Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाज'ये मेरे बेटे को श्रद्धांजलि': असद-गुलाम के एनकाउंटर पर बोलीं उमेश पाल की माँ,...

‘ये मेरे बेटे को श्रद्धांजलि’: असद-गुलाम के एनकाउंटर पर बोलीं उमेश पाल की माँ, डिप्टी सीएम ने ‘UP एसटीएफ’ को दी बधाई; सोशल मीडिया में छाया ‘मिट्टी में मिला देंगे’

उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने इस एनकाउंटर के बाद यूपी के एसटीएफ को बधाई दी। उन्होंने कहा कि उमेश पाल के एडवोकेट और पुलिस के जवानों के हत्यारों का यही हश्र होना था।

उत्तर प्रदेश के माफिया अतीक अहमद के बेटे असद अहमद का झांसी में एनकाउंटर होने के बाद उमेश पाल के घरवालों ने प्रदेश मुख्यमंत्री सीएम योगी आदित्यनाथ को धन्यवाद दिया है।

मृतक उमेश की माँ ने एनकाउंटर की खबर सुनने के बाद कहा, “न्याय देने के लिए मैं सीएम योगी का आभार प्रकट करती हूँ और अपील करती हूँ कि ऐसे ही आगे भी हमें न्याय दिलाया जाए।” उन्होंने इस पुलिस कार्रवाई पर कहा- “ये मेरे बेटे को श्रद्धांजलि है।”

वहीं प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने इस एनकाउंटर के बाद यूपी के एसटीएफ को बधाई दी। उन्होंने कहा कि उमेश पाल के एडवोकेट और पुलिस के जवानों के हत्यारों का यही हश्र होना था।

उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा, “मैं यूपी की एसटीएफ को इस कार्रवाई के लिए बधाई देता हूँ। पुलिस ने गोली जवाबी कार्रवाई में चलाई। ये नए भारत में अपराधियों के लिए संदेश है। यूपी में योगी सरकार है न कि समाजवादी पार्टी जो अपराधियों को संरक्षण देगी।”

इस एनकाउंटर के बाद सोशल मीडिया पर सीएम योगी की सराहना की जा रही है। सीएम योगी की वो वीडियो क्लिप शेयर की जा रही है जिसमें उन्होंने कहा था- मिट्टी में मिला देंगे। इस वीडियो को शेयर करके यूजर्स बोल रहे हैं- “मैं जो कहता हूँ, वो करता हूँ। मिट्टी में मिला दिया।” अमन सिंह ने लिखा- “बाबा जो कहते हैं- वहीं करते हैं। मिट्टी में मिला दिया।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

बिहार में निर्दलीय शंकर सिंह ने जदयू-राजद को हराया, बंगाल में 25 साल की मधुपूर्णा बनीं MLA, हिमाचल में CM सुक्खू की पत्नी जीतीं:...

उप-मुख्यमंत्री व भाजपा नेता विजय सिन्हा ने कहा कि शंकर सिंह भी हमलोग से ही जुड़े हुए उम्मीदवार थे। 'नॉर्थ बिहार लिबरेशन आर्मी' के थे मुखिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -