Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजCM योगी ने माँगी रिपोर्ट, कहा- उन्नाव पीड़िता के इलाज का खर्च उठाएगी सरकार

CM योगी ने माँगी रिपोर्ट, कहा- उन्नाव पीड़िता के इलाज का खर्च उठाएगी सरकार

“UPCM योगी आदित्यनाथ ने जनपद उन्नाव की घटना का संज्ञान लेते हुए यूपी DGP से प्रकरण की रिपोर्ट तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने अस्पताल में भर्ती पीड़िता का सरकारी खर्च पर बेहतर से बेहतर नि:शुल्क इलाज कराने के आदेश भी दिए हैं।”

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ का पीड़ितों के साथ नरम रुख और गैंगस्टर, दंगाइयों और भू माफियों के खिलाफ सख्त रुख अपनाने का सिलसिला जारी है। इसी कड़ी में जहाँ एक तरफ सीएम योगी ने उन्नाव पीड़ित के इलाज का पूरा खर्च उठाने की बात कही है, वहीं दूसरी तरफ बाहुबली माफिया कहे जाने वाले अतीक अहमद की अवैध जमीन को चुनाव आयोग को दिए जाने का निर्देश दिया है।

अतीक की अवैध जमीन पर चुनाव आयोग का वेयर हाउस बनाने का प्रस्ताव आवास विकास विभाग द्वारा दिया गया था। जिस पर अब योगी कैबिनेट ने अपनी मुहर लगा दी है। सरकारी मुहर लगते ही योगी सरकार के राज्य में अतीक के कब्ज़े से खाली कराई गई ज़मीन पर चुनाव आयोग का वेयर हाउस बनाए जाने का रास्ता साफ़ हो गया है। अधिकारियों द्वारा जल्द ही सारी कागजी कार्रवाई पूरे होते ही काम शुरू कर दिया जाएगा।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, नए चुनाव आयोग के इस वेयर हाउस में उन सामानों को रखा जाएगा, जिन्हें चुनाव के दौरान इस्तेमाल किया जाता है। जैसे कि इसमें इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों के साथ ही वीवीपैट मशीनों को भी रखा जाएगा। आयोग के कुछ अधिकारियों के बैठने का इंतजाम भी इस वेयर हाउस में किया जाएगा।

दरअसल, प्रयागराज के लूकरगंज इलाके के प्लाट नंबर 19 और 65 पर माफिया अतीक अहमद के पिता हाजी फ़िरोज़ अहमद का कब्ज़ा था। अतीक के गुर्गे इस ज़मीन पर अपनी पूरी पकड़ बनाए हुए थे और इसकी देखभाल करते थे। तकरीबन सात हज़ार स्क्वायर मीटर की इस जगह की कीमत करीब 70 लाख रूपए है।

भूमाफियाओं और बाहुबलियों पर नकेल कसते हुए योगी सरकार के अंतर्गत प्रयागराज जिला प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे ऑपरेशन नेस्तनाबूत के तहत इस ज़मीन को अतीक के कब्जे से पिछले साल 13 सितम्बर को खाली कराया गया था। सरकारी रिकार्ड में यह ज़मीन सरकार की ही थी। अतीक के परिवार ने इस पर अवैध कब्ज़ा कर रखा था।

उन्नाव पीड़िता का पूरा खर्च उठाएगी योगी सरकार

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्नाव की घटना का संज्ञान लेते हुए प्रदेश के डीजीपी एचसी अवस्थी से घटना की पूरी रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दे दिए हैं। साथ ही अस्पताल में भर्ती पीड़िता का सरकारी खर्च पर बेहतर से बेहतर इलाज सुनिश्चित कराए जाने के निर्देश दिए हैं। सीएम योगी ने कहा कि पीड़िता के नि:शुल्क इलाज की व्यवस्था की जाए।

यूपी मुख्यमंत्री कार्यालय से इस संबंध में एक ट्वीट किया गया है, जिसमें कहा गया है, “UPCM योगी आदित्यनाथ ने जनपद उन्नाव की घटना का संज्ञान लेते हुए यूपी DGP से प्रकरण की रिपोर्ट तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने अस्पताल में भर्ती पीड़िता का सरकारी खर्च पर बेहतर से बेहतर नि:शुल्क इलाज कराने के आदेश भी दिए हैं।”

गौरतलब है कि बुधवार (फरवरी 17, 2021) देर शाम तीन नाबालिग दलित लड़कियाँ उन्नाव के असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गाँव के एक खेत में बेहोशी की हालत में मिली थी। इनमें दो की मौत हो चुकी थी, जबकि एक को सीएचसी से जिला अस्पताल और उसके बाद कानपुर रीजेंसी अस्‍पताल रेफर किया गया था।

इलाज के 12 घंटे बाद भी उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। उसे बैग और ट्यूब वेंटिलेशन पर रखा गया है। अस्पताल की चाइल्ड केयर यूनिट उसका गहनता से इलाज कर रही है। वहीं मृत पाई गई दोनों लड़कियों के पोस्‍टमॉर्टम के लिए प्रशासन ने तीन डॉक्‍टरों का पैनल बनाया था।

बता दें, उन्नाव की दोनों किशोरियों का पोस्टमार्टम हो चुका है। पोस्टमार्टम करने वाले डाक्टरों का कहना है कि दोनों किशोरियों की मौत जहरीला पदार्थ खाने से हुई है। दोनों ने मौत से करीब 6 घंटे पहले खाना खाया था। दोनों के पेट में 100 से लेकर 80 ग्राम तक खाना मिला है। खाने में जहर होने की वजह से मौत हो गई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राणा अयूब बनीं ट्रोलिंग टूल, कश्मीर पर प्रोपेगेंडा चलाने के लिए आ रहीं पाकिस्तान के काम: जानें क्या है मामला

पाकिस्तान के सूचना मंत्रालय से जुड़े लोग ऑन टीवी राणा अयूब की तारीफ करते हैं। वह उन्हें मोदी सरकार का पर्दाफाश करने वाली ;मुस्लिम पत्रकार' के तौर पर जानते हैं।

राहुल गाँधी ने POCSO एक्ट का किया उल्लंघन, NCPCR ने ट्वीट हटाने के दिए निर्देश: दिल्ली की पीड़िता के माता-पिता की फोटो शेयर की...

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने राहुल गाँधी के ट्वीट पर संज्ञान लिया है और ट्विटर से इसके खिलाफ कार्रवाई करने की माँग की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,975FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe