Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाज2021 में ₹71 लाख करोड़ से भी अधिक का UPI लेनदेन, 2020 के मुकाबले...

2021 में ₹71 लाख करोड़ से भी अधिक का UPI लेनदेन, 2020 के मुकाबले 130% की वृद्धि: 45% सिर्फ इस एप से

कुल मिला कर बात करें तो 2021 में UPI के माध्यम से 71.46 लाख करोड़ रुपयों का लेनदेन हुआ। वहीं, इसके पिछले वर्ष की बात करें तो 2020 में UPI के माध्यम से 31 लाख करोड़ रुपयों का लेनदेन हुआ था।

साल 2021 में भारत में रिकॉर्ड UPI (यूनिफाइड पैंट्स इंटरफ़ेस) लेनदेन हुआ है। दिसंबर में ये आँकड़ा 8.26 लाख करोड़ रुपया हो गया। ‘नेशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI)’ के डेटा से इन आँकड़ों का पता चला है। साथ ही ‘ट्रांजक्शन वॉल्यूम’ भी इस महीने में 456 करोड़ रुपया हो गया। इस तरह 2021 में UPI के माध्यम से कुल 3874 करोड़ लेनदेन हुए। वहीं 2020 में ये आँकड़ा 1887 करोड़ था। इस तरह 2020 के मुकाबले 2021 में 105% ज्यादा बार UPI से लेनदेन हुआ।

कुल मिला कर बात करें तो 2021 में UPI के माध्यम से 71.46 लाख करोड़ रुपयों का लेनदेन हुआ। वहीं, इसके पिछले वर्ष की बात करें तो 2020 में UPI के माध्यम से 31 लाख करोड़ रुपयों का लेनदेन हुआ था। पिछले साल के मुकाबले 130% की वृद्धि डिजिटल वित्तीय लेनदेन के लिए एक अच्छा संकेत है। हालाँकि, नवंबर 2021 में ये आँकड़ा कुछ खास उत्साहजनक नहीं था। लेकिन, दिसंबर महीने के आँकड़े ने फिर से उत्साह जगाया है। माना जा रहा है कि कोरोना प्रतिबंधों के कम होने से ऑफलाइन और ऑनलाइन, दोनों माध्यमों से वित्तीय लेनदेन में वृद्धि हुई है।

अब देखना होगा कि अगले कुछ दिनों में ये आँकड़ा कैसा रहता है, क्योंकि अब जब 2022 शुरू हो रहा है, देश के कई हिस्सों में कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट के खतरे को देखते हुए नए सिरे से पाबंदियाँ लगाई जा रही हैं। 2021 में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान कैश में लेनदेन की बजाए लोगों ने डिजिटल पेमेंट्स को प्राथमिकता दी। 2016 में ही मोदी सरकार ने UPI को लॉन्च किया था, लेकिन 3 लाख करोड़ रुपए के लेनदेन का आँकड़ा पार करने के लिए इसे अगस्त 2020 तक इंतजार करना पड़ा।

इसके लगभग 15 महीने बाद ये आँकड़ा 8 लाख करोड़ रुपए को पार कर गया है। डिजिटल लेनदेन बढ़ ही रहा है, इसीलिए इसके और आगे जाने की संभावना है। 2022 में भारत में 2.16 ट्रिलियन डॉलर (1609500000 करोड़ रुपए) का वित्तीय लेनदेन हो सकता है। इसका 50% सिर्फ UPI से होने की संभावना है। ‘इमिडिएट पेमेंट सर्विस (IMPS)’ 25% के साथ दूसरे स्थान पर आएगा। 2021 में कुल UPI पेमेंट्स का 45% PhonePe, 35% Google Pay (GPay) और 15% Paytm से किया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के बाद अब तमिलनाडु में YouTuber अजीत भारती के खिलाफ FIR, कॉन्ग्रेस नेता सैमुअल MC ने की शिकायत: राहुल गाँधी से जुड़ा है...

"कर्नाटक उच्च न्यायालय ने स्थगन का आदेश दे रखा है, उस पर कथित घटना और केस पर स्टे के बाद, वापस दूसरे राज्य में केस करना क्या बताता है? "

टीम से बाहर होने पर मोहम्मद शमी का वायरल वीडियो, कहा – किसी के बाप से कुछ नहीं लेता हूँ, बल्कि देता हूँ

"मुझे मौका दोगे तभी तो मैं अपनी स्किल दिखाऊँगा, जब आप हाथ में गेंद दोगे। मैं सवाल नहीं पूछता। जिसे मेरी ज़रूरत है, वो मुझे मौका देगा।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -