Wednesday, April 17, 2024
Homeदेश-समाजSC में खारिज हुई 'बुलडोजर अभियान' के खिलाफ CPI की याचिका, कहा- HC के...

SC में खारिज हुई ‘बुलडोजर अभियान’ के खिलाफ CPI की याचिका, कहा- HC के पास जाएँ, राजनीतिक एजेंडे को यहाँ अनुमति नहीं

"हम लोगों को हर बार सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की अनुमति नहीं दे सकते, वह भी किसी राजनीतिक दल के इशारे पर। हाई कोर्ट इसे जरूर उठा सकता है, आपको सुप्रीम कोर्ट नहीं, हाई कोर्ट जाना चाहिए था।"

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में अवैध अतिक्रमण के खिलाफ एमसीडी के ध्वस्तीकरण अभियान के खिलाफ कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, शीर्ष अदालत ने सीपीएम की याचिका को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि कोई भी प्रभावित पक्ष याचिका का हिस्सा नहीं है और यह पूरी तरह से राजनीतिक प्रकृति का है।

रिपोर्ट के अनुसार, SC ने CPM की याचिका को खारिज करते हुए कहा कि शीर्ष अदालत किसी की भी या हर याचिका का जवाब नहीं दे सकती है, विशेष रूप से एक जो एक राजनीतिक दल द्वारा दायर की गई है। सीपीएम की ओर से पेश अधिवक्ता सुरेंद्र नाथ ने सुप्रीम कोर्ट से याचिका पर सुनवाई करने और विध्वंस के खिलाफ 2 दिन तक रोक लगाने की गुहार लगाई थी। हालाँकि, न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव ने यह देखने के बाद कि कोई भी प्रभावित पक्ष याचिका का हिस्सा नहीं है, याचिकाकर्ता की खिंचाई की।

न्यायमूर्ति जे राव ने कहा, “हम लोगों को हर बार सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की अनुमति नहीं दे सकते, वह भी किसी राजनीतिक दल के इशारे पर। हाई कोर्ट इसे जरूर उठा सकता है, आपको सुप्रीम कोर्ट नहीं, हाई कोर्ट जाना चाहिए था। आप क्या चुनते हैं, या तो आप वापस ले लें या हम इसे खारिज कर देंगे।”

लाइव लॉ की रिपोर्ट के अनुसार, एसजी तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष कहा कि कुछ दल और समूह ध्वस्तीकरण अभियान को एक समुदाय विशेष के खिलाफ टारगेटेड कार्रवाई के रूप में दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। हालाँकि, यह मामला नहीं है। उन्होंने कहा कि उनके पास उन लोगों की सूची है जिनके अवैध ढाँचे को ध्वस्त किया गया है।

अंत में, सुप्रीम कोर्ट ने यह कहते हुए सी.पी.एम. को फटकार लगाई कि सीधे सुप्रीम कोर्ट आना कुछ ज़्यादा ही है। शीर्ष अदालत ने याचिकाकर्ता को मामले पर पहले उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के लिए कहा।

गौरतलब है कि शाहीन बाग के आसपास के इलाकों में बड़े पैमाने पर राजनीतिक ड्रामा चल रहा है, जहाँ एमसीडी अवैध संरचनाओं के खिलाफ विध्वंस अभियान चलाने की कोशिश कर रही है। वहीं आप विधायक अमानतुल्ला खान और माजिद खान इलाके में हैं और लोगों से अभियान का विरोध करने को कह रहे हैं। बड़ी संख्या में लोग बुलडोजर के रास्ते में खड़े नजर आए। दिल्ली पुलिस एमसीडी अधिकारियों और वाहनों को सुरक्षा मुहैया करा रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सूर्य तिलक’ से पहले भगवान रामलला का दुग्धाभिषेक, बोले PM मोदी- शताब्दियों की प्रतीक्षा के बाद आई है ये रामनवमी, राम भारत का आधार

प्रधानमंत्री ने 'राम काज कीन्हें बिनु मोहि कहाँ विश्राम' वाली रामचरितमानस की चौपाई के साथ रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा वाली अपनी तस्वीर भी शेयर की।

रोहिंग्या मुस्लिमों ने 1600 हिन्दुओं को बंधक बनाया: रिपोर्ट में खुलासा- म्यांमार की फ़ौज ही दे रही हथियार और प्रशिक्षण, 2017 में भी हुआ...

म्यांमार की फ़ौज ने 'आराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (ARSA)' और 'आराकान रोहिंग्या आर्मी (ARA)' को 'आराकान आर्मी (AA)' के खिलाफ लड़ने के लिए हथियार से लेकर सैन्य प्रशिक्षण तक दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe