Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजतुगलकाबाद में आमने-सामने आए CAA-NRC विरोधी और समर्थक, दिल्ली पुलिस ने बल प्रयोग कर...

तुगलकाबाद में आमने-सामने आए CAA-NRC विरोधी और समर्थक, दिल्ली पुलिस ने बल प्रयोग कर खदेड़ा

कल शाम को दिल्ली के तुगलकाबाद में, जहाँ सीएए के विरोध में नारेबाजी कर रहे लोगों के सामने सीएए के समर्थक आकर खड़े हो गए। हालाँकि, पुलिस ने तत्काल ही मौके पर पहुँचकर स्थिति को काबू में कर लिया।

नागरिकता संसोधन कानून (सीएए) बनने के बाद से ही देशभर में इसे लेकर कहीं विरोध प्रदर्शन तो कहीं समर्थन में रैली निकाली जा रही हैं, लेकिन सीएए का विरोध करने वाले प्रदर्शनकारियों को अब इसके समर्थकों से जवाब भी मिलने लगा है। कुछ ऐसा ही हुआ कल शाम को दिल्ली के तुगलकाबाद में, जहाँ सीएए के विरोध में नारेबाजी कर रहे लोगों के सामने सीएए के समर्थक आकर खड़े हो गए। हालाँकि, पुलिस ने तत्काल ही मौके पर पहुँचकर स्थिति को काबू में कर लिया।

दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले करीब दो माह से प्रदर्शनकारियों का सीएए और एनआरसी के ख़िलाफ़ विरोध-प्रदर्शन जारी है। वहीं सोमवार देर शाम को दिल्ली के तुगलकाबाद क्षेत्र में कुछ लोग सीएए के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन करते हुए सड़कों पर आ गए और ज़ोर-ज़ोर से सरकार के ख़िलाफ़ नारेबाजी करते हुए संविधान को बचाने की दुहाई देने लगे, जिसमें जामिया के कुछ छात्र भी शामिल थे। इसी बीच सीएए के समर्थन में कुछ लोग हिंदुस्तान ज़िंदाबाद, वंदे मातरम के नारे लगाते हुए प्रदर्शनकारियों के सामने आकर खड़े हो गए।

देखते ही देखते दोनों ओर से जमकर नारेबाजी होने लगी और माहौल तनावपूर्ण हो गया। इसकी जानकारी जैसे ही दिल्ली पुलिस के अधिकारियों को हुई वह तत्काल पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुँच गए, लेकिन पुलिस के मौके पर पहुँचने के बाद भी कोई भी पक्ष पीछे हटने को तैयार नहीं हुआ और आमने-सामने खड़े होकर नारेबाजी करते रहे। आख़िर में दिल्ली पुलिस को हल्का बल प्रयोग करके सड़क पर डटे लोगों को खदेड़ना पड़ा। तब कहीं जाकर पुलिस ने स्थिति को बिगड़ने से पहले ही काबू में कर लिया।

आपकों बता दें कि बीते सोमवार को मंडी हाउस में प्रदर्शनकारियों ने सीएए के विरोध में मार्च निकालने का आह्वान किया था, लेकिन दिल्ली पुलिस ने यह कहते हुए पहले ही बड़ी संख्या में पुलिस बल को तैनात कर दिया था कि यहाँ कोई विरोध-प्रदर्शन या धरना देने का स्थान नहीं है, किसी को धरना देना या विरोध-प्रदर्शन करना है तो वह जंतर-मंतर जाए। गौरतलब है कि पिछले करीब दो महीने से दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों का सीएए के ख़िलाफ़ रोड पर धरना जारी है, जिससे आम लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

पिछले दिनों स्थानीय लोगों ने शाहीन बाग धरने के ख़िलाफ़ भी एक विरोध मार्च निकाला था, जिसमें लोगों ने दिल्ली पुलिस से धरना हटवाने की माँग करते हुए कहा था कि, जहाँ जाना है वहाँ जाओ, लेकिन सड़क को खाली करो।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,101FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe