Tuesday, June 18, 2024
Homeराजनीति'मोदी है तो मुमकिन है': अपहरण के बाद तालिबान के धर्मांतरण का शिकार होते-होते...

‘मोदी है तो मुमकिन है’: अपहरण के बाद तालिबान के धर्मांतरण का शिकार होते-होते बचे थे निधान सिंह सचदेवा, PM को दिया धन्यवाद

निदान सिंह सचदेवा ने कहा, "मुझे एक गुरुद्वारे से तालिबान द्वारा अपहरण कर लिया गया था। उन्होंने हमें भारतीय जासूस के रूप में सोच लिया था, वे चाहते थे कि हम कन्वर्ट हो जाएँ। हमने पीएम मोदी को धन्यवाद दिया और भारत सरकार की मदद से खुश हैं।"

अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद वहाँ से भारत लाए गए अफगान सिखों का दल शनिवार (19 फरवरी, 2022) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिला। इसी क्रम में पिछले साल अफगानिस्तान से तालिबान के चंगुल से बचाकर लाए गए सिख निधान सिंह सचदेवा (Nidan Singh Sachdeva) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का धन्यवाद किया। उनके अलावा भी कई सिखों ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किए। लोगों ने कहा कि मोदी हैं तो मुमकिन है।

निदान सिंह सचदेवा ने कहा, “मुझे एक गुरुद्वारे से तालिबान द्वारा अपहरण कर लिया गया था। उन्होंने हमें भारतीय जासूस के रूप में सोच लिया था, वे चाहते थे कि हम कन्वर्ट हो जाएँ। हमने पीएम मोदी को धन्यवाद दिया और भारत सरकार की मदद से खुश हैं। हमें बस आश्रय और राष्ट्रीयता की आवश्यकता है।” वहीं एक अन्य सिख ने पीएम मोदी धन्यवाद करते हुए कहा कि मोदी जी जो कहते हैं वो करते हैं। उन्हीं के कारण न केवल हम लोग अफगानिस्तान से लाए गए। बल्कि गुरुग्रंथ साहिब, भगवद गीता और रामायण जैसे पवित्र पुस्तकों को भी लाया गया।

वहीं एक अन्य सिख व्यक्ति ने कहा कि हमारी काफी समस्याएँ सुलझाई जा चुकी है, जैसे सीएए का मुद्दा हो। उन्होंने कहा कि जब से बीजेपी की सरकार केंद्र में आई है, उसने हमारे लिए काफी काम किए हैं। लोगों ने कहा कि अफगानिस्तान के हिंदू, सिखों के अलावा भी वहाँ के मुस्लिम भी पीएम मोदी को काफी पसंद करते हैं। पीएम मोदी ऐसे कड़क फैसले लेते हैं, जिनसे सभी का भला होता है।

कौन हैं निधान सिंह सचदेवा

गौरतलब है कि निधान सिंह सचदेवा अफगानिस्तानी मूल के भारतीय सिख हैं। जिनका परिवार 1990 के दशक से भारत में रह रहा है। अफगानिस्तान में जून 2021 में उनका उस वक्त अपहरण कर लिया गया था, जब चमकनी स्थित थाला श्री गुरु नानक साहिब गुरुद्वारा में थे। वो अब सीएए के तहत भारत की नागरिकता पाने के पात्र हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अच्छा! तो आपने मुझे हराया है’: विधानसभा में नवीन पटनायक को देखते ही हाथ जोड़ कर खड़े हो गए उन्हें हराने वाले BJP के...

विधानसभा में लक्ष्मण बाग ने हाथ जोड़ कर वयोवृद्ध नेता का अभिवादन भी किया। पूर्व CM नवीन पटनायक ने कहा, "अच्छा! तो आपने मुझे हराया है?"

‘माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है, मैं काशी का हो गया हूँ’: 9 करोड़ किसानों के खाते में पहुँचे ₹20000 करोड़, 3...

"गरीब परिवारों के लिए 3 करोड़ नए घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मान निधि को आगे बढ़ाना हो - ये फैसले करोड़ों-करोड़ों लोगों की मदद करेंगे।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -