Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजजानवरों के हलाल पर बैन लगाने वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने 'शरारतपूर्ण' बताकर...

जानवरों के हलाल पर बैन लगाने वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने ‘शरारतपूर्ण’ बताकर किया खारिज

अखंड भारत मोर्चा की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर चिकन, बकरे और अन्य पशुओं को खाने के लिए हलाल तरीके से काटने पर रोक लगाने की माँग की थी। पशु क्रूरता निवारण अधिनियम (PCA) की कई धाराओं का हवाला देते हुए याचिकाकर्ता ने कहा कि 'हलाल' पद्धति जानवरों के लिए दर्दनाक है।

सुप्रीम कोर्ट ने माँस के लिए जानवरों को हलाल (Halal) करने पर पाबंदी लगाए जाने की माँग वाली याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता अखंड भारत मोर्चा के वकील से कहा है कि यह याचिका शरारत भरी लगती है। कोर्ट इस पर सुनवाई नहीं करता कि कौन शाकाहारी हो, कौन माँसाहारी। न ही हम तय करेंगे कि कौन हलाल मीट खाएगा, कौन झटका।

याचिका को खारिज करते हुए जस्टिस संजय कृष्ण कौल ने साफ टिप्पणी करते हुए कहा, “कोर्ट इस पर सुनवाई कतई नहीं करता कि कौन शाकाहारी हो, कौन माँसाहारी। जिसे हलाल मीट खानी है वो खाए, जिसे झटका मीट खानी है वह झटका मीट खाए।”

बता दें कि अखंड भारत मोर्चा की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर चिकन, बकरे और अन्य पशुओं को खाने के लिए हलाल तरीके से काटने पर रोक लगाने की माँग की थी। पशु क्रूरता निवारण अधिनियम (PCA) की कई धाराओं का हवाला देते हुए याचिकाकर्ता ने कहा कि ‘हलाल’ पद्धति जानवरों के लिए दर्दनाक है।

याचिकाकर्ता ने पीसीए अधिनियम की धारा 3 का हवाला देते हुए कहा कि इसके तहत प्रत्येक व्यक्ति को पशुओं की भलाई सुनिश्चित करने के लिए उचित उपाय करना चाहिए। याचिका में आगे कहा गया है कि धारा 11 (1) (एल) के तहत, आवारा कुत्तों सहित किसी भी जानवर को मारना या किसी अन्य अनावश्यक क्रूरतापूर्ण तरीके से इस्तेमाल करना दंडनीय अपराध है। धारा 28 के तहत, किसी भी धर्म में किसी धार्मिक संस्कार के लिए जानवर की हत्या को छूट दी गई है।

वकील ने जल्लीकट्टू मामले में आवश्यकता के सिद्धांत को दोहराते हुए कहा कि भोजन के लिए जानवर की हत्या की अनुमति है। फिर भी, जानवर को मारने का तरीका जितना संभव हो उतना मानवीय होना चाहिए। हलाल में जानवर/पक्षी को काटने से लेकर, पैकेजिंग तक में सिर्फ और सिर्फ विशेष समुदाय ही शामिल हो सकते हैं। मतलब, इस पूरी प्रक्रिया में, पूरी इंडस्ट्री में एक भी नौकरी दूसरे धर्म वालों के लिए नहीं है।

यह ‘झटका’ की तुलना में अधिक दर्दनाक है। झटका में जानवर की गर्दन पर एक झटके में वार कर रीढ़ की नस और दिमाग का सम्पर्क काट दिया जाता है, जिससे जानवर को मरते समय दर्द न्यूनतम होता है। इसके उलट हलाल में जानवर की गले की नस में चीरा लगाकर छोड़ दिया जाता है, और जानवर खून बहने से तड़प-तड़प कर मरता है।

हलाल की प्रथा अपने आप में भेदभावपूर्ण है। इस्लामी कानून के अनुसार, केवल एक मजहब का व्यक्ति ही हलाल कर सकता है, इसका मतलब है कि हलाल माँस के काम में ‘काफ़िरों’ (‘बुतपरस्त’, जैसे- हिन्दू) को रोज़गार नहीं मिलेगा। यानी कि यह काम सिर्फ खास मजहब वाला ही कर सकता है। इस तरह से इस व्यवस्था ने खटिक समुदाय के हिंदू एवं सिख कसाइयों की नौकरी छीन ली। 

यह पूरा कॉन्सेप्ट ही हर नागरिक को रोजगार के समान अवसर देने की अवधारणा के खिलाफ है। बता दें कि McDonald’s और Licious जैसी कंपनियाँ सिर्फ हलाल माँस बेचती है। कई कंपनियाँ झटका मीट का ऑर्डर देने पर भी हलाल माँस बेचती है। पिछले दिनों गुरुग्राम के रहने वाले कुमार नाम के व्यक्ति ने बिगबास्केट (BigBasket) ऑनलाइन स्टोर से चिकन मँगाया। उन्होंने चिकन ऑर्डर करते समय स्पष्ट किया था कि उन्हें झटका चिकन चाहिए।

लेकिन उन्हें जो चिकन भेजा गया उस पर झटका और हलाल दोनों लिखा हुआ था। चिकन के पैकेट के अगले हिस्से पर लिखा था कि यह हलाल है और उत्पाद से जुड़ी जानकारी वाले स्टीकर पर लिखा था कि यह झटका है। 

ऑनलाइन ग्रॉसरी स्टोर बिग बास्केट (Big Basket) ने पिछले दिनों ग्राहकों से कहा था कि उनके यहाँ ‘सिर्फ हलाल मीट’ ही बेचा जाता है। बिग बास्केट के इस खुलासे के बाद विवाद खड़ा हो गया था। जिसके बाद अब बिग बास्केट ने ग्राहकों के लिए अपने प्लेटफॉर्म पर ‘झटका मीट’ उपलब्ध कराया

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी रचने जा रहे एक और इतिहास: 75 साल में सुरक्षा परिषद बैठक की अध्यक्षता करने वाले बनेंगे पहले भारतीय प्रधानमंत्री

75 साल में ये पहला मौका है, जब एक भारतीय प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र के 15 सदस्यीय निकाय के एक कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे।

रसगुल्ला के कारण राजदीप ने बंगाल हिंसा पर नहीं पूछा सवाल: TheLallantop के शो में कबूली बात, देखें वीडियो-समझें पत्रकारिता

राजदीप सरदेसाई ने कहा कि उन्होंने CM ममता बनर्जी से बंगाल हिंसा पर इसीलिए सवाल नहीं पूछे, क्योंकि ऐसा करने पर उन्हें रसगुल्ला नहीं मिलता।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,434FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe