Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजअसम: पेड़ से बँधे थे 5 बच्चे, खजाने की चाह में आधी रात कुर्बानी...

असम: पेड़ से बँधे थे 5 बच्चे, खजाने की चाह में आधी रात कुर्बानी देने की तैयारी में थे जमील और ​सरिफुल हुसैन

जमील हुसैन और उसके भाई सरिफुल हुसैन ने आयशा बेगम के साथ मिलकर आधी रात 12 बजे अपने पाँच बच्चों को जान से मारने की तैयारी की थी। लेकिन स्थानीय लोगों को इसकी भनक लग गई और उन्होंने सतर्कता दिखाते हुए आखिरी समय में बच्चों को बचा लिया।

असम से एक भयावह घटना सामने आ रही है। यहाँ पर दो भाइयों ने छिपे हुए खजाने को पाने के लिए अपने पाँच बच्चों की कुर्बानी देने की कोशिश की। घटना शनिवार (नवंबर 14, 2020) आधी रात की है। जमील हुसैन और उसके भाई सरिफुल हुसैन ने आयशा बेगम के साथ मिलकर आधी रात 12 बजे अपने पाँच बच्चों को जान से मारने की तैयारी की थी। लेकिन स्थानीय लोगों को इसकी भनक लग गई और उन्होंने सतर्कता दिखाते हुए आखिरी समय में बच्चों को बचा लिया।

घटना असम में शिवसागर जिले के डिमू मुख क्षेत्र में बमबारी में हुई, जहाँ जादू-टोना करने वाली एक महिला ने जमील और सरिफुल को सलाह दी कि वे जमीन में दबे हुए सोने और अन्य खजाने को पाने के लिए अपने बच्चों की कुर्बानी दें। इसके साथ ही उन्होंने दोनों भाइयों से यह भी कहा कि ऐसा करने से उनके परिवार की सारी समस्याएँ समाप्त हो जाएँगी। इतना सुनने के बाद जमील और सरिफुल अपने पाँचों बेटों की कुर्बानी देने के लिए तैयार हो गए।

बच्चों को जमील के घर के पीछे एक आम के पेड़ से बाँधा गया था। काली पूजा के दौरान आधी रात को उनकी कुर्बानी दी जानी थी। लेकिन पिछले कुछ दिनों में दोनों भाइयों के गतिविधियों ने स्थानीय लोगों के बीच संदेह पैदा कर दिया था, जिसकी वजह से वह उनकी गतिविधियों पर नजर रख रहे थे। शनिवार आधी रात को उन्होंने देखा कि बच्चे आम के पेड़ से बँधे थे और रो रहे थे। यह देखकर उन्होंने तुरंत पुलिस को सूचित किया। स्थानीय लोगों ने बच्चों के पिता को पकड़ लिया और फिर उन्हें पुलिस को सौंप दिया। इसके साथ ही उन्होंने उस महिला को भी पुलिस के हवाले कर दिया, जो उनके साथ अपराध में शामिल थी।

पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से बच्चों को छुड़ाया और थाने ले आई। पुलिस ने जमील हुसैन, सरिफुल हुसैन और आयशा बेगम को गिरफ्तार किया। पुलिस अधिकारियों ने कहा है कि वे आरोपितों से पूछताछ कर रहे हैं और जल्द ही FIR दर्ज की जाएगी। उन्होंने कहा कि यद्यपि स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया हैं कि यह मानव कुर्बानी का प्रयास था, फिर भी वे उस एंगल से घटना की जाँच कर रहे हैं। पुलिस ने बच्चों को पेड़ से बँधा हुआ पाया, हालाँकि उनका कहना है कि अभी तक मानव कुर्बानी के प्रयास का कोई सबूत मौके पर नहीं मिला है।

स्थानीय लोगों के अनुसार, जब उन्होंने इस घटना के बारे में पिता से सवाल किया, तो उन्होंने स्वीकार किया कि बच्चों की कुर्बानी दी जानी थी, लेकिन वे खुद ऐसा नहीं करने वाले थे। उन्होंने कहा कि इसके लिए कोई और आने वाला था। साथ ही यह भी पता चला है कि पाँच बच्चों को कुर्बानी की तैयारी में पिछले कई दिनों से एक कमरे में बंद रखा गया था। जमील ने पास के मोरान के एक जादू-टोना करने वाले का नाम भी लिया है, जिसने उन्हें अपने बच्चों की कुर्बानी देने की सलाह दी थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान हारे भी न और टीम इंडिया गँवा दे 2 अंक: खुद को ‘देशभक्त’ साबित करने में लगे नेता, भूले यह विश्व कप है-द्विपक्षीय...

सृजिकल स्ट्राइक का सबूत माँगने वाले और मंच से 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' का नारा लगवाने वाले भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच रद्द कराने की माँग कर 'देशभक्त' बन जाएँगे?

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe