Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाज800 किलो वजन, 11 फीट ऊँचाई: केरल के मंदिर में अनुष्ठान पूरे करवाने आया...

800 किलो वजन, 11 फीट ऊँचाई: केरल के मंदिर में अनुष्ठान पूरे करवाने आया पहला रोबोटिक हाथी, कीमत ₹5 लाख

हाथियों के उपयोग से उन्हें होने वाली समस्याओं से बचाने के लिए पेटा और अभिनेत्री पार्वती थिरुवोथु ने इरिंजादापल्ली श्री कृष्ण मंदिर को यह रोबोटिक हाथी दिया है। इस हाथी का नाम रमन रखा गया है। 800 किलो ग्राम वजन वाले इस हाथी की ऊँचाई 11 फ़ीट है। लोहे के फ्रेम में गढ़े गए इस हाथी पर रबर का कवर चढ़ाया गया है।

केरल के मंदिरों में होने वाले धार्मिक कार्यक्रमों में लंबे समय से हाथी का उपयोग किया जाता रहा है। हालाँकि अब पेटा (PETA) और अभिनेत्री पार्वती थिरुवोथु की पहल के बाद इस परंपरा में बदलाव की शुरुआत हुई है। यह बदलाव केरल के त्रिशूर जिले में स्थित इरिंजादापल्ली श्री कृष्ण मंदिर में हुआ। जहाँ रोबोटिक हाथी का उपयोग किया गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, हाथियों के उपयोग से उन्हें होने वाली समस्याओं से बचाने के लिए पेटा और अभिनेत्री पार्वती थिरुवोथु ने इरिंजादापल्ली श्री कृष्ण मंदिर को यह रोबोटिक हाथी दिया है। इस हाथी का नाम रमन रखा गया है। 800 किलो ग्राम वजन वाले इस हाथी की ऊँचाई 11 फ़ीट है। लोहे के फ्रेम में गढ़े गए इस हाथी पर रबर का कवर चढ़ाया गया है।

रिमोट कंट्रोल वाला यह रोबोटिक हाथी बिजली से चलता है। इसके कान, सिर, पूँछ सब बिजली से ही चलते हैं। इसको देखकर किसी जीवित हाथी के सामने होने का अनुभव होता है। करीब 5 लाख रुपए की लागत में बना यह हाथी अपनी पीठ पर आम हाथियों की तरह 4 लोगों को बैठा सकता है।

इस रोबोटिक हाथी को लेकर श्रीकृष्ण मंदिर प्रबंधन बेहद खुश है। मंदिर के पुजारी राजकुमार नंबूदरी का कहना है, “रिमोट से चलाने पर यह हाथी रोबोटिक नहीं बल्कि वास्तविक हाथी की तरह लगता है। हमें उम्मीद है कि दूसरे मंदिर भी रोबोटिक हाथी का उपयोग करते हुए बदलाव के लिए आगे आएँगे। यह एक बड़ा जीव है। इसलिए इसको कंट्रोल करने के लिए प्रताड़ित किया जाता है।”

उन्होंने यह भी कहा है कि केरल ही नहीं बल्कि देश के कई अन्य भागों में हाथियों को अवैध रूप से रखा जाता है। हाथियों को डंडों और भालों से मारा जाता है। अवैध रूप से बंदी हाथियों को एक राज्य से दूसरे राज्य में ले जाया जाता है। कई बार लंबी यात्रा के दौरान उनके पैरों में बड़े और गंभीर घाव हो जाते हैं। यही नहीं, यात्रा व समारोहों के दौरान कई बार हाथी बेकाबू हो जाते हैं। इससे भी समस्या का सामना करना पड़ता है।

इस हाथी को लेकर पेटा ने कहा है कि यह हाथी मंदिर में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में होनी वाली घटनाओं से बचाएगा। अधिक शोर से भी हाथियों को समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस तरह के हाथियों के उपयोग से हाथियों को क्रूरता और समस्याओं से बचाते हुए वापस जंगल में भेजकर उनके जीवन को सुरक्षित और यातना मुक्त किया जा सकता है। वहीं, अभिनेत्री पार्वती थिरुवोथु ने कहा है, “जिन समस्याओं से हाथियों को गुजरना पड़ता है। यदि ऐसी ही समस्याएँ मनुष्यों को भी झेलनी पड़ें तब हमें उनके दर्द के बारे में पता चलेगा।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -