Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजUP की शाबिया बनी सीता, संजय के साथ मंदिर में लिए सात फेरे: परिवार...

UP की शाबिया बनी सीता, संजय के साथ मंदिर में लिए सात फेरे: परिवार के विरोध पर बोली- मैं बालिग, अपनी जिंदगी का फैसला लेने का मुझे अधिकार

"मैं जब 17 साल की थी, तब से संजय से मेरा अफेयर चल रहा है। इसमें धर्म की कोई बात नहीं है। अब मैं 20 साल की हो गई हूँ। बालिग हूँ और मुझे मेरी जिंदगी का फैसला लेने का पूरा अधिकार है।"

उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में परिजनों के विरोध के बावजूद एक मुस्लिम लड़की ने अपने हिंदू प्रेमी के साथ विवाह किया है। इस युवती का नाम शाबिया है। घर वापसी के बाद उसका नाम सीता रखा गया है। 27 दिसंबर 2023 को हिंदू विधि-विधान के साथ उसने मंदिर में शादी की। इस दौरान बजरंग दल और अन्य हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ता मौजूद थे।

रिपोर्ट के अनुसार 20 साल की साबिया जिले बहुआ ब्लॉक के नरतौली गाँव की रहने वाली है। 22 साल का संजय उसकी पड़ोस के गाँव सोनबरसा का रहने वाला है। दोनों के बीच तीन साल से प्रेम संबंध चल रहा था। लेकिन शाबिया का परिवार दोनों की शादी का विरोध कर रहा था। पहले दोनों ने कोर्ट मैरिज का फैसला किया। लेकिन शाबिया के परिजनों ने वहाँ हंगामा कर दिया। इसके बाद बजरंग दल से जुड़े लोगों ने तांबेश्वर शिव मंदिर में दोनों की शादी करवाई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक संजय का नरतौली गाँव में आना-जाना था। इसी दौरान शाबिया से उसकी मुलाकात हुई थी। बुधवार (27 दिसंबर 2023) को प्रेमी जोड़े ने कोर्ट के माध्यम से राजीनामा लिखा। लेकिन इस दौरान लड़की के परिजनों ने हंगामा कर दिया। इसकी सूचना मिलते ही हिंदू संगठनों से जुड़े लोग मौके पर पहुँच गए। दोनों को तांबेश्वर मंदिर ले गए। यहाँ प्रेमी जोड़े ने मन्त्रोचारण के बीच मंदिर में सात फेरे लिए और हमेशा के लिए एक-दूजे के हो गए।

शादी के बाद शाबिया ने बताया, “मैं जब 17 साल की थी, तब से संजय से मेरा अफेयर चल रहा है। इसमें धर्म की कोई बात नहीं है। अब मैं 20 साल की हो गई हूँ। बालिग हूँ और मुझे मेरी जिंदगी का फैसला लेने का पूरा अधिकार है।” शादी के बाद हिंदू संगठन के लोगों ने नवविवाहित जोड़े को 10 हजार रुपए का चेक भी सौंपा, ताकि उन्हें अपनी जिंदगी को शुरू करने में कोई दिक्कत नहीं आए। शादी के बाद संजय और सीता (शाबिया) दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -