Sunday, September 19, 2021
Homeदेश-समाज'मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं': दिल्ली HC में हर्ष...

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने वाले खुलासे

एनसीपीसीआर के मुताबिक बच्चों ने बताया कि बड़े लड़कों को सीएए (CAA) के विरोध में प्रदर्शन स्थल पर भेजा गया था। वहीं, एक बच्चे ने तो यहाँ तक कह दिया कि पीएम मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं और पाकिस्तान से लड़ते हैं।

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने मंगलवार (27 जुलाई) को दिल्ली हाईकोर्ट को बताया कि उन्होंने विभिन्न विसंगतियों और उल्लंघनों को पाए जाने के बाद ही हर्ष मंदर से जुड़े दो बाल गृहों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की थी। उन्होंने बताया कि दो घर जाँच के घेरे में हैं। पहला लड़कों के लिए ‘उम्मीद अमन घर’ और दूसरा लड़कियों के लिए ‘खुशी रेनबो होम’ है। हर्ष मंदर के खिलाफ फरवरी 2021 में एफआईआर दर्ज की गई थी।

एनसीपीसीआर के मुताबिक बच्चों ने बताया कि बड़े लड़कों को सीएए (CAA) के विरोध में प्रदर्शन स्थल पर भेजा गया था। वहीं, एक बच्चे ने तो यहाँ तक कह दिया कि पीएम मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं और पाकिस्तान से लड़ते हैं। आयोग ने कहा कि लड़कियों में से एक ने आयोग को बताया कि वह 4-5 लड़कियों के साथ सीएए के विरोध में जंतर-मंतर गई थी। उन्होंने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

एनसीपीसीआर ने कहा कि बच्चों को जंतर-मंतर समेत अन्य धरना स्थलों पर ले जाया गया, जो नियमों का उल्लंघन है। आयोग ने सेंटर फॉर इक्विटी स्टडीज (सीईएस) द्वारा दायर याचिका के जवाब में अपना जवाब दिया था, जो बच्चों के घरों को चलाता है। मंदर सीईएस में निदेशक है। याचिका में उन्होंने अदालत से एनसीपीसीआर द्वारा प्रस्तुत निरीक्षण रिपोर्ट को रद्द करने का अनुरोध किया है।

एनसीपीसीआर ने अपने जवाब में कहा, ”निरीक्षण के दौरान प्रथम दृष्टया किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 और इसके मॉडल नियम, 2016 के कई उल्लंघन और कई अन्य अनियमितताएँ NCPCR के संज्ञान में आईं, जिनमें वित्तीय अनियमितताएँ भी शामिल थीं। संस्थान निरीक्षण दल को अपने वित्त पोषण के स्रोतों और अन्य प्रासंगिक दस्तावेजों का खुलासा नहीं कर रहा था।

एनसीपीसीआर ने अपने जवाब में आगे कहा कि यह कार्रवाई कलिंग राइट्स फोरम द्वारा दायर एक शिकायत के आधार पर की गई थी। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया था कि मंदर द्वारा संचालित दो घरों में केवल एक विशेष धर्म के बच्चों को रखा जा रहा था। उसने यह भी आरोप लगाया कि इसके लिए सीईएस को बहुत धन प्राप्त हुआ था, जिसका उपयोग धर्मांतरण जैसी अवैध गतिविधियों के लिए किया जा रहा था।

एनसीपीसीआर ने अपने जवाब में कई कथित उल्लंघनों का उल्लेख किया है। पहला पंजीकरण की समय सीमा समाप्त होना, अपर्याप्त स्टाफ और बुनियादी ढाँचा, बच्चों के बीच अलगाव। इसके अलावा रोजगार और पर्यटक वीजा पर विदेशी नागरिकों को घरों में स्वैच्छिक सेवाएँ देने की अनुमति देना शामिल है।

बता दें कि एनसीपीसीआर ने इस साल की शुरुआत में एक रिपोर्ट में कहा था, ”निरीक्षण के दौरान उसने दोनों घरों में किशोर न्याय अधिनियम के कई उल्लंघन और अन्य विभिन्न अनियमितताओं को देखा, जिसमें घर पर लड़कों के यौन शोषण के मामले भी शामिल थे। वहीं, सीईएस ने आरोपों का खंडन किया है और कहा कि इसके निदेशक हर्ष मंदर की प्रतिष्ठा को खराब करने के लिए ये सब आरोप लगाए जा रहे हैं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe