Wednesday, September 28, 2022
Homeदेश-समाजदिल्ली चुनाव ख़त्म होते ही ठंडा पड़ा जोश: रामलीला मैदान शिफ्ट होने को तैयार...

दिल्ली चुनाव ख़त्म होते ही ठंडा पड़ा जोश: रामलीला मैदान शिफ्ट होने को तैयार शाहीन बाग़ के उपद्रवी

शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वो लोगों की दिक्कतों को बढ़ाना नहीं चाहते। हालाँकि, पिछले 2 महीने से उनके कारण पूरे क्षेत्र में लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहाँ बिरयानी पार्टी हो रही है और पिकनिक मनाई जा रही है, ऐसा लोगों का कहना है।

शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों का जोश ठंडा हो गया है क्योंकि दिल्ली चुनाव बीत गया है। मतदान संपन्न होने के साथ ही अब सीएए के नाम पर विरोध प्रदर्शन कर रही मुस्लिम महिलाएँ वहाँ से कहीं और शिफ्ट होने के लिए तैयार हो गई हैं। हालाँकि, वो वहाँ से हटने के लिए कोई न कोई बहाना ढूँढ रहे थे क्योंकि उनका इरादा दिल्ली चुनाव के दौरान चर्चा में रहना था। इस विरोध प्रदर्शन को विदेश से फंडिंग मिलने के कई आरोप लगे थे।

ईडी मामले की जाँच कर रही है, जिसके तार आम आदमी पार्टी के संजय सिंह तक जुड़ते नज़र आ रहे हैं। ओवैसी की पार्टी के नेताओं की भी संलिप्तता मिली है। केजरीवाल के विधायक अमानतुल्लाह ख़ान भी उपद्रवी भीड़ का नेतृत्व करते देखे गए थे।

शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों ने ये भी कहा है कि वो सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का सम्मान करेंगे और इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि देश की शीर्ष अदालत क्या कहती है। न्यायपालिका के प्रति आस्था का दिखावा करते हुए एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट जैसा कहेगा, वैसा किया जाएगा।

शाहीन बाग़ के उपद्रवियों का कहना है कि अब वो रामलीला मैदान शिफ्ट होने के लिए तैयार हैं क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में टिप्पणी की है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट कहा है कि विरोध प्रदर्शन के नाम पर इतने दिनों तक सड़कें बाधित कर के नहीं रखी जा सकतीं और लोगों को परेशान नहीं किया जा सकता। सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद शाहीन बाग़ के उपद्रवियों को वहाँ से हटने का बहाना मिल गया है। उनका कहना है कि अगर सुप्रीम कोर्ट निर्देशित करता है तो वो रामलीला मैदान में जाकर सीएए के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करेंगे।

वहीं इसके बाद उपद्रवियों से सहानुभूति रखने वाले तहसीन पूनावाला सरीखे लोग संघ को घेरने लगे हैं। उनका कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करते हुए प्रदर्शनकारी जगह बदलने को तैयार हुए हैं। हालाँकि, ये स्पष्ट दिख रहा है कि दिल्ली चुनाव ख़त्म होने के बाद उनकी ज़रूरत ही नहीं बची थी और उन पर लगातार लग रहे आरोपों के बीच उन्हें मीडिया कवरेज मिलना भी बंद हो गया था, इसीलिए वो वहाँ से हट कर धीरे-धीरे इस विरोध प्रदर्शन को ख़त्म करने में जुटे हैं।

शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वो लोगों की दिक्कतों को बढ़ाना नहीं चाहते। हालाँकि, पिछले 2 महीने से उनके कारण पूरे क्षेत्र में लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहाँ बिरयानी पार्टी हो रही है और पिकनिक मनाई जा रही है, ऐसा लोगों का कहना है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोगों में डर पैदा करने के लिए RSS कार्यकर्ता से लेकर हिंदू नेता तक हत्या: मर्डर से पहले PFI-SDPI के लोग रचते थे साजिश,...

देश के लोगों द्वारा लंबे समय से जिस चीज की माँग की जा रही थी, अंतत: केंद्र की मोदी सरकार ने PFI पर प्रतिबंध लगाकर उसे पूरा कर दिया।

‘मन की अयोध्या तब तक सूनी, जब तक राम न आए’: PM मोदी ने याद किया लता दीदी का भजन, अयोध्या के भव्य ‘लता...

पीएम मोदी ने बताया कि जब अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन संपन्न हुआ था, तो उनके पास लता दीदी का फोन आया था, वो काफी खुश थीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe