Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाज'टीके से युवा अधिक मर रहे, मैं नहीं लगवाऊँगा': शिगूफा छोड़ प्रशांत भूषण ने...

‘टीके से युवा अधिक मर रहे, मैं नहीं लगवाऊँगा’: शिगूफा छोड़ प्रशांत भूषण ने कहा- मैं वैक्सीन का विरोधी नहीं

“कोरोना के कारण स्वस्थ युवाओं की मौत की आशंका शायद ही हो, लेकिन टीके लगवाने से उनके मरने की आशंका अधिक है। कोरोना से स्वस्थ हुए लोगों की रोगों से लड़ने की क्षमता वैक्सीन से मिलने वाली प्रतिरोधक क्षमता की तुलना में कहीं अधिक होती है। ऐसे में प्राकृतिक प्रतिरक्षा तंत्र विकसित करने में वैक्सीन बाधा बन सकता है।”

अपने विवादित बयानों के कारण हमेशा सुर्खियों में रहने वाले सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण ने एक बार फिर कोरोना वैक्सीन के खिलाफ बयान दिया है। उन्होंने एक के बाद एक ट्वीट कर कहा कि वह भारत में टीकाकरण के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन सभी के लिए टीकाकरण के वे सख्त विरोध में हैं।

प्रशांत भूषण का दावा है कि वैक्सीन इतनी खतरनाक है कि गंभीर बीमारियों और कोरोना वायरस से मारने की बजाय टीके लगवाने से युवाओं की अधिक मौत हो सकती है।

प्रशांत भूषण ने खुद को वैक्सीन सपोर्टर बताते हुए कथित तौर पर टीका लगवाने से अपनी पत्नी को खोने वाले एक आदमी को लेकर लिखे गए एक लेख का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि वो मानते हैं कि प्रायोगिक और बिना जाँच की गई वैक्सीन को सभी को देने के लिए बढ़ावा देना गैर-जिम्मेदाराना है, खासतौर पर युवाओं और कोरोना से उबरे लोगों के लिए यह खतरनाक है।

प्रशांत भूषण का कोरोना के खिलाफ किया गया ट्वीट

सर्वोच्च न्यायालय के वकील भूषण ने ट्वीट किया, “कोरोना के कारण स्वस्थ युवाओं की मौत की आशंका शायद ही हो, लेकिन टीके लगवाने से उनके मरने की आशंका अधिक है। कोरोना से स्वस्थ हुए लोगों की रोगों से लड़ने की क्षमता वैक्सीन से मिलने वाली प्रतिरोधक क्षमता की तुलना में कहीं अधिक होती है। ऐसे में प्राकृतिक प्रतिरक्षा तंत्र विकसित करने में वैक्सीन बाधा बन सकता है।” वकील ने कहा कि न तो उन्होंने टीका लगवाया है और न ही भविष्य में लगवाने की उनकी कोई योजना है।

प्रशांत भूषण का कोरोना के खिलाफ किया गया ट्वीट

टीकाकरण अभियान को कमजोर करने की कोशिश कर रहे प्रशांत भूषण

टीकाकरण की प्रक्रिया में तेजी नहीं लाने पर केंद्र सरकार की आलोचना करने और उसे इसके लिए जिम्मेदार ठहराने के लिए लोग अटैक मोड पर बैठे हैं। ऐसे कुछ कामरेड और उनके कथित बुद्धिजावी साथी सक्रिय रूप में टीके को लेकर लोगों को हो रही झिझक को लगातार बढ़ावा दे रहे हैं। अपनी बातों को पुख्ता करने के लिए ये घटिया तर्क देते हैं कि वे वैक्सीनेशन के खिलाफ नहीं हैं।

हालाँकि, कोरोना को मात देने के लिए केंद्र सरकार द्वारा कराए जा रहे टीकाकरण पर प्रशांत भूषण का यह रुख कोई नया नहीं है। उन पर लगातार टीके को लेकर लोगों को गुमराह करने के आरोप लगते रहे हैं।

कोरोना वैक्सीन को लेकर दुष्प्रचार करते हुए प्रशांत भूषण ने हाल ही में एक गुमराह करने वाली रिपोर्ट शेयर की थी। इसमें टीके के कारण होने वाली मौतों की दर को काफी अधिक बताया गया था। उन्होंने lifesitenews.com नाम की एक वेबसाइट की एक रिपोर्ट ट्वीट की थी, जिसमें यह दावा किया गया था कि कोरोना के डेल्टा वैरिएंट से संक्रमित लोगों की मौत की तुलना में टीका लगवाने से मरने वाले लोगों की संख्या अधिक है।

टीकाकरण को कमजोर करने की साजिश के तहत भूषण ने इस महीने (जून 2021) की शुरुआत में एक रिपोर्ट शेयर की थी। इसमें उन्होंने दावा किया था कि कोरोना की वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों की मौतें हो रही हैं। उन्होंने जो रिपोर्ट शेयर की थी वो उत्तराखंड पुलिस को लेकर थी। इसमें ये कहा गया था कि राज्य में 2,000 से अधिक पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, जिनमें से 90 फीसदी ने वैक्सीन लगवाई थी। रिपोर्ट के मुताबिक, इनमें से 5 की मौत भी हो गई थी।

इसी साल अप्रैल 2021 में प्रशांत भूषण ने यूके की यात्रा के दौरान भी अपने वैक्सीन विरोधी एजेंडे को आगे बढ़ाते हुए टीकों के प्रभाव पर संदेह जताया था। इससे पहले उन्होंने कोरोना की रोकथाम के लिए मास्क के असर पर भी सवाल उठाया था।

खास बात यह है कि माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर पश्चिमी देशों में वैक्सीन विरोधी प्रचार करने वालों के खिलाफ सख्त रहा है। उसने ऐसे कई अकाउंट को भी सस्पेंड कर दिया था। वैक्सीन को लेकर गलत जानकारी फैलाने के मामले में ट्विटर ने अमेरिकी लेखिका नाओमी वोल्फ के अकाउंट को बंद कर दिया था। अब देखना ये है कि प्रशांत भूषण के मामले में वह क्या कदम उठाता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ममता बनर्जी महान महिला’ – CPI(M) के दिवंगत नेता की बेटी ने लिखा लेख, ‘शर्मिंदा’ पार्टी करेगी कार्रवाई

माकपा नेताओं ने कहा ​कि ममता बनर्जी पर अजंता बिस्वास का लेख छपने के बाद से वे लोग बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं।

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe