Monday, April 22, 2024
Homeदेश-समाजशाहीन बाग के टुकड़े-टुकड़े! देर रात चला ड्रामा... मीडिया से बात करने पर बँटे...

शाहीन बाग के टुकड़े-टुकड़े! देर रात चला ड्रामा… मीडिया से बात करने पर बँटे प्रदर्शनकारी

देर रात ड्रामे के बाद शाहीन बाग में कोई प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं हुई। जो रोड बंद थी, वो बंद रही और प्रदर्शनकारी दो गुटों में बॅंटे नजर आए। मीडिया को मौके से फौरन जाने को कहा गया। उन्हें रिकॉर्डि करने से रोका गया।

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में शाहीन बाग में बैठे प्रदर्शनकारियों के बीच मतभेद की ख़बरें आ रही है। गुरुवार की रात इसकी झलक दिखाई पड़ी। जानकारी के अनुसार, देर रात प्रदर्शनस्थल पर मीडिया से बातचीत करने को काफी ड्रामा हुआ। पहले सोशल मीडिया पर खबर आई कि वहाँ प्रदर्शनकारी प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले हैं और जब सभी मीडियाकर्मी उसे कवर करने पहुँचे तो मालूम चला कि ये अफवाह है। इतना ही नहीं, मौक़े पर पहुँची मीडिया को वहाँ रिकॉर्डिंग भी नहीं करने दिया और फौरन चले जाने को कहा जाने लगा। स्थिति देखकर स्पष्ट हो गया कि कुछ लोग वहाँ मीडिया से बात करना चाहते थे, लेकिन कुछ प्रदर्शनकारियों के कारण ऐसा मुमकिन नहीं हो पाया।

गुरुवार की रात करीब 9:30 बजे तक शाहीन बाग में होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस की सूचना पूरे सोशल मीडिया पर फैल चुकी थी। साहिल मुर्ली मेंघानी नामक पत्रकार, जो कि शाहीन बाग के प्रदर्शन को लगातातर कवर कर रहे हैं, ने 9:26 पर अपने ट्विटर पर लिखा कि शाहीन बाग में गुरुवार को रात 11 बजे एक अर्जेंट प्रेस कॉन्फ्रेंस होने वाली है। इसके बाद उन्होंने ट्वीट कर बताया कि प्रेस कॉन्फ्रेंस उस सड़क को लेकर होगी जिसे प्रदर्शनकारियो ने ब्लॉक नहीं किया, बल्कि वो पुलिस बैरिकेडिंग के कारण बंद है।

कई मीडिया संस्थानों के अनुसार वे शाहीन बाग में प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए बिलकुल तैयार थे। कयास लग रहे थे कि प्रेस कॉन्फ्रेंस जामिया के नजदीक हुए वाकये पर होगा या राजनेताओं के बयान को लेकर। मगर, उन्हें क्या पता था कि यह शाहीन बाग ड्रामे की शुरुआत है। कुछ ही देर में साहिल का एक और ट्वीट आया और उन्होंने कहा कि शाहीन बाग में कोई प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं होने वाली, क्योंकि प्रदर्शनकारियों का कहना है कि किसी ने फेक न्यूज फैलाई है।

इसके बाद साहिल ने ये भी बताया कि शाहीन बाग पर कुछ प्रदर्शनकारी प्रेस कॉन्फ्रेंस करना चाहते हैं, जबकि कुछ इससे मना कर रहे हैं। इसके बाद पता चला कि शाहीन बाग के कुछ प्रदर्शनकारी सड़क को खुलवाना चाहते हैं, क्योंकि वे उसका इस्तेमाल नहीं कर रहे। जबकि कुछ इसका विरोध कर रहे हैं। उनका मानना है कि अगर उन्होंने वो साइड खोल दी तो जैसे मार्च के दौरान गोली चली वैसे उन पर भी कोई हमला कर सकता है।

इतने ड्रामे के बाद शाहीन बाग में कोई प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं हुई। जो रोड बंद थी, वो बंद रही और प्रदर्शनकारी दो गुटों में बँटे दिखाई दिए। मीडिया को वहाँ से फौरन जाने को कहा गया। साथ ही ये भी कहा गया कि उन्हें वहाँ रिकॉर्डिंग करने की अनुमति नहीं है। इसलिए वो कैमरा बंद कर दें और मोबाइल से भी कोई रिकॉर्डिंग न करें।

उल्लेखनीय है कि कल रात शाहीन बाग में मीडिया से बातचीत को लेकर हुए प्रदर्शनकारियों में मतभेद के बाद वहाँ एक-दूसरे पर स्टेज से चप्पलें फेंकी जाने की भी सूचना है। लेकिन इस वाकये के पुख्ता सबूत न होने के कारण ऑपइंडिया इस खबर की पुष्टि नहीं करता।

सुधीर चौधरी और दीपक चौरसिया से डरे हुए क्यों हैं शाहीन बाग के सफेदपोश?

शाहीन बाग में कहाँ से आ रहा है दाना-पानी: आसिफ तूफानी ने उगल दिए सारे राज

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोल्हापुर से कॉन्ग्रेस उम्मीदवार शाहू छत्रपति को AIMIM का समर्थन, आंबेडकर की नजदीकी के कारण उनके पोते ने सपोर्ट का किया ऐलान

AIMIM ने शिवाजी महाराज के वंशज और कोल्हापुर से कॉन्ग्रेस के उम्मीदवार शाहू छत्रपति को समर्थन दियाा है। वहाँ से पार्टी प्रत्याशी नहीं उतारेगी।

‘RR-KKR के पॉइंट्स लेकर निचली टीमों को दे दो’: वेंकटेश प्रसाद ने समझाया क्या है राहुल गाँधी की स्कीम, तो अब RCB पहुँचेगी सीधे...

वेंकटेश प्रसाद ने कहा कि ये उसी तरह हुआ, जैसे कोई कहे कि हम RR और KKR से 4 पॉइंट्स लेकर तालिका में सबसे नीचे की तीनों टीमों में बाँट दें।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe