Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाज2 मई को ही आएँगे यूपी पंचायत चुनाव के नतीजे, SC ने मतगणना पर...

2 मई को ही आएँगे यूपी पंचायत चुनाव के नतीजे, SC ने मतगणना पर रोक लगाने से किया इनकार

कोर्ट ने 829 मतगणना केंद्रों पर कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन किए जाने का राज्य निर्वाचन आयोग का आश्वासन स्वीकार करते हुए मतगणना की इजाजत दी। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद किसी भी तरह के जश्न और रैलियों की अनुमति नहीं दी जाएगी।

उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के नतीजे 2 मई को ही घोषित किए जाएँगे। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार (1 मई, 2021) को यूपी पंचायत चुनावों की मतगणना पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। दरअसल, कोर्ट ने 829 मतगणना केंद्रों पर कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन किए जाने का राज्य निर्वाचन आयोग का आश्वासन स्वीकार करते हुए मतगणना की इजाजत दी। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद किसी भी तरह के जश्न और रैलियों की अनुमति नहीं दी जाएगी।

उत्तर प्रदेश चुनाव आयोग को फटकार लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर कोरोना संकट को देखते हुए मतगणना को स्थगित कर दिया जाए तो कोई आसमान नहीं टूट पडे़गा। कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए, क्या आपने विचार किया है कि मतगणना को स्थगित किया जा सकता है? हर जगह संकट है। क्या आपके पास स्वास्थ्य सुविधाएँ हैं? जाँच उपलब्ध है?’ यदि दो-तीन हफ्ते के लिए काउंटिंग को टाल दिया जाए तो आसमान नहीं टूट पड़ेगा। सुप्रीम कोर्ट ने राज्य चुनाव आयोग से जारी किया गया दिशा-निर्देश भी माँगा है।

कोर्ट ने यूपी चुनाव आयोग से स्पष्टीकरण की माँगते हुए आगे कहा कि 2 लाख से अधिक सीटों की मतगणना होगी, जिसके लिए केवल 800 केंद्र हैं। तो आप हर केंद्र पर लगभग 800 सीटों की गिनती करेंगे। प्रत्येक सीट पर कई उम्मीदवार होंगे, ऐसे में आप काउंटिंग स्टेशन पर प्रति व्यक्ति 75 लोगों की सीमा को कैसे सुनिश्चित करेंगे।

इस पर एडिशनल सॉलिसिटर जनरल भाटी ने कहा कि यूपी पंचायत चुनावों के लिए मतगणना रविवार को निर्धारित की गई है, क्योंकि राज्य में साप्ताहिक कर्फ्यू लगा हुआ है। ऐसे में भीड़ को नियंत्रित करना आसान होगा।

सुप्रीम कोर्ट ने यूपी चुनाव आयोग को संबंधित याचिकाओं पर इलाहाबाद हाई कोर्ट द्वारा सुनवाई पूरी होने तक मतदान केंद्रों की सीसीटीवी फुटेज संभाल कर रखने का निर्देश दिया है। 

बता दें कि शनिवार को बीते 24 घंटे में भारत में कोरोना वायरस के 4 लाख से अधिक नए मामले सामने आए और 3500 से अधिक लोगों की मौत हुई। शुक्रवार को दायर इस याचिका में चुनावी ड्यूटी के दौरान कोरोना की वजह से जान गँवाने वाले अधिकारियोंं का हवाला देते हुए वोटों की गिनती पर रोक लगाने की माँग की गई थी। इसको लेकर कोर्ट ने राज्य सरकार और चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया था, लेकिन अब कोर्ट ने मंजूरी दे दी है कि कल (2 मई) अपने नियत समय पर ही मतगणना होगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -