Thursday, January 28, 2021
Home बड़ी ख़बर दलाल, हरामज़ादा, पूतना, दरिंदा, चोर, भड़वा आदि आराम से क्यों बोलने लगे हैं हमारे...

दलाल, हरामज़ादा, पूतना, दरिंदा, चोर, भड़वा आदि आराम से क्यों बोलने लगे हैं हमारे नेता?

ऐसा भी नहीं है कि गिरिराज सिंह ने जो कहा वो संदर्भ बताने पर सही नहीं है, क्योंकि विपक्ष ने तो मोदी को हिटलर से लेकर ज़हर की खेती करने वाला, चूहा, मास मर्डरर, दरिंदा, भड़वा, मेंढक, दिमाग़ी रूप से दिवालिया, मौत का सौदागर, बर्बादी लाने वाला, रावण, यमराज, और पागल कुत्ता तक कहा है।

हम, आप, बाकी पूरी दुनिया के समझदार लोग कई बात कई बार बोलते हैं जिनमें से ‘मानवता हुई शर्मसार’ सबसे ज्यादा बार इस्तेमाल होता है। मानवता के शर्मसार होने का एक राजनैतिक समकक्ष भी है जो हम आम लोग और राजनेता भी बार बार इस्तेमाल करते हैं: ‘पॉलिटिक्स हैज़ टच्ड अ न्यू लो’ या राजनीति ने नए न्यूनतम स्तर को छू लिया है। 

अगर ये बात बार-बार कही जा रही हो तो इसका मतलब है कि दिनोंदिन राजनीति गिरती ही जा रही है। राजनीति से यहाँ मतलब नेताओं की बयानबाज़ी से है। हमेशा कोई आकर कुछ ऐसा बोल जाता है कि लगता है इससे बुरा कोई क्या बोलेगा आज के दौर में। ताज़ातरीन बयान है गिरिराज सिंह द्वारा ममता बनर्जी को ‘पूतना‘ और ‘किम जोंग उन‘ कहने का। 

अभी एक ख़बर आई कि गिरिराज सिंह ने ममता बनर्जी को ‘पूतना’ और ‘किम जोंग उन’ कहा है। भाजपा समर्थकों और ममता विरोधियों को ऐसे बयान सुनकर बहुत आनंद मिलने लगता है, लेकिन ऐसे बयानों को बढ़ावा देने से बचना चाहिए। इस तरह के बयान देकर आप कल को मर्यादा और गरिमा नामक शब्द का प्रयोग नहीं कर सकते।

ये बयान कम और बेहूदगी ज़्यादा है। इस तरह के कई बयान भाजपा नेताओं ने कई बार दिए हैं। कभी बेकार की बातों पर पाकिस्तान भेजने की बात, तो कभी ‘रामजादा‘ कहना, भाजपा और सहयोगी दलों के कुछ नेता इस तरह के वाहियात बातें कहने के लिए ही ख्याति प्राप्त करने लगे हैं। ऐसे ही राहुल गाँधी ने राफ़ेल जपने, ‘चौकीदार चोर है‘ कहने से पहले, सर्जिकल स्ट्राइक पर राजनीति करते हुए मोदी को ‘ख़ून की दलाली‘ करने वाला कहा था। 

बात मोदी या भाजपा, राहुल या काँग्रेस की नहीं है। भाजपा ने भी ऐसे ही विचित्र बयान दिए हैं जिससे शर्मसार राजनीति और भी शर्मसार होती चली गई है। सोनिया गाँधी का ‘ज़हर की खेती‘ वाला बयान भी सामने आता है। फिर याद आता है केजरीवाल का ट्वीट जिसमें उन्होंने मोदी को ‘कायर और विकृत मानसिकता वाला‘ (कावर्ड एण्ड अ साइकोपाथ) कहा था। 

इसी श्रृंखला में देखिए तो मोदी द्वारा लिए गए नए-नए नाम, ‘रोज़ जंगलराज का डर‘ (RJD), ‘जनता का दमन और उत्पीड़न‘ (JDU) याद आता है। फिर नितीश का ‘बड़का झूठा पार्टी‘ (BJP) याद आता है। मोदी का मज़े लेकर ‘शहज़ादे‘, ‘50 करोड़ की गर्लफ़्रेंड’, ‘जीजाजी‘ बोलना भी याद आता है। काँग्रेस का मोदी को अपनी ‘माँ और बीबी को छोड़ने वाला‘ कहना आदि याद आता है। बात पार्टी से नेता और फिर एकदम निजी स्तर तक पहुँच गई।

ये क्यों होता है? आज के दौर में इंटरनेट, और आम जनता जो समाचार देखती-पढ़ती है, दो खेमें में बँट जाती है। सब एक विचारधारा पकड़ लेते हैं। एक आदमी या तो राष्ट्रभक्त है, या राजद्रोही। ये दोनों परिभाषाएँ भी ये खुद तय करते हैं। कोई मोदी भक्त है, कोई आपटार्ड है। कोई राहुल गाँधी को पप्पू कहता है, कोई केजरीवाल को युगपुरूष, कोई मोदी को फेंकू। 

बातचीत का स्तर हर दिन गिरता जा रहा है और इसी को हमारे नेता भुना रहे हैं। जहाँ एक गाली देकर काम चल जाए, वहाँ लंबा भाषण क्यों दें? जहाँ सिर्फ चुटकुलेबाजी से काम चल जाए वहाँ कोई विकास के मुद्दे पर क्यों बोलेगा? जहाँ आदमी हिंदू राष्ट्र माँग रहा है वहाँ नवाजुद्दीन के रामलीला से निकाले जाने पर वो क्यों दुखी होगा?

जहाँ लोगों को प्रधानमंत्री की हर बात झूठी लगती है वो आखिर सेना की नीयत पर सर्जिकल स्ट्राइक के विडियो माँगकर संदेह क्यों नहीं प्रकट करेगा? जहाँ ये बोलकर ही काम चल जाए कि मोदी हमें काम करने नहीं देता वहाँ काम करने की क्या जरूरत है क्योंकि आपकी पार्टी के समर्थक तो इसी में ख़ुश हैं! जहाँ लोग ‘पचास हजार करोड़ चइए कि साठ हजार करोड़?’ पर ही ताली पीट ले रहे हों, वहाँ विकास की बात करके क्या मिलेगा?

एक दौर था जब विपक्ष सत्तारूढ़ की इज़्ज़त करता था और उनसे इज़्ज़त पाता था। एक दौर था जब विपक्ष के नेता सत्ता के नेताओं की बड़ाई करते थे, और उन्हें भी वापस में वही सम्मान मिलता था। आज टीवी और सोशल मीडिया के दौर में बड़ा, शक्तिशाली और समझदार वो है जो सामने वाले को सबसे विचित्र और गिरे हुए संबोधनों से नवाजता है। 

आज समर्थक ‘रामजादा’ और ‘साइकोपाथ‘ दोनों को अपने अपने हिसाब से डिफ़ेंड करते हैं क्योंकि उन्हें सामने वाले का कहा गाली लगती है और अपने नेता वाला सटीक चित्रण। आज ज़हर की खेती, ख़ून की दलाली, सूटबूट की सरकार आदि का प्रयोग वो भी कर रहे हैं जिनके हाथ हर तरह के दंगों और सेना से संबंधित घोटालों से सने हैं।

इस तरह के बयानों को अगर ग़ौर से देखें तो पाएँगे कि ये तब आते हैं जब सामने वाला अपनी हार मान चुका होता है। जब सामने वाले को लगता है कि इस चुनाव में बाकी बातों से हमारे लोग हमें वोट नहीं करेंगे तो ‘रामजादा’ आता है। जब अपनी कमी छुपानी होती है तो ‘साइकोपाथ’ आता है। जब अपनी हार सुनिश्चित दिखती है तो ‘ज़हर की खेती’ याद आती है। 

ये जुमले डेस्पेरेशन की पैदाइश हैं। भले ही आप मुझे ‘संदर्भ’ और बाकी बातें समझाने लगें, लेकिन राजनैतिक मर्यादा की बात करने वाले लोगों को, या उनकी पार्टी से जुड़े केन्द्रीय मंत्रियों के इस तरह से किसी भी नेता के लिए बोलना राजनीति नहीं, एक गलत सोच का नतीजा है।

हजार लोग तालियाँ बजा देंगे, सोशल मीडिया पर शेयर भी हो जाएगा, लेकिन फिर राहुल गाँधी द्वारा अपशब्द कहने, आँख मारने, या ‘चोर’ आदि कहने पर आपको मर्यादा और सीमाओं की बात नहीं करनी चाहिए। पब्लिक में नेता क्या बोलता है, क्या करता है, इससे जनता प्रभावित होती है। हो सकता है कि ऐसी ही बातें करते हुए वोट भी मिलते हों, लेकिन इससे राजनैतिक बयानबाज़ी का स्तर नीचे ही गिरता है, और प्रोत्साहन मिलते रहने से वो सुधरने से तो रहा। 

आज के दौर में जब दुनिया स्त्री अधिकारों को लेकर, उनके शोषण आदि को लेकर सजग हो रही है, और उस पर बातें हो रही हैं, तब ऐसी बयानबाज़ी किसी को मदद नहीं पहुँचा सकती। 

ऐसा भी नहीं है कि गिरिराज सिंह ने जो कहा वो संदर्भ बताने पर सही नहीं है, क्योंकि विपक्ष ने तो मोदी को हिटलर से लेकर ज़हर की खेती करने वाला, चूहा, मास मर्डरर, दरिंदा, भड़वा, मेंढक, दिमाग़ी रूप से दिवालिया, मौत का सौदागर, बर्बादी लाने वाला, रावण, यमराज, और पागल कुत्ता तक कहा है। इसके बावजूद, इस तरह की बातें एक केन्द्रीय मंत्री के मुँह से शोभा नहीं देती। 

ख़ास कर तब, जब आपके पास विपक्ष को घेरने के लिए तमाम आँकड़े हैं, तथ्य हैं, और अपनी पार्टी के किए गए कामों की लम्बी फ़ेहरिस्त है। पार्टी को चाहिए कि इस तरह की बयानबाज़ी करने वाले नेताओं पर रोक लगाए, क्योंकि विपक्ष और वामपंथी मीडिया ऐसे बयानों के लेकर उड़ने के लिए बैठा रहता है। जब नैरेटिव बनाने का समय आए तब ऐसी बेकार की बात करते हुए किसी और को बेलने का मौका देना समझदारी तो बिलकुल नहीं। 

ये स्तर कितना नीचे जाएगा कोई नहीं जानता। हो सकता है किसी दिन माँ-बहन की गालियाँ भी सुनने को मिले क्योंकि अब वही बचा है। किसी दिन संसद में मोदी को राहुल चप्पल मार दें, या मोदी राहुल को, ये भी संभव हो सकता है। अब सारी गणना चुनाव को जीतने नहीं, किसी भी तरह जीतने पर आ गई है। अब आपको चुनावी रणनीतिकार के हिसाब से चलना होता है जो कि हावर्ड में पढ़कर आया है, वो आपसे वो भी करवा लेगा जो आपने सोचा भी नहीं होगा।

वो भी सिर्फ एक सवाल के बल पर: आपको चुनाव जीतना है या नहीं?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दीप सिद्धू और गैंगस्टर लक्खा पर FIR दर्ज, नाम उछलते ही गायब हुए पंजाबी अभिनेता सिद्धू

26 जनवरी को दिल्ली के लाल किले में हुई हिंसा के संबंध में पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू और गैंगस्टर लक्खा सिधाना के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

किसानों नेताओं ने हिंसा भड़काई, धार्मिक झंडे लहराए और विश्वासघात किया: दिल्ली पुलिस

गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आन्दोलनकारियों के लाल किले पर उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस आज शाम 8 बजे प्रेस वार्ता कर रही है।

घायल पुलिसकर्मियों ने बयान किया हिंसा का आँखों देखा मंजर: लाल किला, ITO, नांगलोई समेत कई जगहों पर थी तैनाती

"कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुँच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी-डंडों और अन्य हथियारों से हमला कर दिया।"

योगेन्द्र यादव, राकेश टिकैत सहित 37 किसान नेताओं पर FIR: गिरफ्तारी पर कोई बात नहीं

राजधानी में हुई हिंसा के बाद एक्शन मोड में आई दिल्ली पुलिस ने 37 नेताओं पर एफआईआर दर्ज की है। इनमें राकेश टिकैत, डाॅ दर्शनपाल, जोगिंदर सिंह, बूटा, बलवीर सिंह राजेवाल और राजेंद्र सिंह के नाम शामिल हैं।

प्रचलित ख़बरें

लाइव TV में दिख गया सच तो NDTV ने यूट्यूब वीडियो में की एडिटिंग, दंगाइयों के कुकर्म पर रवीश की लीपा-पोती

हर जगह 'किसानों' की थू-थू हो रही, लेकिन NDTV के रवीश कुमार अब भी हिंसक तत्वों के कुकर्मों पर लीपा-पोती करके उसे ढकने की कोशिशों में लगे हैं।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

अब पूरे देश में ‘किसान’ करेंगे विरोध प्रदर्शन, हिंसा के लिए माँगी ‘माफी’… लेकिन अगला निशाना संसद को बताया

दिल्ली में हुई हिंसा पर किसान नेता 'गलती' मान रहे लेकिन बेशर्मी से बचाव भी कर रहे और पूरे देश में विरोध प्रदर्शन की बातें कर रहे।

26 जनवरी 1990: संविधान की रोशनी में डूब गया इस्लामिक आतंकवाद, भारत को जीतना ही था

19 जनवरी 1990 की भयावह घटनाएँ बस शुरुआत थी। अंतिम प्रहार 26 जनवरी को होना था, जो उस साल जुमे के दिन थी। 10 लाख लोग जुटते। आजादी के नारे लगते। गोलियॉं चलती। तिरंगा जलता और इस्लामिक झंडा लहराता। लेकिन...
- विज्ञापन -

 

दीप सिद्धू और गैंगस्टर लक्खा पर FIR दर्ज, नाम उछलते ही गायब हुए पंजाबी अभिनेता सिद्धू

26 जनवरी को दिल्ली के लाल किले में हुई हिंसा के संबंध में पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू और गैंगस्टर लक्खा सिधाना के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

किसान नहीं बल्कि पुलिस हुई थी हिंसक: दिग्विजय सिंह ने दिल्ली पुलिस को ही ठहराया दंगों का दोषी

कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा कि दिल्ली में किसान उग्र नहीं हुए थे बल्कि दिल्ली पुलिस उग्र हुई थी।

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

ट्रैक्टर रैली में हिंसा के बाद ट्विटर ने किया 550 अकाउंट्स सस्पेंड, रखी जा रही है सबपर पैनी नजर

ट्विटर की ओर से कहा गया है कि इसने उन ट्वीट्स पर लेबल लगाए हैं जो मीडिया पॉलिसी का उल्लंघन करते हुए पाए गए। इन अकाउंट्स पर पैनी नजर रखी जा रही है।

वीडियो: खालिस्तान जिंदाबाद कहते हुए तिरंगा जलाया, किसानों के ‘आतंक’ से परेशान बीमार बुजुर्ग धरने पर बैठे

वीडियो में बुजुर्ग आदमी सड़क पर बैठे हैं और वहाँ से उठते हुए कहते हैं, "ये बोलते है आगे जाओगे तो मारूँगा। अरे क्या गुनाह किया है? हम यहाँ से निकले नहीं? हमारे रास्ते में आ गए।"

किसानों नेताओं ने हिंसा भड़काई, धार्मिक झंडे लहराए और विश्वासघात किया: दिल्ली पुलिस

गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आन्दोलनकारियों के लाल किले पर उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस आज शाम 8 बजे प्रेस वार्ता कर रही है।

घायल पुलिसकर्मियों ने बयान किया हिंसा का आँखों देखा मंजर: लाल किला, ITO, नांगलोई समेत कई जगहों पर थी तैनाती

"कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुँच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी-डंडों और अन्य हथियारों से हमला कर दिया।"

बिहार में टेंपो में सवार 2-3 लोगों ने दिनदहाड़े बीजेपी प्रवक्ता को मारी दो गोली: स्थिति नाजुक

कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य ललन प्रसाद सिंह से प्रभार को लेकर डॉ शम्शी का विवाद चल रहा था। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया है।

महाराष्ट्र-कर्नाटक के बीच मराठी भाषी क्षेत्र घोषित हो केंद्र शासित प्रदेश: उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे ने कहा कि कर्नाटक के कब्जे वाले मराठी-भाषी क्षेत्रों को केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया जाना चाहिए, जब तक कि सुप्रीम कोर्ट अपना अंतिम फैसला नहीं दे देता।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
387,000SubscribersSubscribe