Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजलश्कर-ए-तैयबा से संबंध रखने के आरोप में पश्चिम बंगाल से कॉलेज छात्रा तानिया परवीन...

लश्कर-ए-तैयबा से संबंध रखने के आरोप में पश्चिम बंगाल से कॉलेज छात्रा तानिया परवीन गिरफ्तार, बैंक खाते से हो रहे थे करोड़ों के लेन-देन

एसटीएफ अधिकारियों के एक टीम ने गुरुवार को बदुरिया पुलिस थाने क्षेत्र के गाँव मावलीपुर ने छापा मारा था और टीम ने पहचान करने के बाद परवीन को उसके घर से ही गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की जानकारी के मुताबिक आरोपित छात्रा क्षेत्र के प्रतिष्ठित मौलाना आज़ाद कॉलेज में प्रथम वर्ष की एमए अरबी की छात्रा है।

पंश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में भारत-बांग्लादेश सीमा के पास से कोलकाता पुलिस ने आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से संबंध रखने के आरोप में एक प्रतिष्ठित कॉलेज से छात्रा को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि आरोपित छात्रा की पहचान तानिया परवीन के रूप में की गई है। वहीं गिरफ्तारी के बाद आरोपित छात्रा को 14 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है।

दरअसल, एसटीएफ अधिकारियों के एक टीम ने गुरुवार को बदुरिया पुलिस थाने क्षेत्र के गाँव मावलीपुर ने छापा मारा था और टीम ने पहचान करने के बाद परवीन को उसके घर से ही गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की जानकारी के मुताबिक आरोपित छात्रा क्षेत्र के प्रतिष्ठित मौलाना आज़ाद कॉलेज में प्रथम वर्ष की एमए अरबी की छात्रा है। गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने छात्रा के राजद्रोह, धार्मिक उत्पीड़न और आपराधिक साजिश आदि धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

दरअसल, पुलिस को जानकारी मिली है कि उसके बैंक खाते में करोड़ों रुपए का आए दिन लेन-देन हो रहा था, इसके बाद से ही परवीन की गतिविधियों पर संदेह होने लगा। बताया जा रहा है कि परवीन पर स्थानीय युवाओं को आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के लिए उकसाने का आरोप भी है। वहीं गिरफ्तार की गई छात्रा को बारासात में एक सत्र अदालत में पेश किया गया, जिसे वहाँ से 14 दिन के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

वहीं बीते रविवार को जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ की खबर सामने आई थी। रिपोर्ट्स के अनुसार इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी हासिल हुई थी। सुरक्षा बलों ने 4 आतंकियों को इस मुठभेड़ में मार गिराया था, जिसमें मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिदीन का कमांडर तारिक अहमद भी शामिल था, जबकि बाकी तीन मारे गए लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

विवाद की जड़ में अंग्रेज, हिंसा के पीछे बांग्लादेशी घुसपैठिए? असम-मिजोरम के बीच झड़प के बारे में जानें सब कुछ

असल में असम से ही कभी मिजोरम अलग हुआ था। तभी से दोनों राज्यों के बीच सीमा-विवाद चल रहा है। इस विवाद की जड़ें अंग्रेजों के काल में हैं।

खजराना मंदिर की स्वयंभू गणेश प्रतिमा: औरंगजेब के हमले में भी सुरक्षित, जानिए श्रद्धालु आज भी क्यों बनाते हैं उल्टा स्वास्तिक

इंदौर स्थित खजराना गणेश मंदिर में विराजमान भगवान गणेश की प्रतिमा स्वयंभू है। औरंगजेब के हमले से बचाने के लिए इसे कुएँ में छिपा दिया गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe