Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजमनसुख हिरेन की लाश, 5 रुमाल और मुंबई पुलिस का 'तावड़े': पेंच कई, 'एंटीलिया'...

मनसुख हिरेन की लाश, 5 रुमाल और मुंबई पुलिस का ‘तावड़े’: पेंच कई, ‘एंटीलिया’ के बाहर मिली थी विस्फोटक लदी कार

जिस विरार में उनका आखिरी लोकेशन मिला, वो पालघर में है। लाश ठाणे की खाड़ी में मिली। ठाणे से विरार की दूरी 50 किलोमीटर के करीब है। विपक्ष पूछ रहा कि इतने सारे संयोग?

पिछले दिनों मुकेश अंबानी के मुंबई स्थित घर एंटीलिया के बाहर एक विस्फोटक लदी SUV कार पार्क की हुई मिली थी। इसके मालिक मनसुख हिरेन की शुक्रवार (मार्च 5, 2021) को लाश मिली थी। यह घटना तब हुई जब विधानसभा में पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने हिरेन की सुरक्षा का मुद्दा कुछ ही घंटों पहले उठाया था। मुम्ब्रा की खाड़ी में उनकी लाश मिली थी। उनकी पत्नी ने आत्महत्या के दावों को नकार दिया है। परिजनों का कहना है कि उनकी कार चोरी हो गई थी।

उन्होंने चोरी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। पत्नी का कहना है कि इसके बाद उनके पति को पुलिस स्टेशन में रोज पूछताछ के लिए बुलाया जाता था। उनका दावा है कि लाश मिलने से 1 दिन पहले भी मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया था, लेकिन फिर उनकी लाश ही मिली। पत्नी विमला हिरेन ने बताया कि कांदिवली से तावड़े नामक किसी पुलिस अधिकारी का कॉल आया था।

जाने के कई घंटों बाद जब मनसुख हिरेन का फोन नंबर नहीं मिल रहा था तो परिवार ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने इसे तकनीकी मामला बताते हुए कहा की ये कार मनसुख के पास ज़रूर थी, लेकिन वो इसके मालिक नहीं थे और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही कुछ भी कहा जा सकेगा। उन्होंने कहा कि ATC (आतंक निरोधी दस्ता) इस मामले की जाँच करेगा। मनसुख के पड़ोसियों ने उन्हें एक हँसमुख व मिलनसार इंसान करार दिया है।

उन्हें 10-15 वर्षों से जानने वाले लोगों ने कहा कि ये सब कैसे हो गया, उन्हें विश्वास ही नहीं हो रहा। उनके तीन बेटे भी हैं। उनकी आखिरी लोकेशन ठाणे से काफी दूर विवार इलाके की थी। वो अपने इलाके के बच्चों को तैरना सिखाते थे। पूर्व सीएम फडणवीस का पूछना है क्रॉफर्ड मार्केट में उनसे मिलने वाला पहला व्यक्ति कौन था? उन्होंने आरोप लगाया कि मुंबई पुलिस एक गवाह की सुरक्षा नहीं कर पाई। पुलिस अधिकारी सचिन वाजे से उनकी कई बार फोन पर बातचीत होने के आरोप भी उन्होंने दोहराए।

उन्होंने माँग करते हुए कहा कि इस मामले की निष्पक्ष जाँच अब NIA ही कर सकती है। उन्होंने पूछा कि धमकी भरा पत्र सचिन वाजे को ही क्यों मिला और वे घटनास्थल पर सबसे पहले कैसे पहुँचे? ये वही अधिकारी हैं, जिन्होंने अर्णब गोस्वामी को गिरफ्तार किया था। वहीं देशमुख का कहना है कि कि अगर फडणवीस के पास कोई जानकारी है तो वो मुंबई पुलिस से साझा करें, क्योंकि वो ठीक तरीके से जाँच कर रही है और उन पर कोई शक नहीं कर सकता।

मनसुख हिरेन के शव की जाँच के दौरान उनके मुँह से 5 रुमाल भी निकले हैं, जो रहस्य को और बढ़ा रहे हैं। ठाणे में ऑटोमोबाइल पार्ट्स का कारोबार चलाने वाले हिरेन का शव संदिग्ध अवस्था में मिला था और शुरुआती बयान में मुंबई पुलिस ने इसे आत्महत्या प्रतीत होता बताया था। जिस विरार में उनका आखिरी लोकेशन मिला, वो पालघर में है। ठाणे से वहाँ की दूरी 50 किलोमीटर के करीब है।

रुमाल वाले मामले में मुंबई पुलिस का कुछ और ही कहना है। उसका कहना है कि ये रुमाल चेहरे से बँधे हुए मिले हैं, मुँह के एकदम भीतर नहीं थे। कपड़ों से टुकड़ों से उनके चेहरे को ढक दिया गया था। महाराष्ट्र सरकार का कहना है कि अंबानी के घर के बाहर मिले कार के मालिक का नाम सैम पीटर न्यूटन है, मनसुख का तो उस पर कब्ज़ा भर था। विपक्ष पूछ रहा है कि इस मामले में एक साथ इतने सारे संयोग कैसे?

इससे पहले, फडणवीस ने यह भी दावा किया कि एक नहीं बल्कि दो कारें थीं- एक स्कॉर्पियो और एक इनोवा और दावा किया कि दोनों कारें ठाणे से आई थीं और उसी रास्ते से चलकर लोकेशन तक पहुँची थीं। उन्होंने कहा कि मुकेश अंबानी के आवास के पास विस्फोटकों के साथ एक स्कॉर्पियो खड़ी थी, जबकि इनोवा इसे छोड़कर आगे बढ़ गई थी। फडणवीस ने मुकेश अंबानी के खिलाफ हमले के पीछे साजिश रचने का आरोप लगाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुहर्रम पर यूपी में ना ताजिया ना जुलूस: योगी सरकार ने लगाई रोक, जारी गाइडलाइन पर भड़के मौलाना

उत्तर प्रदेश में डीजीपी ने मुहर्रम को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी हैं। इस बार ताजिया का न जुलूस निकलेगा और ना ही कर्बला में मेला लगेगा। दो-तीन की संख्या में लोग ताजिया की मिट्टी ले जाकर कर्बला में ठंडा करेंगे।

हॉकी में टीम इंडिया ने 41 साल बाद दोहराया इतिहास, टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुँची: अब पदक से एक कदम दूर

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलिंपिक 2020 के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। 41 साल बाद टीम सेमीफाइनल में पहुँची है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,543FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe