Monday, November 29, 2021
Homeदेश-समाजअंतिम संस्कार के लिए इस्लाम कबूलने की शर्त, वाराणसी में हिंदू नट समुदाय ने...

अंतिम संस्कार के लिए इस्लाम कबूलने की शर्त, वाराणसी में हिंदू नट समुदाय ने पुलिस में की शिकायत

हिन्दू जागरण मंच के पदाधिकारी गौरीश सिंह ने ऑपइंडिया को बताया कि धर्मान्तरण के बाद भी हिन्दू नाम रखने के पीछे सरकार और समाज को गुमराह करते हुए अनुसूचित जाति के लाभ लेते रहने की सोच और साजिश है। उन्होंने दावा किया कि 23 जून 2021 को उन्हें इसी स्थान पर एक बच्चे के खतना करवाने की सूचना मिली थी।

उत्तर प्रदेश की धर्मनगरी वाराणसी में नट समाज के कई लोगों ने इस्लाम में जबरन धर्मान्तरण के लिए उन पर दबाव बनाए जाने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि उनके समुदाय के लोगों को दफनाने से रोका जा रहा है और इस्लाम अपनाने के बाद ही इसकी अनुमति देने की बात कही जा रही है। यह प्रकरण 30 अक्टूबर 2021 (शनिवार) का है। इस घटना की शिकायत स्थानीय फूलपुर थाने में की गई है। हिन्दू जागरण मंच ने भी प्रशासन से दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की माँग की है। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है।

घटना वाराणसी शहर से लगभग 30 किलोमीटर दूर फूलपुर थानाक्षेत्र के रामपुर गाँव की है। 29 अक्टूबर 2021 (शुक्रवार) को रामपुर गाँव की रहने वाली सुशीला देवी की मृत्यु हो गई थी। अगले दिन 30 अक्टूबर 2021 (शनिवार) को उनके पति सचाऊ नट अपने समुदाय के अन्य लोगों के साथ मृतका को दफनाने के लिए भरावर बस्ती पहुँचे, लेकिन उन्हें अंतिम संस्कार करने से रोक दिया गया। हिन्दुओं की नट जाति में मृत्यु के बाद शव को दफनाए जाने की परम्परा है।

ऐसा पहली बार हुआ था, जिसके चलते अंतिम संस्कार करवाने गए कई लोगों की समझ में कुछ आया ही नहीं। जब उन्हें रोकने की वजह पूछी गई तो अंतिम संस्कार से पहले इस्लाम कबूल करने की शर्त रख दी गई। इस घटना की जानकारी हिन्दू संगठनों को हुई तो वो घटनास्थल पर पहुँच गए। मौके पर पुलिस भी बुला ली गई।

पुलिस ने अंतिम संस्कार से रोकने वालों को दुबारा ऐसा न करने की चेतावनी दी। पुलिस की मौजूदगी में मृतका का अंतिम संस्कार लगभग 2 बजे हो पाया। इस प्रकरण में हिन्दू जागरण मंच के पदाधिकारी गौरीश सिंह ने बताया है कि इस्लाम कबूल करने का दबाव बनाने वाले लोग भी पहले हिन्दुओं के नट समाज से थे। धीरे-धीरे उन्होंने इस्लाम कबूल कर लिया और अब बाकी नटों पर भी उसी का दबाव बनाया जा रहा है।

नट अनुसूचित जाति वर्ग से आते हैं। ऑपइंडिया के पास पीड़ितों द्वारा थाने में दी गई तहरीर मौजूद है। तहरीर में उन्होंने भू समाधि परम्परा में व्यवधान डाले जाने की शिकायत की है। प्रार्थना पत्र में यह भी बताया गया है कि भू समाधि स्थल उनकी परम्परागत जगह है। वह जमीन नटों के अनुसार सरकार द्वारा आबंटित है। शिकायत के अनुसार, जबरन इस्लाम कबूलने का दबाव बनाने वालों में चिल्लू नट, सबीर नट, लालचंद नट, सुभाष नट प्रमुख हैं।

हिन्दू जागरण मंच के पदाधिकारी गौरीश सिंह ने ऑपइंडिया को बताया कि धर्मान्तरण के बाद भी हिन्दू नाम रखने के पीछे सरकार और समाज को गुमराह करते हुए अनुसूचित जाति के लाभ लेते रहने की सोच और साजिश है। उन्होंने दावा किया कि 23 जून 2021 को उन्हें इसी स्थान पर एक बच्चे के खतना करवाने की सूचना मिली थी। उन्होंने बताया कि तब उन्होंने ऐसा करने वाले डॉक्टर के विरुद्ध पुलिस में शिकायत भी की थी।

पुलिस को दी गई शिकायत में भी वादी सचाऊ राम नट ने इस बात का दावा किया है। शिकायत के बिंदु 1 में कहा गया है कि लालचंद, चिल्लू, सबीर, सुभाष नट बिना प्रशासन को कोई सूचना दिए मुस्लिम धर्म कैसे स्वीकार कर सकते हैं? इस्लाम धर्म कबूलने का दबाव बनाने वाले ये तमाम लोग स्वयं के धर्मान्तरण का कोई प्रमाण भी नहीं दिखाते। इसी शिकायत में 24 जून 2021 को चिल्लू नट द्वारा अपने 3 बच्चों का खतना करवाने का भी दावा किया गया है। खतना करने वाले डॉक्टर का वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हुआ है।

पुलिस को दिए गए प्रार्थना पत्र में बताया गया है कि जिस भूमि पर इस्लाम कबूलने के बाद दफ़नाने का दबाव बनाया जा रहा, वह भूमि हिन्दू के नाम पर दर्ज है। ऐसे में किसी मुस्लिम द्वारा उस जमीन पर हक़ नहीं जताया जा सकता है। इसके साथ ही इस्लाम कबूल कर चुके नटों द्वारा अपने आधार कार्ड जैसे तमाम सरकारी कागज़ात में हिन्दू नाम रखकर सरकारी सुविधाएँ लेने पर भी सवाल खड़े किए गए हैं।

नट समुदाय के साथ पुलिस को शिकायत पत्र देने जाते हिन्दू जागरण मंच के कार्यकर्ता

इस मामले में ऑपइंडिया ने स्थानीय पुलिस को सम्पर्क किया तो थाना प्रभारी फूलपुर द्वारा फोन नहीं उठाया गया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Rahul Pandeyhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। पवित्र धर्मनगरी अयोध्या के एक सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मैली-कुचैली बीवी, सड़ी-गली लड़की का चक्कर छोड़ो… जन्नत में मिलेगी गुदा दिखाने वाली हूरें: केरल के मौलाना, Video वायरल

केरल के मौलसि ने दावा किया कि जन्नत में आइना तुम्हारे हूर का 'जिगर (दिल)' होगा, वैसे ही आपका दिल उनके लिए आइना होगा, जिसे देख कर वो सँवरेगी।

‘वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ का हो गया निधन, कोरोना से रिकवर होने के बाद से ही गिर रहा था स्वास्थ्य’: जानिए क्या है सच्चाई

सोशल मीडिया पर कुछ पोस्ट्स में दावा किया जा रहा है कि पत्रकार विनोद दुआ की मौत हो गई है। लेकिन, असल में सच्चाई कुछ और ही।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,465FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe