपंथियों लगातार देश के कोने-कोने से तस्वीरें आ रही हैं। कहीं पर हिंदुओं को धमकी दी जा रही है कि वो देश छोड़ दें तो कहीं पर निजाम-ए-मुस्तफा माँगा जा रहा है। हाल में मुंबई में भी बुर्का पहनी कई महिलाएँ और बच्चियाँ नूपुर शर्मा के विरोध में प्रदर्शन में शामिल की गई थीं। बुजुर्गों से लेकर युवा तक ने सड़कों पर उतर कर माहौल बिगाड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। वीडियोज में देखा गया था कि कैसे कुछ युवक खुलेआम नुपूर शर्मा की हत्या की बात बेखौफ होकर कर रहे थे। इन युवकों की उम्र ज्यादा नहीं थी लेकिन रील्स में ये कहते सुनाई पड़ते हैं, “जिसने नबी की शान में गुस्ताखी की है। कानून का काम है उसे फाँसी देना और अगर हम इंसाफ पर उतर आए तो हमें आतंकवादी मत कहना।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों को MSP की कानूनी गारंटी देने का कॉन्ग्रेसी वादा हवा-हवाई! वायर के इंटरव्यू में खुली पार्टी की पोल: घोषणा पत्र में जगह मिली,...

कॉन्ग्रेस के पास एमएसपी की गारंटी को लेकर न कोई योजना है और न ही उसके पास कोई आँकड़ा है, जबकि राहुल गाँधी गारंटी देकर बैठे हैं।

जज की टिप्पणी ही नहीं, IMA की मंशा पर भी उठ रहे सवाल: पतंजलि पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ईसाई बनाने वाले पादरियों के ‘इलाज’...

यूजर्स पूछ रहे हैं कि जैसी सख्ती पतंजलि पर दिखाई जा रही है, वैसी उन ईसाई पादरियों पर क्यों नहीं, जो दावा करते हैं कि तमाम बीमारी ठीक करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe