Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाज'नाम पूछ-पूछ कर मार रहे थे हल्द्वानी के दंगाई, मुस्लिमों को छोड़ दिया': जिस...

‘नाम पूछ-पूछ कर मार रहे थे हल्द्वानी के दंगाई, मुस्लिमों को छोड़ दिया’: जिस पत्रकार के हाथ और पाँव में आया फ्रैक्चर, उसका खुलासा – जान से मारना चाहते थे

उन्होंने बताया कि फिर शाम को बिजली काट कर पत्थरबाजी शुरू की गई। पेट्रोल बम के जरिए जान से मारने का षड्यंत्र था। उन्होंने कहा कि जब गलियों से भाग रहे थे तब घायल हुए।

उत्तराखंड के हल्द्वानी में स्थिति अब नियंत्रण में है, लेकिन इस्लामी कट्टरपंथी भीड़ ने जो किया उसका दंश कई महीनों तक लोगों को झेलना पड़ेगा। नैनीताल के हल्द्वानी स्थित बनभूलपुरा में अवैध कब्जे को हटाने के लिए प्रशासन क्या पहुँचा, भीड़ ने थाना और पेट्रोल पंप ही फूँक डाला। पुलिसकर्मियों को ज़िंदा जलाने की कोशिश की गई। लोगों को मारा-पीटा गया। पत्थरबाजी और गोलीबारी हुई। महिला पुलिसकर्मियों तक को नहीं छोड़ा गया, आरोप है कि उनके कपड़े तक फाड़े गए।

अब एक स्थानीय पत्रकार ने बताया है कि कैसे मुस्लिम नाम वालों को छोड़ दिया गया और उनसे मारपीट नहीं की गई। अस्पताल में इलाज कराने आए ‘HNN न्यूज़’ के घायल पत्रकार पंकज सक्सेना से ऑपइंडिया ने बातचीत की, जिन्होंने बताया कि भीड़ नाम पूछ-पूछ कर मार रही थी, मुस्लिम होने पर छोड़ दिया जा रहा था। उनके हाथ और पाँव में फ्रैक्चर हुआ है। उनके पाँव में जहाँ प्लास्टर लगा है, वहीं हाथ में भी उन्होंने बैंडेज पहन रखा गया। पंकज सक्सेना गुरुवार (8 फरवरी, 2024) वाली घटना में ही घायल हुए।

उन्होंने बताया कि बतौर पत्रकार वो मीडिया के अन्य साथियों के साथ अवैध मदरसा-मस्जिद को तोड़ने के लिए आई प्रशासन की टीम को कवर करने पहुँचे थे। उन्होंने बताया कि वहाँ पहले से साजिश रच कर 8-10 हजार लोग खड़े थे, जिन्होंने पत्थरबाजी शुरू कर दी और पेट्रोल बम फेंकने लगे। उन्होंने बताया कि फिर शाम को बिजली काट कर पत्थरबाजी शुरू की गई। पेट्रोल बम के जरिए जान से मारने का षड्यंत्र था। उन्होंने कहा कि जब गलियों से भाग रहे थे तब घायल हुए।

उन्होंने बताया कि दोनों तरफ से आगजनी कर के पीड़ितों को घेर लिया गया था। बकौल पंकज सक्सेना, घेरने के बाद भीड़ ने ऊपर से पत्थरबाजी शुरू की। उन्होंने इसकी पुष्टि की कि महिला पुलिसकर्मियों के साथ भी बदसलूकी की गई। पंकज सक्सेना इस दौरान बेहोश हो गए थे। उन्होंने अपनी जान बचाने के लिए गाँधीनगर वालों को धन्यवाद दिया। उनलोगों ने ही बचा कर उन्हें अस्पताल में पहुँचाया। गाँधीनगर वालों ने कई पुलिस वालों और मीडिया वालों को बचाया, महिला पुलिसकर्मियों को कपड़े दिए।

घायल पत्रकार पंकज सेना ने बताया कि सरकार खर्च से उनका इलाज चल रहा है। उन्होंने बताया कि दंगाई कह रहे थे कि अपना नाम बताइए, कई पत्रकारों को छोड़ दिया गया क्योंकि वो उनकी बिरादरी से थे। पत्रकार ने बताया कि उनका एक 8 साल का बेटा भी है, अगर उन्हें बचा कर नहीं लाया जाता तो उनकी लाश ही आती। पंकज सक्सेना को चलने में भी तकलीफ है। उन्हें किसी का सहारा लेकर चलना पड़ रहा है। वो इस हमले में बुरी तरह जख्मी हुए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K में योग दिवस मनाएँगे PM मोदी, अमरनाथ यात्रा भी होगी शुरू… उच्च-स्तरीय बैठक में अमित शाह का निर्देश – पूरी क्षमता लगाएँ, आतंकियों...

2023 में 4.28 लाख से भी अधिक श्रद्धालुओं ने बाबा अमरनाथ का दर्शन किया था। इस बार ये आँकड़ा 5 लाख होने की उम्मीद है। स्पेशल कार्ड और बीमा कवर दिया जाएगा।

परचून की दुकान से लेकर कई हजार करोड़ के कारोबार तक, 38 मुकदमों वाले हाजी इक़बाल ने सपा-बसपा सरकार में ऐसी जुटाई अकूत संपत्ति:...

सहारनपुर में मिर्जापुर का रहने वाला मोहम्मद इकबाल परचून की दुकान से काम शुरू कर आगे बढ़ता गया। कभी शहद बेचा, तो फिर राजनीति में आया और खनन माफिया भी बना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -