Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजबंगाल में 2 महिलाओं को नग्न कर जूतों से पीटा, बिहार में दलित नाबालिग...

बंगाल में 2 महिलाओं को नग्न कर जूतों से पीटा, बिहार में दलित नाबालिग लड़की को नग्न कर बरसाए लात-जूते

पश्चिम बंगाल के मालदा में पाकुआहाट नामक जगह पर 2 महिलाओं के ऊपर अत्याचार किया गया। बिहार के बेगूसराय में भी एक दलित नाबालिग लड़की के साथ क्रूरता की घटना सामने आई।

मणिपुर का एक वीडियो शुक्रवार (21 जुलाई, 2023) को सोशल मीडिया में वायरल हुआ, जिसमें 2 महिलाओं को नग्न कर भीड़ द्वारा उनका परेड निकाले जाते हुए देखा गया। पता चला कि ये घटना वीडियो वायरल होने से ढाई महीने पहले की है। 3 महिलाओं के साटन ज्यादतियाँ हुई थीं, उनका गैंगरेप भी किया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने मामला का संज्ञान लिया। प्रधानमंत्री ने कार्रवाई का आश्वासन दिया। संसद में विपक्ष ने इस पर हंगामा किया। वहीं अब बिहार और पश्चिम बंगाल से महिलाओं के साथ ज्यादतियाँ की खबरें आई हैं।

पश्चिम बंगाल: मालदा में 2 महिलाओं को पॉकेटमार बता कर पीटा

ये घटना 19 जुलाई, 2023 की है। पश्चिम बंगाल के मालदा में पाकुआहाट नामक जगह पर 2 महिलाओं के ऊपर अत्याचार किया गया। ये इलाका बामनगोला थाना क्षेत्र की पुलिस के अंतर्गत आता है। दोनों महिलाओं को पॉकेटमार होने के संदेह पर पकड़ लिया गया। इसके बाद वहाँ भीड़ जुट गई और उन्होंने इन महिलाओं को बुरी तरह पीटा। लोगों के सामने ही उनकी साड़ियाँ फाड़ डाली गईं और उन्हें नग्न कर दिया गया। इतना ही नहीं, उनके बाल खींचे गए और जूतों से भी उनकी पिटाई की गई।

इस दौरान दोनों महिलाओं किसी तरह अपने तन को ढँकने का प्रयास करती रहीं। वीडियो में देखा जा सकता है कि उन्हें बचाने के लिए भी कोई नहीं आया। ये महिलाएँ मानिकचक गाँव की रहने वाली हैं। भाजपा नेता अमित मालवीय ने बताया है कि ये दोनों महिलाएँ जनजातीय समाज से थीं। उन्होंने कहा कि महिलाओं के साथ क्रूरता होती रही और पुलिस देखती रही। उन्होंने याद दिलाया कि ममता बनर्जी राज्य की मुख्यमंत्री होने के साथ-साथ गृह मंत्री भी हैं, ऐसे में उन्हें इस पर एक्शन लेना चाहिए था।

उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने इसकी बजाए चुप रहना पसंद किया, घटना की निंदा तक नहीं की। अमित मालवीय ने कहा कि इससे मुख्यमंत्री के रूप में उनकी विफलता का पता चलता, इसीलिए उन्होंने ऐसा नहीं किया। भाजपा नेता प्रेम शुक्ला ने भी ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा कि वो मणिपुर को लेकर चिंता जता रही हैं, जबकि पश्चिम बंगाल में बहन-बेटियाँ सुरक्षित नहीं हैं। इससे पहले हावड़ा के दक्षिण पाँचला में 40 TMC कार्यकर्ताओं द्वारा एक महिला को नग्न कर उसका जुलूस निकाले जाने के आरोप लगे थे।

बिहार: बेगूसराय में में लड़की के साथ ज्यादतियाँ, नग्न कर पीटा

बिहार के बेगूसराय में भी एक दलित नाबालिग लड़की के साथ क्रूरता की घटना सामने आई। उसे निर्वस्त्र कर के उसी पिटाई की गई, जबकि वो गुहार लगाती रही और मिन्नतें करती रही। पुलिस ने इसके बाद मामला दर्ज किया है। बिहार पुलिस ने पॉक्सो एक्ट के तहत कार्रवाई की बात कही है। तेघड़ा थाना क्षेत्र के पकठौल गाँव की इस घटना का वीडियो भी वायरल हुआ है। लोगों का कहना था कि उन्होंने संगीत शिक्षक और इस लड़की को आपत्तिजनक अवस्था में पकड़ा है।

उक्त गायक को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। भीड़ ने गायक और लड़की, दोनों की पिटाई की। लड़की गुहार लगाती रही, लेकिन लोग लात-घूसे बरसाते रहे। लड़की के साथ अभद्रता की गई। उसके कपड़ों को फाड़ डाला गया। महिला थानाध्यक्ष के जरिए पीड़िता का बयान रिकॉर्ड कराया गया है। पीड़िता ने बताया कि गायक किशुनदेव चौरसिया ने इसके साथ रेप किया। पुलिस ने बताया कि हमलावरों की पहचान कर ली गई है।

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने ऐसी घटनाओं पर आपत्ति दर्ज कराते हुए कहा है, “देश के कुछ राज्यों में महिलाओं के खिलाफ अपराध की घटनाएँ बढ़ी हैं और कई राज्यों में इसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। बेगूसराय में जो हुआ वह हमारे सामने है, लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस पर एक शब्द भी नहीं बोला। महिलाओं के खिलाफ अपराध में राजस्थान नंबर वन राज्य बन गया है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -