Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजमस्जिद के इमाम ने 8 महीने की गर्भवती बीवी को मार डाला, मस्जिद की...

मस्जिद के इमाम ने 8 महीने की गर्भवती बीवी को मार डाला, मस्जिद की छत से दे दिया धक्का: बेटा चाहता था, लेकिन बेटी होने का था शक

पुलिस ने बताया कि मस्जिद से गिरने के कारण हिना की मौके पर ही मौत हो गई थी। इसके बाद इमाम ने हिना की माँ खुर्शीदा को 'जादू-टोने' की प्रक्रिया का बहाना बताकर उसकी मौत होना बताया।

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर से दिल दहलाने वाली खबर सामने आई है। यहाँ कुतुबशेर थानाक्षेत्र के 62 फुटा रोड पर स्थित एक मस्जिद में अपनी गर्भवती बीवी की हत्या करने वाले इमाम को गिरफ्तार कर लिया गया है। कुतुबशेर थाना प्रभारी पीयूष दीक्षित ने बताया कि मस्जिद के इमाम उस्मान (अब्बा का नाम हुसैन) को पुलिस ने रविवार (22 मई, 2022) दोपहर को मस्जिद के पास से गिरफ्तार किया था।

आरोपित ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। उस्मान ने पुलिस को बताया कि उसकी बीवी हिना आठ माह की गर्भवती थी। वह बेटा चाहता था। इसलिए उसने अपने ‘जादू-टोने’ से पता किया कि उसकी बीवी के गर्भ में क्या है। जब उसे ‘पता चला’ कि उसके गर्भ में बेटी है, तो उसने हिना को कई बार गर्भपात करने के लिए कहा, लेकिन वह नहीं मानी। इसके बाद उसने 12 मई को अपनी बीवी को मस्जिद की छत से धक्का देकर उसकी हत्या कर दी। सराहनपुर पुलिस ने रविवार को महिला का शव कब्र से निकलवा कर उसे पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा।

पुलिस ने बताया कि मस्जिद से गिरने के कारण हिना की मौके पर ही मौत हो गई थी। इसके बाद इमाम ने हिना की माँ खुर्शीदा को ‘जादू-टोने’ की प्रक्रिया का बहाना बताकर उसकी मौत होना बताया। जिसके बाद खुर्शीदा ने कहीं भी उसकी शिकायत नहीं की और शव को सुपुर्द-ए-खाक कर दिया था। लेकिन जब उसे इस बात का पता चला कि उस्मान ही उसकी बेटी का कातिल है, तब खुर्शीदा (हिना की अम्मी) ने उस्मान और उसके दो अन्य साथियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कराया। पुलिस ने जब इस मामले में जाँच की तो उस्मान को दोषी पाया

बता दें कि उस्मान मूल रूप से बंदरजूड़ मुजाहिदपुर सतीवाला जिला हरिद्वार उत्तराखंड का रहने वाला है। हिना से 10 साल पहले उसका निकाह हुआ था। बाकी दो साथियों की तलाश की जा रही है। वहीं, कुतुबशेर थाना प्रभारी का कहना है कि अभी पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भिंडराँवाले के बाद कॉन्ग्रेस ने खोजा एक नया ‘संत’… तब पैसा भेजते थे, अब संसद में कर रहे खुला समर्थन: समझिए कैसे नेहरू-गाँधी परिवार...

RA&W और सेना के पूर्व अधिकारी कह चुके हैं कि कॉन्ग्रेस ने पंजाब में खिसकती जमीन वापस पाने के लिए भिंडराँवाले को पैदा किया। अब वही फॉर्मूला पार्टी अमृतपाल सिंह के साथ आजमा रही। कॉन्ग्रेस के बड़े नेता जरनैल सिंह के सामने फर्श पर बैठते थे। संजय गाँधी ने उसे 'संत' बनाया था।

‘वनवासी महिलाओं से कर रहे निकाह, 123% बढ़ी मुस्लिम आबादी’: भाजपा सांसद ने झारखंड में NRC के लिए उठाई माँग, बोले – खाली हो...

लोकसभा में बोलते हुए सांसद निशिकांत दुबे ने कहा, विपक्ष हमेशा यही बोलता रहता है संविधान खतरे में है पर सच तो ये है संविधान नहीं, इनकी राजनीति खतरे में है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -