Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाज'केदारनाथ धाम में सवा अरब रुपए का सोना पीतल में बदल गया': वायरल दावे...

‘केदारनाथ धाम में सवा अरब रुपए का सोना पीतल में बदल गया’: वायरल दावे का मंदिर प्रशासन ने किया खंडन, कहा- झूठ फैलाने पर करेंगे कानूनी कार्रवाई

मंदिर के पुजारी त्रिवेदी ने कहा है कि गर्भगृह में सोने की परत लगाने के नाम पर सवा अरब रुपए का घोटाला किया गया और पीतल लगाया गया। उन्होंने कहा कि BKTC, सरकार और प्रशासन में जो भी इस कार्य के लिए जिम्मेदार हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि वे सोना लगाने का विरोध कर रहे थे। इसके बावजूद यह किया गया।

उत्तराखंड में स्थित भगवान भोलनाथ से जुड़ा केदारनाथ मंदिर के गर्भगृह में लगे सोने को लेकर विवाद हो गया है। मंदिर के पुजारी संतोष त्रिवेदी का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि केदारनाथ मंदिर के गर्भगृह में लगाया गया सोना, पीतल में बदल गया है। इतना ही नहीं मंदिर प्रशासन पर उन्होंने अरबों रुपए की हेरफेर का भी आरोप लगाया है। विवाद बढ़ने के बाद केदारनाथ मंदिर प्रबंधन ने अब इस पर सफाई दी है।

श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति (BKTC) की ओर से जारी बयान में इस आरोप को भ्रामक बताकर इसका खंडन किया गया है। BKTC के अधिकारी आरसी तिवारी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि श्री केदारनाथ मंदिर के गर्भ गृह के दीवारों एवं जलेरी को स्वर्णमंडित करवाने का काम साल 2022 में एक दानदाता के सौजन्य से कराया गया था।

बयान में कहा गया है कि वर्तमान में कुछ लोगों द्वारा सोशल मीडिया में वीडियो प्रसारित किया जा रहा है कि एक अरब 15 करोड़ रुपए का सोना मंदिर के गर्भगृह में लगाया गया है। मंदिर प्रशासन ने साफ कहा कि मंदिर में 23,77.8 ग्राम सोना गर्भगृह में लगाया गया है, जिसकी वर्तमान बाजार मूल्य 14.38 करोड़ रुपए है।

मंदिर प्रशासन ने स्पष्ट किया है कि स्वर्ण मंडित का काम करने के लिए ताँबे के प्लेटों का भी इस्तेमाल किया गया है, जिसका कुल वजन 1,001.30 किलोग्राम है। इस प्लेट का कुल मूल्य 29 लाख रुपए है। ये सारे खर्च एक दानदाता द्वारा किया गया है। भ्रामक जानकारी फैलाने वाले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की भी बात कही।

दरअसल, पुजारी त्रिवेदी ने कहा कि गर्भगृह में सोने की परत लगाने के नाम पर सवा अरब रुपए का घोटाला किया गया और पीतल लगाया गया। उन्होंने कहा कि BKTC, सरकार और प्रशासन में जो भी इस कार्य के लिए जिम्मेदार हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि वे सोना लगाने का विरोध कर रहे थे। इसके बावजूद यह किया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -