Wednesday, May 12, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे मोदी-शाह की जोड़ी की मारी नहीं, कॉन्ग्रेस तो सोनिया-राहुल-प्रियंका की तिकड़ी के बोझ तले...

मोदी-शाह की जोड़ी की मारी नहीं, कॉन्ग्रेस तो सोनिया-राहुल-प्रियंका की तिकड़ी के बोझ तले दबी है

इन नतीजों के सबक स्पष्ट हैं। कॉन्ग्रेसियों को भले लगता हो कि गॉंधी परिवार जोड़ कर रखने वाला फेविकोल है, पर असल में वे बोझ हैं। जिन्हें ढोने की मजबूरी ही कॉन्ग्रेस के चुनाव दर चुनाव धॅंसने का सबसे बड़ा कारण है।

कॉन्ग्रेसियों के लिए नेहरू-गॉंधी परिवार की चौखट इबादतगाह है। उनका कहा किसी आसमानी किताब जैसा पाक। उनका मानना है कि यह परिवार वह फेविकोल है जो उन्हें जोड़ कर रखता है। इसलिए, परिवार में ही वे भारत की खोज करते हैं। जमीन से कटे-कटे रहते हैं।

पर ये आज का भारत है। टिकटॉक करता। सूचनाओं के सागर में गोते लगाता। सो, जब-जब चुनाव के नतीजे आते हैं कॉन्ग्रेस जमीन में पहले से ज्यादा धॅंस जाती है। उम्मीद थी कि कॉन्ग्रेसी आम चुनाव के नतीजों से सबक लेंगे। लक बाय चॉंस उनके पास मौका भी था। नया नेतृत्व चुनने का। परिवार से पीछा छुड़ाने का। पर वफादार ओल्ड गार्ड ने ऐसा होने न दिया और इसके नतीजे महाराष्ट्र और हरियाणा में लगे हाथ कॉन्ग्रेस को मिल भी गए।

महाराष्ट्र में विधानसभा की 288 तो हरियाणा में 90 सीटें हैं। लेकिन, इन चुनावों में गॉंधी परिवार ने प्रचार से दूरी बना रखी थी। पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गॉंधी और महासचिव प्रियंका गॉंधी ने दोनों राज्यों में एक भी रैली नहीं की। पूर्व अध्यक्ष राहुल गॉंधी ने महाराष्ट्र में पॉंच तो हरियाणा में दो रैली की। जबकि स्टार प्रचारकों की लिस्ट में तीनों थे।

पढ़ें: मुक्ति मार्ग पर 2 कदम और… कॉन्ग्रेस वह ‘बैल’ है जिसे अब गॉंधी भी हाँकना नहीं चाहते

दूसरी तरफ भाजपा थी। दोनों राज्यों में पॉंच साल के एंटी इंकबेंसी फैक्टर की काट के लिए नेतृत्व ने पूरा दमखम झोंका। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष तथा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने महाराष्ट्र और हरियाणा में 50 के करीब रैलियॉं की। विकास के साथ-साथ हर उस मुद्दे को उभारा, जिसके आधार पर वोटरों को गोलबंद किया जा सकता था।

फिर भी महाराष्ट्र और हरियाणा में भाजपा की सीटें 2014 के मुकाबले कम हो गई। जाहिर है, गॉंधी परिवार की प्रचार से दूरी कॉन्ग्रेस के लिए काम कर गई और राहुल गॉंधी का कम बोलना भाजपा को नुकसान कर गया। याद करिए आम चुनावों में राहुल और प्रियंका की सक्रियता और कॉन्ग्रेस के प्रदर्शन को। तस्वीर तरह साफ हो जाएगी।सो, इस जनादेश में ऐसा कुछ भी नहीं है जो अप्रत्याशित हो।

कॉन्ग्रेसी परिवार परिक्रमा से तौबा कर चाहें तो अब भी अपनी नियति बदल सकते हैं। घोर विरोधी राम मनोहर ​लोहिया के कहे में अपनी मुक्ति का मार्ग तलाश सकते हैं। समाजवादियों के लिए लोहिया के दो रेडिमेड फॉर्मूले थे। पहला, कॉन्ग्रेस से लड़ने के लिए शैतान से भी हाथ मिलाओ। दूसरा, सुधरो या टूटो। गॉंधी परिवार ने कॉन्ग्रेस की वो औकात रहने नहीं दी कि अब पहले फॉर्मूले की जरूरत पड़े। कॉन्ग्रेसी चाहे तो दूसरे पर अमल कर सकते हैं।

कहते हैं कि आदमी को आगे से और बैल को पीछे से हॉंकते हैं। जीते-जागते ऊर्जावान लोगों के संगठन को गॉंधी परिवार ने पहले तो बैल बनाया। फिर उसे ऐसे बैल में बदल दिया जिसे उसका मालिक भी पीछे से हॉंकने को तैयार नहीं। महाराष्ट्र और हरियाणा में यह दिखा भी। कॉन्ग्रेस मुक्त भारत के सपने को साकार करने की जिस हड़बड़ाहट में गॉंधी परिवार है उसमें कॉन्ग्रेसियों के पास ज्यादा वक्त नहीं है। अब वे जल्दी न सुधरे, न टूटे तो दफन होना ही उनकी नियति है। वैसे भी वे मोदी-शाह की जोड़ी के कम मारे हैं। सोनिया-राहुल-प्रियंका की तिकड़ी का बोझ ही कुछ ज्यादा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सामना’ में रानी अहिल्या बाई की तुलना ममता बनर्जी से देख भड़के परिजन, CM उद्धव को पत्र लिख जताई नाराजगी

शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तुलना 'महान महिला शासक' रानी अहिल्या बाई होलकर से किए जाने के बाद रानी के वंशजों में गुस्सा है।

चढ़ता प्रोपेगेंडा, ढलता राजनीतिक आचरण: दिल्ली के असल सवालों को मुँह चिढ़ाती केजरीवाल की पैंतरेबाजी

ऐसे दर्जनों पैंतरे हैं जिन पर केजरीवाल से प्रश्न नहीं किए गए हैं और यही बात उनसे बार-बार ऐसे पैंतरे करवाती है।

25 साल पहले ULFA ने कर दी थी पति की हत्या, अब असम की पहली महिला वित्त मंत्री

असम में पहली बार एक महिला वित्त मंत्री चुनी गई है। नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने अपनी सरकार में वित्त विभाग 5 बार गोलाघाट से विधायक रह चुकी अजंता निओग को सौंपा।

UP: न्यूज एंकर समेत 4 पत्रकार ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी में गिरफ्तार, ₹55 हजार में कर रहे थे सौदा

उत्तर प्रदेश के कानपुर में चार पत्रकार ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजरी करते पकड़े गए हैं। इनमें से एक लोकल न्यूज चैनल का एमडी/एंकर है।

‘हमारे साथ खराब काम हुआ’: टिकरी बॉर्डर गैंगरेप में योगेंद्र यादव से पूछताछ, कविता और योगिता भी तलब

पीड़ित पिता के मुताबिक बेटी की मौत के बाद उन पर कुछ भी पुलिस को नहीं बताने का दबाव बनाया गया था।

पति से वीडियो कॉल पर बात कर रही थी केरल की सौम्या, फलस्तीनी आतंकी संगठन हमास के रॉकेट ने उड़ाया

सौम्या संतोष हमास के रॉकेट हमले में मारी गई। जब हमला हुआ उस वक्त वह केरल में रह रहे अपने पति संतोष से वीडियो कॉल पर बात कर रही थी।

प्रचलित ख़बरें

इजरायल पर इस्लामी गुट हमास ने दागे 480 रॉकेट, केरल की सौम्या सहित 36 की मौत: 7 साल बाद ऐसा संघर्ष

फलस्तीनी इस्लामी गुट हमास ने इजरायल के कई शहरों पर ताबड़तोड़ रॉकेट दागे। गाजा पट्टी पर जवाबी हमले किए गए।

मुस्लिम वैज्ञानिक ‘मेजर जनरल पृथ्वीराज’ और PM वाजपेयी ने रचा था इतिहास, सोनिया ने दी थी संयम की सलाह

...उसके बाद कई देशों ने प्रतिबन्ध लगाए। लेकिन वाजपेयी झुके नहीं और यही कारण है कि देश आज सुपर-पावर बनने की ओर अग्रसर है।

‘#FreePalestine’ कैम्पेन पर ट्रोल हुई स्वरा भास्कर, मोसाद के पैरोडी अकाउंट के साथ लोगों ने लिए मजे

स्वरा के ट्वीट का हवाला देते हुए @TheMossadIL ने ट्वीट किया कि अगर इस ट्वीट को स्वरा भास्कर के ट्वीट से अधिक लाइक मिलते हैं, तो वे भारतीय अभिनेत्री को एक स्पेशल ‘पॉकेट रॉकेट’ भेजेंगे।

इजरायल का आयरन डोम आसमान में ही नष्ट कर देता है आतंकी संगठन हमास का रॉकेट: देखें Video

इजरायल ने फलस्तीनी आतंकी संगठन हमास द्वारा अपने शहरों को निशाना बनाकर दागे गए रॉकेट को आयरन डोम द्वारा किया नष्ट

‘इस्लाम को रियायतों से आज खतरे में फ्रांस’: सैनिकों ने राष्ट्रपति को गृहयुद्ध के खतरे से किया आगाह

फ्रांसीसी सैनिकों के एक समूह ने राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को खुला पत्र लिखा है। इस्लाम की वजह से फ्रांस में पैदा हुए खतरों को लेकर चेताया है।

बांग्लादेश: हिंदू एक्टर की माँ के माथे पर सिंदूर देख भड़के कट्टरपंथी, सोशल मीडिया में उगला जहर

बांग्लादेश में एक हिंदू अभिनेता की धार्मिक पहचान उजागर होने के बाद इस्लामिक लोगों ने अभिनेता के खिलाफ सोशल मीडिया में उगला जहर
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,382FansLike
92,728FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe